पशुपालकों के लिए क्यों जरूरी है Animall ऐप? जानिए क्या है इसके खास फीचर

By रविकांत पारीक
August 12, 2022, Updated on : Sat Aug 13 2022 13:44:18 GMT+0000
पशुपालकों के लिए क्यों जरूरी है Animall ऐप? जानिए क्या है इसके खास फीचर
YourStory हिंदी की App Review सीरीज़ में आज हम रिव्यू करेंगे Animall ऐप का. यहां हम बताएंगे कि ये ऐप कैसे काम करती है और किस तरह पशुपालक इसके जरिए पशुओं की खरीदने और बेचने से संबंधित जरूरी जानकारी घर बैठे हासिल कर सकते हैं.
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड (NDDB) की वेबसाइट के आंकड़ों पर गौर करें तो, साल 2019 की पशु आबादी के मुताबिक, भारत में पालतु पशुओं की कुल संख्या 535.8 मिलियन है. ऐसे में ग्रामीण भारत में पशुधन - आजीविका और रोजगार का एक बड़ा साधन है. पशुपालक इन पशुओं की खरीदी/बिक्री भी करते रहते हैं. सौदेबाजी के लिए देश में पशु मेले आयोजित करने की प्रथा सदियों से चली आ रही है. लेकिन बदलते जमाने में लुप्त होती जा रही इस प्रथा को अब नए आयाम मिल गए हैं. इसका श्रेय जाता है Animallऐप को.


यूं तो हमारे देश में ई-कॉमर्स स्टार्टअप्स की भरमार है, लेकिन ज़नाब ये कुछ नया है, अलग है. यह ऐप बेंगलुरु स्थित स्टार्टअप Animall Technologies Pvt. Ltd. द्वारा लॉन्च की गई है. कंपनी की स्थापना दिसबंर, 2019 में अनुराग बिसोई, कीर्ति जांगड़ा, लिबिन वी बाबू, नीतू यादव, फूल यादव, राकेश यादव, और संदीप महापात्रा ने की थी.


स्वदेशी Animall ऐप के जरिए देशभर के पशुपालक अपने पालतु पशुओं को ऑनलाइन खरीद और बेच सकते हैं. कंपनी टेक्नोलॉजी, डेटा साइंस और डिजाइन के जरिए डेरी इकोसिस्टम को नई ऊंचाइयों पर ले जाने की राह पर है.


ऐप फिलहाल सिर्फ एंड्रॉयड यूजर्स के लिए है. इसे Google Play Store से डाउनलोड किया जा सकता है, जहां इसे 38,500 रिव्यू के साथ 4.5 स्टार रेटिंग दी गई है. अब तक इस ऐप को 50 लाख से अधिक यूजर्स डाउनलोड कर चुके हैं. तो चलिए अब जानते इस ऐप के खास फीचर्स के बारे में, साथ ही जानेंगे कि कैसे इन फीचर्स को इस्तेमाल किया जाए...


ऐप डाउनलोड करने के बाद आप अपने मोबाइल नंबर दर्ज करेंगे, जिसके बाद एक वन-टाइम-पासवर्ड (OTP) आएगा. इसके बाद आप अपना नाम दर्ज करना है और ऐप को लोकेशन एक्सेस करने की अनुमति देनी होगी. ऐप तुरंत शुरू हो जाएगा. अब आपको अपने आस-पास के एरिया के पशुओं की लिस्ट (तस्वीरों सहित) दिखने लगेगी.

Animall app review

Animall App

ऐप के बॉटम में बाई-डिफॉल्ट होम सेक्शन 'पशु खरीदें' मिलेगा. ऐप के टॉप राइट कॉर्नर में आप यूजर प्रोफाइल आइकन दिखेगा, अपनी भाषा के साथ. यहां आपको बेसिक इन्फॉर्मेशन देनी होगी, जैसे कि फोटो और अपना बायो (अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी). लेकिन ये जरूरी नहीं है. यहां आपको टॉप पर 'ग्राहक सेवा' बटन दिखाई देगा, जिस पर क्लिक करके आप कस्टमर केयर से जुड़ सकते हैं. इसके पास ही आपको 'हिन्दी' (भाषा) की ड्रॉप-डाउन लिस्ट मिलेगी. ऐप वर्तमान में 6 भाषाओं (हिंदी, इंग्लिश, कन्नड़, मराठी, गुजराती और पंजाबी) में काम करती है.


इसके बाद आपको इसी सेक्शन में 'पशु मेला', 'पोस्ट' और 'टिप्पणी' ऑप्शन दिखाई देंगे. इन्हें इनके नाम से ही समझा जा सकता है. अब इसके नीचे दो ऑप्शन और मिलेंगे - 'मेरे पशु' और 'मेरे कॉल्स'.


