अटल न्यू इंडिया चैलेंज के जरिए 200 स्टार्टअप को मिलेगी सहायता: सरकार

By रविकांत पारीक
April 09, 2022, Updated on : Sat Apr 09 2022 05:25:19 GMT+0000
अटल न्यू इंडिया चैलेंज के जरिए 200 स्टार्टअप को मिलेगी सहायता: सरकार
केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने अटल इनोवेशन मिशन के विस्तार को मंजूरी दे दी है। इसके तहत 10,000 अटल टिंकरिंग लैब; 101 अटल इन्क्यूबेशन सेंटर; 50 अटल कम्युनिटी इनोवेशन सेंटर स्थापित किए जायेंगे। इस मिशन पर, सरकार की योजना 2000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च करने की है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने अटल इनोवेशन मिशन (AIM) को मार्च 2023 तक जारी रखने की मंजूरी दे दी है। AIM देश में एक इनोवेशन की संस्कृति और आंत्रप्रेन्योरशिप से संबंधित इकोसिस्टम विकसित करने के अपने अभीष्ट लक्ष्य पर काम करेगा। AIM द्वारा यह काम अपने विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से किया जाएगा।


AIM द्वारा प्राप्त किए जाने वाले अभीष्ट लक्ष्य हैं: 10,000 अटल टिंकरिंग लैब (ATL) की स्थापना करना, 101 अटल इन्क्यूबेशन सेंटर (AIC) की स्थापना करना, 50 अटल कम्युनिटी इनोवेशन सेंटर (ACIC) की स्थापना करना और अटल न्यू इंडिया चैलेंज के माध्यम से 200 स्टार्टअप को सहायता प्रदान करना।


इन सेंटरों की स्थापना और लाभार्थियों को सहायता प्रदान करने की इस प्रक्रिया में कुल 2,000 करोड़ रुपये से अधिक का निर्धारित बजट खर्च किया जाएगा।


अटल इनोवेशन मिशन को केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा वर्ष 2015 के बजट भाषण में की गई घोषणा के अनुरूप नीति आयोग के तहत स्थापित किया गया है। AIM का मुख्य उद्देश्य स्कूल, विश्वविद्यालय, अनुसंधान संस्थानों, सूक्ष्य, लघु एवं मध्यम उद्यमों (MSME) और उद्योगों के स्तरों पर विभिन्न उपायों के माध्यम से देश भर में इनोवेशन और आंत्रप्रेन्योरशिप का एक इकोसिस्टम बनाना और उसे बढ़ावा देना है। AIM ने बुनियादी ढांचे के निर्माण और संस्थानों निर्माण, दोनों पर ध्यान केंद्रित किया है।

atal innovation mission

जैसा कि निम्नलिखित उदाहरणों से स्पष्ट है, AIM ने राष्ट्रीय और वैश्विक, दोनों स्तर पर इनोवेशन से जुड़े इकोसिस्टम को एकीकृत करने की दिशा में काम किया है:


• AIM ने नवाचार और उद्यमिता के मामले में सहक्रियात्मक सहयोग विकसित करने के लिए विभिन्न अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों के साथ द्विपक्षीय संबंध बनाए हैं जिनमें रूस के साथ AIM – SIRIUS छात्र नवाचार विनिमय कार्यक्रम, डेनमार्क के साथ AIM – ICDK (इनोवेशन सेंटर डेनमार्क) वाटर चैलेंज और ऑस्ट्रेलिया के साथ IACE (इंडिया ऑस्ट्रेलियन सर्कुलर इकोनॉमी हैकाथॉन) शामिल हैं।


• AIM ने भारत और सिंगापुर के बीच आयोजित एक इनोवेशन स्टार्टअप समिट, InSpreneur, की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।


• AIM ने डिफेंस इनोवेशन ऑर्गेनाइजेशन, जोकि डिफेंस सेक्टर में इनोवेशन के साथ-साथ खरीद को बढ़ावा दे रहा है, की स्थापना के लिए रक्षा मंत्रालय के साथ भागीदारी की।


पिछले कुछ वर्षों में, AIM ने देश भर की इनोवेशन की गतिविधियों को एकीकृत करने के लिए एक संस्थागत तंत्र प्रदान करने के लिए काम किया है। अपने विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से इसने लाखों स्कूली बच्चों में इनोवेशन के प्रति रुचि पैदा की है। AIM समर्थित स्टार्टअप ने सरकारी और निजी इक्विटी निवेशकों से 2,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटाई है और कई हजार नौकरियां पैदा की हैं।


AIM ने राष्ट्रीय हित के विभिन्न विषयों से संबंधित इनोवेशन की चुनौतियों का भी समाधान किया है। AIM के कार्यक्रमों में 34 राज्यों एवं केन्द्र - शासित प्रदेशों को शामिल किया गया है, जिसका लक्ष्य इनोवेशन से जुड़े इकोसिस्टम में अधिक से अधिक भागीदारी को प्रेरित करते हुए भारत के जनसांख्यिकीय लाभांश का फायदा उठाना है।


केन्द्रीय मंत्रिमंडल द्वारा जारी रखे जाने की मंजूरी मिलने के साथ, AIM के जिम्मे इनोवेशन से संबंधित एक ऐसा समावेशी इकोसिस्टम बनाने का एक और भी बड़ा दायित्व आ गया है, जिसमें इनोवेशन और आंत्रप्रेन्योरशिप की गतिविधियों में संलग्न होना लगातार आसान होता जाए।


Edited by Ranjana Tripathi