अमेरिका के मैनहैट्टन में रहने की सोच रहे हैं? पहले जान लें कहां पहुंच चुका है महीने का किराया

By Ritika Singh
July 14, 2022, Updated on : Thu Jul 14 2022 08:36:02 GMT+0000
अमेरिका के मैनहैट्टन में रहने की सोच रहे हैं? पहले जान लें कहां पहुंच चुका है महीने का किराया
जून में लगातार पांचवें महीने नई लीजिंग में महीने-दर-महीने वृद्धि हुई और लगातार सातवें महीने वैकेंसी रेट 2% से कम रही.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पिछले महीने अमेरिका के मैनहट्टन (Manhattan) में किराया लगातार बढ़ते हुए नई रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया. ब्रोकरेज फर्म Douglas Elliman और Miller Samuel Real Estate Appraisers and Consultants की एक रिपोर्ट के अनुसार, मैनहट्टन में एक कोंडो या कूप के लिए किरायेदार द्वारा भुगतान किया जाने वाला मीडियन मासिक किराया जून में बढ़कर 4,050 डॉलर हो गया. यह भारतीय करेंसी में लगभग 323511 रुपये होता है. यह किराया एक साल पहले की तुलना में लगभग 25% अधिक है और लगातार पांचवें महीने एक नया रिकॉर्ड उच्च स्तर स्थापित कर रहा है.


मीडियन मासिक किराया पहली बार मई में 4,000 डॉलर प्रति माह से ऊपर गया था. वहीं एवरेज मासिक किराया जून में 5,058 डॉलर से भी अधिक पर चला गया था. यह एक साल पहले की तुलना में लगभग 30% अधिक है और पहली बार औसत 5,000 डॉलर प्रति माह से ऊपर चला गया है.

वन बेडरूम अपार्टमेंट के लिए कितना किराया

CNN Business की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मैनहैट्टन में जून में तीन-बेडरूम वाले अपार्टमेंट की औसत कीमत 9,469 डॉलर प्रति माह थी, जो एक साल पहले 7,394 डॉलर थी. इस बीच एक बेडरूम की औसत कीमत अभी भी 5,000 डॉलर से कम 4,278 डॉल्र थी, जो एक साल पहले के 3,475 डॉलर से ऊपर थी. निकट अवधि में किराएदारों के लिए थोड़ी राहत की उम्मीद है.

लगातार पांचवें महीने नई लीजिंग बढ़ी

Miller Samuel के प्रेसिडेंट व सीईओ जोनाथन मिलर के अनुसार, मैनहैट्टन में नई लीजिंग गतिविधियां गर्मियों के आखिर तक पीक पर नहीं पहुचेंगी. मिलर का कहना है कि मैनहैट्टन में जून 2022 का मीडियन किराया जून 2019 की तुलना में 14 प्रतिशत ज्यादा है. वहीं एवरेज किराया प्रीकोविड लेवल से 19 प्रतिशत अधिक है. जून में लगातार पांचवें महीने नई लीजिंग में महीने-दर-महीने वृद्धि हुई और लगातार सातवें महीने वैकेंसी रेट 2% से कम रही. एक साल पहले, वैकेंसी रेट 7% के करीब थी.