ऐप के मैन सेक्शन में आपको अपनी लोकेशन दिखाई देगी. इसके नीचे गाय, भैंस, बछिया, पाडी, बैल, भैंसा और अन्य पशु - ऑप्शन दिखाई देंगे. इन पर क्लिक करके इनके बारे में आप अधिक जानकारी हासिल कर सकते हैं जैसे - दुध कितना देती है, ब्यात, और कौनसी नस्ल की है. यहां आपको दूसरे यूजर्स द्वारा लिस्ट किए गए पशुओं की फोटो, वीडियो और उनके बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी. आपको कीमत में दिखाई देगी. आप सौदेबाजी के लिए कॉल करके या WhatsApp के जरिए किसी भी यूजर से संपर्क कर सकते हैं. किसी भी पशु की जानकारी आप अपने दोस्तों, रिश्तेदारों आदि के साथ शेयर भी कर सकते हैं.


'पशु चैट' सेक्शन पर क्लिक करके आप अपने विचार लिख सकते हैं, फोटो और वीडियो अपलोड कर सकते हैं. इसके साथ ही आप पशु स्वास्थ्य के बारे जानकारी हासिल कर सकते हैं.

AnimallAppReview

Animall App का 'पशु चैट' सेक्शन

अगर आप अपना कोई पशु बेचना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको 'पशु बेचें' पर क्लिक करना होगा. यहां आपको अपने पशु के बारे में जानकारी दर्ज करनी होगी.

AnimallAppReview

Animall App का 'पशु बेचें' सेक्शन

अगला सेक्शन 'पशु इलाज' सेक्शन है. यहां आप पशु की बीमारी और इलाज के लिए अनुभवी डॉक्टरों की टीम से संपर्क कर सकते हैं. पशु का दुध कैसे बढ़ायें, हीट में कैसे लाएं - के बारे में भी सलाह ले सकते हैं. हीट में लाना सीखें - इसके लिए 99 रुपये/महीने भुगतान करना होगा. अनलिमिटेड सलाह के लिए ऐप में एक VIP पैकेज ऑफर किया जा रहा है. जहां 3 महीने के लिए 199 रुपये का भुगतान करके डॉक्टर से किसी भी समय बात कर सकते हैं. चैट और वीडियो कॉल पर भी डॉक्टर उपलब्ध होंगे.

AnimallAppReview

Animall App का 'पशु इलाज' सेक्शन

Animall ऐप का आखिरी सेक्शन 'प्रतियोगिता' सेक्शन है. इसमें अलग-अलग प्रतियोगिताएं आयोजित होती रहती है, जिनमें भाग लेकर आप इनाम जीत सकते हैं. इस ऐप में ये सेक्शन क्यों दिया गया है, ये तो कंपनी ही जानें. लेखक को ये ज़रा बेतुक्का लगा. इसी सेक्शन में 'पशु सुविधाएं' फीचर दिया गया है, जोकि बड़े काम का है. यहां भी डॉक्टरों से सलाह, पशुपालक भाइयों के साथ चर्चा करने, पशु की कीमत जानने के लिए रेट कैलकुलेटर, Animall के मेले में पशु बेचने, पशु समाचार, दूध का हिसाब रखने के लिए - दुध पर्ची आदि ऑप्शन दिए गए हैं. अपनी जरुरत के मुताबिक इन्हें यूजर एक्सप्लोर कर सकते हैं.

AnimallAppReview

Animall App का आखिरी सेक्शन 'प्रतियोगिता'

फीचर्स जानने के बाद अब बारी आती है, निष्कर्ष की. निष्कर्ष में हम कहेंगे कि यह ऐप बेहद यूजर फ्रैंडली है. यूजर इंटरफेस अच्छा है, उपयोग में आसान है. ऐप पर पशुओं की जानकारी को वैरिफाई भी किया जाता है. जिससे फ्रॉड के चांस कम हैं. हालांकि लेखक का सुझाव है कि किसी भी पशु को खरीदने/बेचने के लिए लेनदेन करने से पहले स्व-विवेक का इस्तेमाल करते हुए सारे तथ्यों की जांच-पड़ताल स्वंय कर लें. सौदेबाजी के लिए ऐप पर दी गई जानकारी का सहारा जरूर ले सकते हैं, लेकिन शत-प्रतिशत सत्यता का दावा, ऐप भी नहीं करता है. पशुओं की सौदेबाजी के लिए इस ऐप के जरिए किसी भी प्रकार के फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन नहीं किए जाते हैं.


अंत में हम यही कहेंगे कि वाकई देशभर के पशुपालकों के लिए इस ऐप के मायने खास है. आत्मनिर्भर भारत की दिशा में ये ऐप बेहद अनोखा है. शायद ही कभी किसी ने सोचा होगा कि क्या पशुओं को भी कभी 'ऑनलाइन कल्चर' नसीब होगा, लेकिन अब ये हो गया है. इसका सेहरा टेक्नोलॉजी के सिर बांधा जाना चाहिए, जिसके जरिए यह भी संभव हो पाया है.