Gautam Adani की तरफ से चुकाया गया 21,700 करोड़ का लोन तो बस पूंछ भर है, अभी तो पूरा हाथी बाकी है

गौतम अडानी ने 21,700 करोड़ रुपये का लोन चुका दिया है. शेयरों के भाव भी तेजी से चढ़ रहे हैं. यूं लग रहा है कि अब सब ठीक हो गया है. शेयर खरीदने से पहले जान लीजिए अभी कंपनी पर कितना कर्ज बाकी है.

Gautam Adani की तरफ से चुकाया गया 21,700 करोड़ का लोन तो बस पूंछ भर है, अभी तो पूरा हाथी बाकी है

Monday March 13, 2023,

5 min Read

अडानी ग्रुप पर लोन (Debt on Gautam Adani Group) का बोझ कितना बड़ा है, इसका अंदाजा पिछले कुछ हफ्तों में हर किसी को लग चुका है. पिछले साल सितंबर के दौरान रेटिंग एजेंसी फिच (Fitch) ग्रुप की एक यूनिट क्रेडिटसाइट (Creditsight) ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि कंपनी पर भारी कर्ज है. यह भी कहा गया था कि ग्रुप की कुछ कंपनियां कर्ज की वजह से डूब सकती हैं. हालांकि, बाद में रेटिंग एजेंसी ने कहा था कि उससे कैल्कुलेशन में कुछ गलती हुई है. इसके बाद 24 जनवरी 2023 को अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग (Hindenburg Research) ने गौतम अडानी (Gautam Adani) पर गंभीर आरोप लगाते हुए एक रिपोर्ट जारी की. इस रिपोर्ट के आने के बाद एक बार फिर से अडानी पर भारी लोन के संकट की बातों पर चर्चा होने लगी है. पिछले करीब डेढ़ महीने में गौतम अडानी की नेटवर्थ (Gautam Adani Net Worth) लगभग एक तिहाई हो चुकी है. ऐसे में अब वह तेजी से अपने लोन चुका रहे हैं. सवाल ये है कि आखिर उन पर कितना लोन था (Loan on Gautam Adani) और अब तक उन्होंने कितना चुका दिया.

अडानी ग्रुप पर कितना लोन?

पिछले ही महीने अडानी ग्रुप की तरफ से निवेशकों को दिखाने के लिए एक प्रजेंटेशन बनाई गई थी. उसके अनुसार अडानी ग्रुप पर करीब 2.21 लाख करोड़ रुपये का लोन (Gross Debt) है. यह लोन 2019 में लगभग 1.11 लाख करोड़ रुपये था. यानी पिछले 4 सालों में अडानी ग्रुप पर लोन का बोझ लगभग दोगुना हो चुका है. वहीं अगर कैश को हटा दें तो बचा हुए लोन (Net Debt) करीब 1.89 करोड़ रुपये है.

निक्केई की रिपोर्ट में कर्ज था बहुत ज्यादा!

हाल ही में निक्केई एशिया ने गौतम अडानी के कर्ज को लेकर एक रिपोर्ट जारी की थी. उसमें दावा किया गया था कि गौतम अडानी पर जो कर्ज है वह भारत की अर्थव्यवस्था के 1 फीसदी से भी ज्यादा है. बता दें कि अक्टूबर 2022 भारत की जीडीपी करीब 273 लाख करोड़ रुपये की थी. निक्केई के अनुसार गौतम अडानी की सभी 10 कंपनियों का कुल कर्ज करीब 3.39 लाख करोड़ रुपये (41.1 अरब डॉलर) तक है. Nikkei ने ये आंकड़े QUICK FactSet से हासिल किए हैं और उसकी कैल्कुलेशन के आधार पर अपनी रिपोर्ट तैयार की है. रिपोर्ट के अनुसार अडानी ग्रुप के असेट्स की वैल्यू करीब 4.8 लाख करोड़ रुपये है. ऐसे में भारी-भरकम कर्ज की वजह से निवेशक चिंता में हैं.

कितना लोन चुका दिया है अडानी ग्रुप ने?

