रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच, Mercedes-Benz बनी रूसी बाजार छोड़ने वाली चौथी ऑटोमोबाइल कंपनी

By Prerna Bhardwaj
October 28, 2022, Updated on : Sat Oct 29 2022 06:49:23 GMT+0000
रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच, Mercedes-Benz बनी रूसी बाजार छोड़ने वाली चौथी ऑटोमोबाइल कंपनी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच, जर्मनी की मशहूर लग्जरी कार निर्माता मर्सिडीज-बेंज (Mercedes-Benz) ने रूस में अपना कारोबार बंद करने का फैसला कर लिया है. मर्सिडीज ने बुधवार को कहा कि वह रूस छोड़ देगी और अपनी संपत्ति एक स्थानीय निवेशक को बेच देगी. इससे पहले फ्रांसीसी वाहन निर्माता रेनॉ और जापानी ब्रांडों निसान और टोयोटा यह फैसला ले चुकी है. अब मर्सिडीज इस लिस्ट में चौथी कंपनी है जिसने रूस से अपना कारोबार बंद करने का फैसला लिया है. इस निर्णय के परिणामस्वरूप मर्सिडीज को 2 बिलियन यूरो से अधिक की संपत्ति का नुकसान हो सकता है.


रूस के यूक्रेन पर आक्रमण के बाद, मर्सिडीज-बेंज ने मार्च 2022 में मास्को के पास एसिपोवो के प्लांट में उत्पादन को बंद कर दिया था. इस प्लांट का उपयोग ई-क्लास के निर्माण के लिए किया जाता था जिसमें लगभग 1,000 कर्मचारी कार्यरत थे. दोनों देशों के बीच जारी युद्ध के चलते वहां वाहनों की बिक्री में भी गिरावट आई है. एसोसिएशन ऑफ यूरोपियन बिजनेस (एईबी) के अनुसार, मर्सिडीज-बेंज ने जनवरी से सितंबर 2022 तक रूस में 9,558 वाहन बेचे, जो एक साल पहले की तुलना में 72.8 प्रतिशत की गिरावट है.


मर्सिडीज-बेंज रूस (मर्सिडीज-बेंज रूस) ने पुष्टि की है कि स्थानीय सहायक कंपनियों में उसके शेयर कार डीलर चेन एव्टोडॉम (Avtodom) को बेचे जाएंगे. खरीदार मास्को के उत्तर-पश्चिम में मर्सिडीज संयंत्र में कारों का उत्पादन जारी रखने की योजना बना रहा है. मर्सिडीज-बेंज रूस के सीईओ नतालिया कोरोलेवा ने एक बयान जारी कर कहा, "लेन-देन की शर्तों से सहमत होने में मुख्य प्राथमिकता बिक्री के बाद सेवा और वित्तीय सेवा के मामले में रूस से ग्राहकों के लिए दायित्वों की पूर्ति को अधिकतम करना था.  साथ ही साथ कंपनी के रूसी डिवीजनों में कर्मचारियों की नौकरियों को को संरक्षित करना है.”


मर्सिडीज की 15 प्रतिशत हिस्सेदारी रूसी ट्रक निर्माता कंपनी कामाज (Kamaz) में भी है. हालांकि मर्सिडीज का कहना है कि रूस छोड़ने के उसके फैसले से उसकी हिस्सेदारी प्रभावित नहीं होगी और इसे इस साल के आखिर में डेमलर ट्रक (Daimler Truck) में ट्रांसफर कर दिया जाएगा.