ऐसे फिल्मी डायलॉग, जो सिखाते हैं रुपये-पैसे से जुड़े अहम सबक

कुछ फिल्मी डायलॉग ऐसे भी होते हैं, जिनमें रुपये-पैसों से जुड़ी सीख छिपी रहती है.

ऐसे फिल्मी डायलॉग, जो सिखाते हैं रुपये-पैसे से जुड़े अहम सबक

Sunday August 21, 2022,

3 min Read

फिल्में हमें एंटरटेन तो करती ही हैं लेकिन कई बार सीख भी दे जाती हैं. कभी यह सीख हमें फिल्म में दिखाई गई किसी सिचुएशन से मिलती है तो कभी फिल्मी डायलॉग्स में जिंदगी के सबक छिपे होते हैं. कुछ फिल्मी डायलॉग ऐसे भी होते हैं, जिनमें रुपये-पैसों से जुड़ी सीख छिपी रहती है. बॉलीवुड फिल्मों में तो ऐसे डायलॉग्स की भरमार है. इस रिपोर्ट में हम आपके लिए चुनकर कुछ ऐसे ही फेमस फिल्मी डायलॉग लेकर लाए हैं, जो आपको वित्तीय सबक भी सिखाते हैं...

'कभी-कभी कुछ जीतने के लिए कुछ हारना भी पड़ता है और हार कर जीतने वाले को बाजीगर कहते हैं'

बाजीगर फिल्म का यह डायलॉग तो आपको याद ही होगा. इसमें छिपी वित्तीय सीख यह है कि उतार चढ़ाव, वेल्थ क्रिएशन की जर्नी का हिस्सा हैं. अगर इन्वेस्टमेंट में बीच-बीच में थोड़ा नुकसान हो जाए तो उससे घबराना नहीं चाहिए. लॉन्ग टर्म में अच्छे रिटर्न के लिए धैर्य रखना जरूरी है और शॉर्ट टर्म के छोटे-मोटे नुकसानों को झेलने के तैयार रहना चाहिए.

'बड़े-बड़े देशों में ऐसी छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं'

फिल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे का यह डायलॉग शेयर मार्केट के उतार-चढ़ाव के साथ एकदम फिट बैठता है. अगर शेयर बाजार में निवेश किया है तो शॉर्ट टर्म के उतार-चढ़ावों से घबराना नहीं चाहिए. इक्विटी मार्केट में ऐसा चलता रहता है. लॉन्ग टर्म की सोचकर चलें.

'आज एक दुआ और मांग लो, आज एक जिंदगी और जी लो, क्या पता कल हो न हो'

फिल्म कल हो न हो का यह डायलॉग सबक देता है कि जिंदगी में अचानक से कुछ भी दुर्भाग्यपूर्ण घटित हो सकता है. हमें इमरजेन्सी सिचुएशन के लिए पहले से प्लानिंग करके रखनी चाहिए, जैसे कि एक इमरजेन्सी फंड बनाना, लाइफ इंश्योरेंस और हेल्थ इंश्योरेंस को नजरअंदाज न करना आदि. एक सीख यह भी छिपी है कि बचत और निवेश को कल के भरोसे नहीं टालना चाहिए. इसे जितना जल्दी हो सके, शुरू कर देना चाहिए.

'नजदीकी फायदा देखने से पहले दूर का नुकसान सोचना चाहिए'

यह डायलॉग फिल्म सरकार का है. इसमें सबक छिपा है कि किसी भी सेविंग या निवेश विकल्प में शॉर्ट टर्म फायदे पर फोकस करते वक्त यह देख लेना चाहिए कि कहीं लॉन्ग टर्म में नुकसान तो नहीं होगा. कई लोग शॉर्ट टर्म के फायदे से खुश होकर निवेश विकल्प से पैसा जल्दी निकाल लेते हैं. हो सकता है कि ऐसा करना आगे चलकर लॉस करा दे. इसलिए शांत दिमाग से और हर पहलू पर गौर करने के बाद फैसले लेने चाहिए.

'पैसा, पैसे को खींचता है'

फिल्म जन्नत के इस डायलॉग में छिपी वित्तीय सीख यह है कि पैसे से ही पैसा बनाया जा सकता है. आपको यह पता करने की जरूरत है कि अपने पैसे को खुद के काम में किस तरह से लाया जाए कि यह फायदे का सौदा साबित हो.

'लाइफ में सबसे बड़ा रिस्क होता है कभी कोई रिस्क नहीं लेना'

बर्फी फिल्म का यह डायलॉग सिखाता है कि सपनों और लक्ष्यों को पूरा करना है तो हाथ पर हाथ रखकर बैठने से काम नहीं चलेगा. साथ ही यह भी कि आगे बढ़ने के लिए अपने कंफर्ट जोन से बाहर आकर रिस्क लेना जरूरी है. उदाहरण के तौर पर अगर आप अपनी सेविंग्स को सही विकल्प में इन्वेस्ट नहीं करेंगे और इसे यूं ही पड़ा रहने देंगे तो महंगाई आपकी सारी सेविंग्स चट कर जाएगी.