अडानी ग्रुप की तरफ से 2.15 अरब डॉलर के मार्जिन लिंक्ड शेयर बैक्ड फाइनेंसिंग (स्टॉक के बदले लिया गया लोन) का भुगतान समय से पहले कर दिया गया है. इसे चुकाने की आखिरी तारीख 31 मार्च 2023 थी, लेकिन ग्रुप ने इसे समय से पहले ही चुका दिया है. कुछ समय पहले खबर आई थी कि कंपनी ने 902 मिलियन डॉलर का लोन चुका दिया है. साथ ही प्रमोटर्स ने अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड के अधिग्रहण के दौरान लिया गया 500 मिलियन डॉलर का लोन भी चुका दिया है. यानी कुल मिलाकर अडानी ग्रुप की तरफ से 2.65 अरब डॉलर (करीब 21,715 करोड़ रुपये) का लोन चुका दिया गया है.

यह सारा लोन सिर्फ 6 हफ्तों में चुकाया गया है. यानी हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद जब अडानी ग्रुप के शेयरों में गिरावट का सिलसिला शुरू हुआ, उसके बाद से ही ये लोन चुकाने की प्रक्रिया शुरू हुई होगी. अडानी ग्रुप का कहना है कि यह लोन प्रमोटर्स के उस कमिटमेंट को ध्यान में रखते हुए चुकाया गया है, जिसके तहत उन्होंने अपना इक्विटी कॉन्ट्रिब्यूशन बढ़ाने की बात कही थी. रिलीज के अनुसार अब प्रमोटर्स ने अंबुजा सीमेंट और एसीसी के अधिग्रहण की कुल वैल्यू 6.6 अरब डॉलर में से करीब 2.6 अरब डॉलर कंपनी में लगा दिए हैं. यानी प्रमोटर्स ने कंपनी में पैसे बढ़ा दिए हैं, क्योंकि गिरवी रखे शेयर छुड़ा लिए हैं. कंपनी का कहना है यह कदम दिखाता है कि अडानी ग्रुप को कैपिटल की कोई दिक्कत नहीं है और वह आसानी से पैसों का इंतजाम कर सकता है.

चुकाया गया लोन तो बस पूंछ है, पूरा हाथी बाकी है

वैसे तो 2.65 अरब डॉलर यानी करीब 21,700 करोड़ रुपये का लोन चुकाने की खबर काफी बड़ी लग रही है. हालांकि, अगर कुल लोन के साथ इसकी तुलना करेंगे तो यह बहुत ही मामूली रकम है. कंपनी की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक उस पर करीब 2.21 लाख करोड़ रुपये का ग्रॉस लोन है. वहीं 1.89 लाख करोड़ रुपये का नेट लोन है. अगर इसमें से चुकाई गई रकम घटाएं तो भी कंपनी पर करीब 1.67 लाख करोड़ रुपये का नेट लोन बचता है. जो बहुत ही बड़ा आंकड़ा है. ऐसे में देखा जाए तो अडानी ग्रुप की तरफ से चुकाए जा रहे लोन लोगों के बीच कंपनी की अच्छी छवि तो बना रहे हैं, लेकिन अभी भी कर्ज का बोझ बहुत ज्यादा है. अगर निक्केई की रिपोर्ट के हिसाब से देखें तब तो कंपनी पर करीब 3.4 लाख करोड़ रुपये का लोन है. यानी जो लोन चुकाया है वो तो बस पूंछ भर है, अभी तो पूरा हाथी बाकी है.

एक नजर अडानी ग्रुप और गौतम अडानी पर

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद से गौतम अडानी की नेटवर्थ पर बहुत बुरा असर पड़ा है. 23 जनवरी को फोर्ब्स की अरबपतियों की लिस्ट में उनकी नेटवर्थ 130 अरब डॉलर के करीब थी और वह दुनिया के तीसरे सबसे अमीर शख्स थे. अभी गौतम अडानी की नेटवर्थ करीब 48.5 अरब डॉलर है और वह दुनिया के 24वें सबसे अमीर शख्स हैं. एक वक्त ऐसा भी आया था जब उनकी नेटवर्थ गिरते-गिरते 33.5 अरब डॉलर तक चली गई थी और वह अमीरों की लिस्ट में 38वें नंबर तक पहुंच गए थे.