Akasa Air ने पायलटों की सैलरी 60% तक बढ़ाई, दूसरी विमानन कंपनियों की बढ़ने वाली है चिंता

By yourstory हिन्दी
September 12, 2022, Updated on : Tue Sep 13 2022 06:45:00 GMT+0000
Akasa Air ने पायलटों की सैलरी 60% तक बढ़ाई, दूसरी विमानन कंपनियों की बढ़ने वाली है चिंता
Akasa Air ने जिस तेजी से विस्तार की योजना बनाई है, उसके लिए और अधिक पायलटों की जरूरत है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पायलटों को सैलरी देने के मामले में भारत की नई एयरलाइन आकासा एयर (Akasa Air) अग्रणी बनने की ओर आगे बढ़ रही है. यह महामारी के दौरान के उस दौर से बिल्कुल उलट है, जब वैश्विक स्तर पर वेतन में कटौती चल रही थी और छंटनी की जा रही थी. इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में यह बात मामले की जानकारी रखने वाले लोगों के हवाले से कही गई है.


रिपोर्ट के मुताबिक, Akasa Air ने पायलटों के वेतन में औसतन 60 प्रतिशत की वृद्धि की है. कैप्टन्स की सैलरी अक्टूबर से 4.5 लाख रुपये प्रति माह से शुरू होगी, वहीं फर्स्ट ऑफिसर्स की 1.8 लाख रुपये से. यह वर्तमान में क्रमश 2.79 लाख रुपये और 1.11 लाख रुपये है. अनुभव और उड़ान के घंटों के आधार पर वेतन अधिक हो सकता है. कहा गया कि प्रति माह 70 घंटों की अधिकतम सीमा पर एक कैप्टन 8 लाख रुपये कमा सकता है, जो अभी के 6.25 लाख रुपये से लगभग 28 प्रतिशत अधिक है.

अन्य कंपनियों में भी शुरू हो सकती है वेतन वृद्धि

कहा जा रहा है कि कंपनी का यह कदम अन्य विमानन कंपनियों में सैलरी हाइक शुरू कर सकता है ताकि उनके पास पर्याप्त पायलट मौजूद रहें. बेड़े के विस्तार के बीच हवाई यातायात ठीक हुआ है और गल्फ कैरियर्स ने नियुक्ति गतिविधियां शुरू कर दी हैं. आकासा के इस कदम का व्यापक प्रभाव पड़ने की संभावना है क्योंकि अन्य भारतीय विमानन कंपनियों को एट्रिशन को रोकने के लिए वेतन बढ़ाना होगा. अाकासा का वेतन पैकेज मार्केट लीडर इंडिगो द्वारा नवंबर 2022 से अपने कैप्टन्स को दिए जाने वाले वेतन पैकेज की तुलना में 8-10 प्रतिशत अधिक है. इंडिगो में नवंबर से ही वेतन पूरी तरह से रिस्टोर हो जाएगा. महामारी की मंदी के दौरान वेतन में लगभग 28 प्रतिशत की कटौती की गई थी.


ईटी के अनुसार, मामले की जानकारी रखने वाले लोगों ने कहा कि आकासा ने जिस तेजी से विस्तार की योजना बनाई है, उसके लिए और अधिक पायलटों की जरूरत है. एयरलाइन के पास वर्तमान में चार बोइंग 737 मैक्स हैं और मार्च 2023 तक 18 और विमानों को शामिल करने की योजना है. एक एयरलाइन को आमतौर पर प्रति विमान 12 पायलटों की आवश्यकता होती है, जिसमें रिजर्व भी शामिल है.

टाटा ने भी शुरू कर दी है पायलटों की भर्ती

घटनाक्रम से वाकिफ एक शख्स ने कहा कि एयरलाइन को पायलटों का पूल और मजबूत बेंच स्ट्रेंथ बनाने की जरूरत है. टाटा ने विस्तार और पायलटों की भर्ती को शुरू कर दिया है और मध्य पूर्व एयरलाइंस तेजी से भर्ती कर रही है, ऐसे में अधिक पायलटों को आकर्षित करने के लिए वेतन बढ़ाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है. टाटा समूह की योजनाओं में एयर इंडिया का पुनरुद्धार और विस्तारा का विस्तार शामिल है.

चेन्नई-बेंगलुरु मार्ग पर परिचालन शुरू

Akasa Air ने 10 सितंबर से चेन्नई-बेंगलुरु मार्ग पर उड़ानों का परिचालन शुरू कर दिया. इसके साथ ही चेन्नई, एयरलाइन के नेटवर्क में जुड़ने वाला पांचवां शहर बन गया है. एयरलाइन ने बताया कि चेन्नई और बेंगलुरु के बीच प्रतिदिन दो उड़ानें संचालित होंगी. वहीं चेन्नई-कोच्चि मार्ग पर 26 सितंबर से हवाई सेवा शुरू करने की भी योजना है.


आकासा एयर ब्रांड नाम से SNV एविएशन प्राइवेट लिमिटेड भारतीय विमानन सेक्टर में उतरी है. कंपनी के फाउंडर व सीईओ विनय दुबे (Vinay Dube) हैं. Akasa Air की कमर्शियल फ्लाइट्स का परिचालन 7 अगस्त 2022 से शुरू हो गया है. Akasa Air की पहली हवाई सेवा मुंबई-अहमदाबाद रूट पर शुरू हुई. बेंगलुरु-कोच्चि रूट पर Akasa Air की उड़ानें 12 अगस्त 2022 से, बेंगलुरु-मुंबई मार्ग पर 19 अगस्त से, अहमदाबाद और बेंगलुरु के बीच 23 अगस्त से शुरू हुईं. चेन्नई-मुंबई मार्ग पर फ्लाइट्स 15 सितंबर से शुरू होने की बात कही गई है. हाल ही में शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक और आकासा एयर में सबसे बड़े हिस्सेदार राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) का निधन हुआ है. 14 अगस्त को मुंबई में उन्होंने अंतिम सांस ली.


Edited by Ritika Singh