जानिए कैसे झारखंड के दूरदराज के इलाकों में मरीजों की मदद कर रही हैं बाइक एम्बुलेंस

By yourstory हिन्दी
March 05, 2020, Updated on : Thu Mar 05 2020 11:31:30 GMT+0000
जानिए कैसे झारखंड के दूरदराज के इलाकों में मरीजों की मदद कर रही हैं बाइक एम्बुलेंस
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

स्वास्थ सेवाओं में प्रगति के बावजूद अभी भी देश के कई ऐसे इलाके हैं जहां तक एम्बुलेंस का पहुंच पाना लगभग असंभव है। खासतौर से जब बात झारखंड जैसे राज्य की हो जिसके कई दूर दराज के इलाके अभी भी बुनियादी स्वास्थ सेवाओं से वंचित हैं। आंकड़ों के मुताबिक झारखंड स्वास्थ्य संकेतकों में अपेक्षाकृत गरीब राज्य है।


उदाहरण के लिए, झारखंड में नमूना पंजीकरण प्रणाली (SRS) 2018 की रिपोर्ट के अनुसार मातृ मृत्यु दर (MMR) राष्ट्रीय औसत 130 के मुकाबले 165 थी।


बाइक एम्बुलेंस

बाइक एम्बुलेंस (फोटो क्रेडिट: अभिजीत जाधव)



झारखंड में सार्वजनिक स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे और मानव संसाधनों की कमी भी एक चिंता का विषय है खासतौर से ग्रामीण स्थानों में। राज्य में 1,684 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (PHCs) की आवश्यकता है लेकिन इसके विपरीत यहां केवल 330 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (PHCs) ही हैं। इसके अलावा राज्य में सिर्फ तीन मेडिकल कॉलेज शीर्ष विशेषता संस्थानों का प्रतिनिधित्व करते हैं। यहां कि आबादी वन क्षेत्रों में व्यापक रूप से फैली हुई है। कुछ गाँव सुदूर हैं, जिसके चलते स्वास्थ्य और विकास की प्रक्रियाएं प्रभावित होती हैं। कुछ क्षेत्र अतिवाद (extremism) से भी प्रभावित हैं।


राज्य और जिला प्रशासन इन समस्याओं को हल करने के लिए लागत प्रभावी इनोवेशन की कोशिश कर रहे हैं। बाइक एम्बुलेंस का उपयोग करते हुए चतरा जिले में आपातकालीन चिकित्सा देखभाल तक पहुंच एक बदलाव लाने के लिए शानदार पहल कही जा सकती है। जिला प्रशासन ने मोटरसाइकिल या बाइक एम्बुलेंस लॉन्च की हैं।


इस पायलट प्रोजेक्ट के तहत 12 बाइक एम्बुलेंस चालू हैं। ब्रिटिश वॉर इंजीनियरों द्वारा प्रथम विश्व युद्ध में बाइक एम्बुलेंस की शुरुआत की गई थी। भारत में, कई स्थानों पर बाइक एम्बुलेंस परियोजनाएं चल रही हैं।


याद हो कि पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले में हजारों रोगियों की मदद करने के लिए करीमुल हक को 2017 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। उन्होंने अपनी मोटरसाइकिल पर लोगों को अस्पतालों में ले जाकर मदद की थी।


वर्तमान में, चतरा के दो अलग-अलग पीएचसी में एक-एक बाइक एंबुलेंस काम कर रही हैं। फोरेस्ट कवर के अंतर्गत जिले का 60 प्रतिशत आता क्षेत्र है, और कई गाँव अच्छी सड़कों से नहीं जुड़े हैं। बाइक एम्बुलेंस का फायदा यह है कि यह गैर-मोटर योग्य अंदर के क्षेत्रों तक पहुंच सकती है।


बाइक एम्बुलेंस

बाइक एम्बुलेंस (फोटो क्रेडिट: अभिजीत जाधव)

बाइक स्ट्रेचर, मेडिकल किट, ऑक्सीजन सिलेंडर, सलाइन-बॉटल होल्डर, सायरन, रिफ्लेक्टर आदि के साथ तैयार की गई हैं। स्थानीय स्वास्थ्य कर्मचारियों और पंचायत के पास ड्राइवरों के नंबर होते हैं। जब जरूरत होती है, तो वे ड्राइवर से संपर्क करते हैं, और फिर वो ड्राइवर चिकित्सा अधिकारी को रिपोर्ट करता है। ड्राइवर प्राथमिक उपचार में प्रशिक्षित स्थानीय युवा होते हैं।


