महानवमी पर शेयर बाजार में लौटी रौनक, सेंसेक्स 1277 अंक उछला, निफ्टी 17200 के पार

By Ritika Singh
October 04, 2022, Updated on : Tue Oct 04 2022 12:32:15 GMT+0000
महानवमी पर शेयर बाजार में लौटी रौनक, सेंसेक्स 1277 अंक उछला, निफ्टी 17200 के पार
मंगलवार को शुरू से ही शेयर मार्केट में मजबूती दिखी. बाजार खुलने के महज चंद मिनटों में ही सेंसेक्स 1185 अंक तक उछल गया.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

घरेलू शेयर बाजारों (Stock Markets) में मंगलवार को तेजी लौटी और BSE Sensex में 1277 अंकों की बढ़त रही. वैश्विक शेयर बाजारों में सकारात्मक रुख के बीच घरेलू बाजार में तेजी रही. तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 1,276.66 अंक उछलकर 58,065.47 पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान एक समय यह 1,311.13 अंक तक चढ़ गया था. पूरे दिन में सेंसेक्स ने 58,099.94 का उच्च स्तर और 57,506.65 का निचला स्तर छुआ.


सेंसेक्स के तीस शेयरों में से इंडसइंड बैंक, बजाज फाइनेंस, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, बजाज फिनसर्व, HDFC, टाटा स्टील, लार्सन एंड टुब्रो, विप्रो, HDFC बैंक और एक्सिस बैंक प्रमुख रूप से लाभ में रहे. इंडसइंड बैंक सबसे ज्यादा 5.46 प्रतिशत चढ़कर बंद हुआ है. इसके बाद बजाज फाइनेंस है, जिसमें 4.43 प्रतिशत की तेजी आई. सेंसेक्स पर लिस्टेड 30 कंपनियों में से केवल 3 को छोड़ बाकी 27 कंपनियों के शेयर हरे निशान में बंद हुए हैं. पावरग्रिड, सन फार्मा और डॉ. रेड्डीज में गिरावट रही. सेंसेक्स में सोमवार को 638.11 अंक की गिरावट आई थी, जबकि निफ्टी 207 अंक टूटा था.


मंगलवार को शुरू से ही शेयर मार्केट में मजबूती दिखी. बाजार खुलने के महज चंद मिनटों में ही सेंसेक्स 1185 अंक तक उछल गया. हालांकि उसके बाद मामूली उतार-चढ़ाव रहा.

Nifty पर कौन से शेयर चमके

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी (NSE Nifty) 386.95 अंकों की बढ़त के साथ 17,274.30 पर बंद हुआ. निफ्टी पर सभी सेक्टोरल इंडेक्स हरे निशान में बंद हुए हैं. निफ्टी प्राइवेट बैंक और निफ्टी मेटल में 3.1 प्रतिशत से ज्यादा की तेजी दर्ज की गई. निफ्टी पीएसयू बैंक भी लगभग 3 प्रतिशत बढ़त के साथ बंद हुआ. निफ्टी पर इंडसइंड बैंक, अडानी पोर्ट्स, बजाज फाइनेंस, कोल इंडिया, टीसीएस टॉप गेनर्स रहे. दूसरी ओर पावरग्रिड और डॉ. रेड्डीज टॉप लूजर्स रहे.

M&M फाइनेंशियल सर्विसेज 11% चढ़ा

महिन्द्रा एंड महिन्द्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड द्वारा सितंबर तिमाही में लगभग 4080 करोड़ रुपये का डिस्बर्समेंट रिपोर्ट किए जाने के बाद इसके शेयरों में तगड़ा उछाल देखने को मिला. बीएसई पर मंगलवार को कंपनी का शेयर 11.58 प्रतिशत ​की बढ़त के साथ 200.35 रुपये पर बंद हुआ. वहीं एनएसई पर शेयर 11.43 प्रतिशत की तेजी के साथ 200.30 रुपये पर बंद हुआ है.

अमेरिका से आई तेजी की सबसे बड़ी वजह

आज शेयर बाजार में शानदार तेजी की सबसे बड़ी वजह अमेरिका से देखने को मिल रही है. अमेरिकी डॉलर में गिरावट देखी गई है और साथ ही ट्रेजरी यील्ड में भी गिरावट आई है, जिसके चलते भारत का इक्विटी बाजार तेजी के साथ खुला है. बैंकिंग और वित्तीय शेयरों ने शेयर बाजार की तेजी की अगुआई की है.


इसके अलावा एक कारक यह भी है कि त्योहारी सीजन, खासकर अक्टूबर के महीने में हमेशा ही शेयर बाजार शानदार तेजी दिखाता है. इस साल अक्टूबर महीने में महानवमी, दशहरा, धनतेरस, दिवाली, भाईदूज, ईद, करवाचौथ सभी त्योहार पड़े हैं. 2011 से अब तक केवल दो बार ऐसा हुआ है, जब सेंसेक्स ने अक्टूबर माह में निगेटिव रिटर्न दिया है. अक्टूबर इस लिहाज से भी अहम महीना होता है क्योंकि इसी माह से वित्त वर्ष की दूसरी छमाही और तीसरी तिमाही शुरू होती है. उम्मीद की जा रही है कि इस बार भी अक्टूबर का महीना हर साल की तरह शानदार रिटर्न देगा.

वैश्विक बाजार और विदेशी निवेशक भी एक वजह

एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी और जापान का निक्केई लाभ में रहे. अमेरिकी बाजार में तेजी के बाद एशियाई बाजारों में मजबूती रही. अमेरिका में कुछ आर्थिक आंकड़े कमजोर होने से यह संभावना जतायी जा रही है कि फेडरल रिजर्व आक्रामक रूप से ब्याज दर में वृद्धि पर विराम लगा सकता है. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख रहा. अमेरिकी बाजार सोमवार को बढ़त में रहे. इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.78 प्रतिशत चढ़कर 89.55 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया. शेयर बाजार में उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने सोमवार को 590.58 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे.

रुपया 29 पैसे चढ़ा

घरेलू शेयर बाजारों में विदेशी निवेशकों की भारी लिवाली और डॉलर सूचकांक में गिरावट से अमेरिकी मुद्रा की तुलना में रुपया मंगलवार को 29 पैसे चढ़कर 81.53 प्रति डॉलर (अस्थायी) पर बंद हुआ. विदेशी मुद्रा कारोबारियों के अनुसार, वैश्विक बाजारों में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी ने रुपये में मजबूती को सीमित कर दिया. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.66 प्रति डॉलर पर खुला और कारोबार के दौरान 81.36 के उच्चतम स्तर तक गया और 81.66 के निचले स्तर तक आया. अंत में रुपया अपने पिछले बंद भाव के मुकाबले 29 पैसे की मजबूती के साथ 81.53 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. इससे पिछले कारोबारी सत्र में रुपया 81.82 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं के समक्ष डॉलर की मजबूती को आंकने वाला डॉलर सूचकांक 0.49 प्रतिशत गिरकर 111.20 पर आ गया.


हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें