छोटे निवेश से बड़ा फायदा! मात्र कुछ हजार रुपये के निवेश से शुरू हुआ, यह आयुर्वेदिक स्टार्टअप अब कर रहा है लाखों की कमाई

By रविकांत पारीक
February 17, 2020, Updated on : Thu Apr 08 2021 09:07:32 GMT+0000
छोटे निवेश से बड़ा फायदा! मात्र कुछ हजार रुपये के निवेश से शुरू हुआ, यह आयुर्वेदिक स्टार्टअप अब कर रहा है लाखों की कमाई
विंटेज ब्रांड्स के अलावा कई नए स्टार्टअप भी सामने आए हैं। और उनकी सबसे बड़ी यूएसपी 100% पारदर्शिता है। ऐसी ही एक कंपनी जो उन्हीं सिद्धांतों पर काम कर रही है, वो है आयुर्वेदिक ब्यूटी ब्रांड, जस्ट हर्ब्स (Just Herbs)
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

देश का आयुर्वेदिक क्षेत्र एक बहुत ही प्रमुख क्षेत्र है। भारतीय उद्योग परिसंघ (Confederation of Indian Industry) की रिपोर्ट के अनुसार, देश में आयुर्वेदिक क्षेत्र अब 30,000 करोड़ रुपये का है। आयुर्वेदिक दवाओं, एफएमसीजी से लेकर सौंदर्य उत्पादों तक, भारतीय बाजार में कई बड़े ब्रांडों का शासन है।


k

आरुष चोपड़ा, Just Herbs के CEO



विंटेज ब्रांड्स के अलावा कई नए स्टार्टअप भी सामने आए हैं। और उनकी सबसे बड़ी यूएसपी 100% पारदर्शिता है। ऐसी ही एक कंपनी जो उन्हीं सिद्धांतों पर काम कर रही है, वो है आयुर्वेदिक ब्यूटी ब्रांड, जस्ट हर्ब्स (Just Herbs)


आज के बाजार में, आपको बहुत सारे सौंदर्य उत्पाद मिलेंगे, जो खुद को 100% आयुर्वेदिक, प्राकृतिक और जैविक बताते हैं। लेकिन इनकी वास्तविकता कुछ और ही है। कई ब्रांडों को झूठे दावे करते देखा गया है। इस बात ने वास्तव में जस्ट हर्ब्स जैसे कई स्टार्टअप के लिए ग्राहकों के बीच मार्केट और विश्वास बनाने में काफी समस्या पैदा की है।


शुरूआत

जस्ट हर्ब्स की यात्रा तब शुरू हुई, जब उनकी मां, डॉ. नीना चोपड़ा, जो एक पुरस्कार विजेता जैव रसायनज्ञ (biochemist) थीं, ने उत्तरी भारत के मोहाली में हमारे परिवार के स्वामित्व वाले बगीचे प्रयोगशाला में लोशन और औषधि बनाने के लिए जड़ी बूटियों, पौधों और फूलों का मिश्रण शुरू किया।


क

डॉ. नीना चोपड़ा अपनी प्रयोगशाला में (फोटो क्रेडिट: JustHerbs)

बाद में साल 2013 में, आरुष चोपड़ा ने चंडीगढ़ में जस्ट हर्ब्स के उत्पादों को ऑनलाइन बेचना शुरू किया। लेकिन जल्द ही उत्पादों को लोकप्रियता मिली और मांग बढ़ गई। जिसके बाद, आरुष ने मुंबई, लुधियाना और चंडीगढ़ में आउटलेट खोले।


आरुष कहते हैं,

"हमारा बिजनेस मॉडल अपने ग्राहकों की सुरक्षा, उत्पादों की प्रभावशीलता और इसकी संरचना के पीछे 100% सच्चाई पर आधारित है। इस बात ने उत्पाद को बाजार में और उसके ग्राहकों के बीच अपनी पहचान बना दी है।"


इसके अतिरिक्त, कंपनी सोशल मीडिया के माध्यम से अपने ग्राहकों की प्रतिक्रिया के आधार पर उत्पादों को तैयार करती है और फिर बाजार में लॉन्च करती है। जस्ट हर्ब्स के पास दक्षिण पूर्व एशिया और मध्य पूर्व में वितरक भी हैं।


आरुष आगे बताते हैं,

"हम मानते हैं, एक ऐसे उत्पाद के बीच चयन करना जो आपकी त्वचा के लिए अच्छा हो और जो न केवल आपके स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित हो बल्कि पृथ्वी के लिए भी एक ऐसा विकल्प है जिसे आपको कभी नहीं बनाना चाहिए। आयुर्वेद में हमारी जड़ें हैं, प्राचीन भारतीय पादप-आधारित उपचार प्रणाली (Indian plant-based healing system), और हमारे सभी स्वरूपों में आयुर्वेदिक भैषज्यों (Ayurvedic Bhaishajyas) (ग्रंथों) का अनुसरण है।"


क्यों चुनें जस्ट हर्ब्स ?

जब मैंने भारत में 784 "प्राकृतिक" स्किनकेयर ब्रांडों की गिनती की थी, और जब आप इसे पढ़ते हैं तो कई और लॉन्च किए जाते हैं।


आरुष कहते हैं,

वेलनेस स्पेस में 'गोल्ड-रश (Gold Rush)' है। उपभोक्ताओं की सुरक्षा और स्वास्थ्य के बारे में चिंतित रहने वाले मुनाफे वाले निगम अब अचानक "हरे" और "पर्यावरण के अनुकूल" के रूप में मार्केटिंग वाले उत्पादों की ओर मुड़ गए हैं।
k

Just Herbs के प्रोडक्ट्स

एक ऐसी दुनिया में जहां कोई भी और हर कोई "प्राकृतिक", "कार्बनिक", "आयुर्वेदिक" जैसे शब्दों का उपयोग कर रहा है, इतनी शिथिलता से, कोई व्यक्ति वास्तव में नहीं होने वाले सामान के इतने अच्छे और स्पष्ट से अच्छे को कैसे निकालता है? अच्छा? और कैसे जस्ट हर्ब्स किसी से अलग है?


आरुष कहते हैं,

"हमारा मानना है कि भारतीय सौंदर्य बाजार में तीन बुनियादी चीजों की कमी है ... सुरक्षा, ईमानदारी और प्रभावशीलता।"


  • सुरक्षा : आप अपनी आंखें बंद करके ऐसा कर सकते हैं। जस्ट हर्ब्स से किसी भी उत्पाद को चुनें और आप ध्यान देंगे कि इसमें कोई सल्फेट्स, पैराबेंस, जीएमओ, ब्लीचिंग एजेंट या कोई अन्य कार्सिनोजेनिक या कठोर रसायन नहीं हैं। वास्तव में, अगर किसी घटक के आसपास कोई विवाद है, तो इसके बारे में बहस करने के बजाय कि यह हानिकारक है या अन्यथा, हम बस इसके बारे में रोकेंगे।


  • ईमानदारी : हम full ingredient disclosure में विश्वास करते हैं। भारत में सौंदर्य कंपनियों के लिए अपने उत्पाद लेबल पर सभी सामग्रियों का खुलासा नहीं करना काफी आम है। उत्पादों को केवल लेबल पर उल्लिखित 3-4 प्रमुख अवयवों के साथ कार्बनिक के रूप में जाना जाता है और बाकी सामग्री को "बेस क्यूएस" या "क्लींजिंग बेस" के रूप में दिखाया जाता है।


  • प्रभावशीलता : फैंसी पैकेजिंग, स्लिक विज्ञापन और लम्बे दावे सालों से सौंदर्य उद्योग के प्रमुख मेनू रहे हैं। हमारा मानना है कि इस तरह की रणनीति उत्पाद को बेचने में मदद कर सकती है लेकिन केवल एक बार। यदि कोई उत्पाद परिणाम नहीं देता है, तो यह एक ड्यूड है; कोई फर्क नहीं पड़ता कि पैकेजिंग कितनी सुंदर या शानदार हो सकती है! इसलिए, हमारा ध्यान हमेशा ऐसे उत्पादों को बनाने पर रहा है जो उनकी शुद्धता या उनके द्वारा आधारित आयुर्वेदिक सिद्धांतों से समझौता किए बिना काम करते हैं।


आरुष कहते हैं,

"सुरक्षा, ईमानदारी और प्रभावशीलता के मूल्य हमें परिभाषित करते हैं और हम हर दिन उनके लिए जीने का प्रयास करते हैं। आप उम्मीद कर सकते हैं कि आप इन तीन उत्पादों को प्राप्त कर सकते हैं, जो भविष्य में आप हमसे या इच्छा से खरीदेंगे।"


रूट्स वेंचर (Roots Venture) और एंजेल इन्वेस्टर (Angel Investor) ने उपभोक्ता के बीच जस्ट हर्ब्स की बढ़ती लोकप्रियता को समझा और कंपनी को सीरीज़ ए राउंड में 10 करोड़ 76 लाख रुपये का निवेश प्राप्त हुआ। जस्ट हर्ब्स ने बाजार में बहुत तेजी और विकास हासिल किया है और कंपनी की योजना लंबे समय तक बने रहने की है।


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close