सकारात्मक पहल

बिना किसी पहले से मौजूद गाइडलाइन्स के अभाव में, चतरा में इस पहल के लिए फंड जुटाने के लिए जटिल नौकरशाही प्रक्रियाओं से निपटना पड़ा। भारत के अन्य हिस्सों में पहले के प्रयास स्थानीय प्रशासन द्वारा अपर्याप्त संसाधनों और स्वतंत्रता की सीमाओं के साथ काम कर रहे थे।


शुरुआती थोक खरीद संसद-सदस्य स्थानीय क्षेत्र विकास योजना (MPLADS) फंड के माध्यम से करते थे। वर्तमान में, पहल को रोगी कल्याण समिति कार्यक्रम और जिला खनिज निधि ट्रस्ट (डीएमएफटी) फंडों से जुटाए गए कुछ ब्याज के जरिए चलाया जा रहा है। सेवा की प्रभावकारिता को बढ़ाने के लिए टीम लगातार डेटा एकत्र कर रही है। बाइक एम्बुलेंस की कीमत लगभग 2.4 लाख रुपये है, जबकि चौपहिया वाहनों के लिए बेसिक लाइफ सपोर्ट के साथ 13 लाख रुपये और एडवांस लाइफ सपोर्ट वाली एम्बुलेंस के लिए 25 लाख रुपये हैं।

 

हालाँकि, कुछ पैरामीटर हैं जहाँ दोनों की तुलना नहीं की जा सकती है। फिर भी, उन्हें फंड की कमी के बावजूद भी आंतरिक क्षेत्रों की सेवा करने की लगाया जा सकता है। पूरक रूप में काम करने वाले दो मॉडलों के उदाहरण भी आए हैं। केवल कुछ महीनों के भीतर, बाइक एम्बुलेंस ने पायलट फेज में 1,000 से अधिक रोगियों की मदद की है।


दुर्गम अस्पतालों तक पहुंचना

चतरा में छह ब्लॉक स्तर के पीएचसी और छह अतिरिक्त पीएचसी अपनी क्षमता से दोगुनी आबादी को सर्व कर रहे हैं। पीएचसी और जिला अस्पताल (डीएच) के बीच की दूरी 12 से 85 किमी तक होती है, जिसकी औसत दूरी 40 किमी है। जहां PHCs ग्रामीणों की प्राथमिक स्वास्थ्य बीमारियों की देखभाल के लिए होता है, वहीं डीएच जटिल स्वास्थ्य समस्याओं या आपात स्थिति के लिए उनकी एकमात्र आशा है।


बाइक एम्बुलेंस (फोटो क्रेडिट: अभिजीत जाधव)

बाइक एम्बुलेंस (फोटो क्रेडिट: अभिजीत जाधव)

वर्तमान में, चतरा जिले में, केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (NHM) के तहत 10 एम्बुलेंस प्रदान की हैं, जिन्हें 108 एम्बुलेंस के रूप में जाना जाता है। राज्य सरकार ने छह स्वास्थ्य ब्लॉकों में से प्रत्येक के लिए छह एम्बुलेंस प्रदान किए हैं। उच्च आवश्यकता वाले स्थानों के लिए डीएमएफटी से दो एम्बुलेंस खरीदे गए हैं।


परिवहन और संबद्ध गतिविधियों के लिए 110 संविदा वाहन हैं, विशेष रूप से मातृ और बाल स्वास्थ्य देखभाल के लिए। इन्हें ममता वाहन कहते हैं, और ये एंबुलेंस नहीं हैं। हालाँकि, एम्बुलेंस की संख्या जरूरत से कम है।


आंकड़े काफी दयनीय हैं। 2019 में राष्ट्रीय रिकॉर्ड के अनुसार, जिले में पीएचसी स्तर पर 667 डॉक्टर होने चाहिए लेकिन इस स्वीकृत संख्या के विपरीत डॉक्टरों के 331 पद रिक्त थे। वहीं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में, स्वीकृत 700 विशेषज्ञ डॉक्टरों के विपरीत 634 पद खाली थे।


हालांकि चतरा जैसी पायलट परियोजनाओं में काफी संभावनाएं हैं। यदि वे सफल होती हैं, तो उन्हें समान भौगोलिक क्षेत्रों में विस्तारित और दोहराया जा सकता है। यहां तक कि अगर वे असफल होते हैं, तो वे ज्ञान प्राप्त करने और भविष्य की पहल पर काम करने में मदद करेंगी।


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें