Budget 2024: टैक्स की दरों में कोई बदलाव नहीं, औसत GST कलेक्शन दोगुना हुआ- वित्त मंत्री

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि फिलहाल 7 लाख रुपये की कमाई तक कोई टैक्स नहीं लिया जा रहा है. बीते 10 साल में आईटी रिटर्न भरने वालों की संख्या में 2.5 गुना बढ़ी है. बीते कुछ सालों में रिफंड जारी करने में भी तेजी आई है.

Budget 2024: टैक्स की दरों में कोई बदलाव नहीं, औसत GST कलेक्शन दोगुना हुआ- वित्त मंत्री

Thursday February 01, 2024,

2 min Read

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने आज, 1 फरवरी को लोकसभा में वित्त वर्ष 2024-25 के लिए अंतरिम बजट (Interim Budget) पेश किया.

वित्त मंत्री ने कहा, "सरकार प्राइवेट सेक्टर को मार्केट से ज्यादा पैसे जुटाने का मौका देगी. सरकार FY26 तक फिस्कल डेफिसिट 4.5 फीसदी पर लाने का प्रयास करेगी. GST की वजह से इंडस्ट्री पर कांप्लायंस का बोझ घटा है. औसत GST कलेक्शन दोगुना हुआ. मामले वापस लेने से 1 करोड़ टैक्सपेयर्स को फायदा होगा. पिछले 5 सालों में करदाताओं की सुविधाएं बढ़ाई गई हैं. इनकम टैक्स स्लैब में नहीं हुआ कोई बदलाव. जनसंख्या की चुनौतियों पर विचार के लिए पैनल का गठन होगा. 'विकसित भारत' का पूरा रोडमैप जुलाई के आम बजट में दिया जाएगा."

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, "राजकोषीय घाटा 5.1 फीसदी रहने का अनुमान है. 44.90 करोड़ रुपए का खर्च है और 30 लाख करोड़ का रेवन्यू आने का अनुमान है. 10 साल में इनकम टैक्स कलेक्शन तीन गुना बढ़ गया है. मैंने टैक्स रेट में कटौती की है. 7 लाख की आय वालों को कोई कर देय नहीं है. टैक्स का विवेकपूर्ण इस्तेमाल हुआ है. 2025-2026 तक घाटा को और कम करेंगे. FY24 संशोधित वित्तीय घाटा GDP का 5.8%, FY25 वित्तीय घाटा GDP का 5.1% रहने का अनुमान, FY26 तक वित्तीय घाटा 4.5% तक लाने का लक्ष्य, सरकार बाजार से उधारी घटाएगी, निजी क्षेत्र को बाजार से ज्यादा पैसे जुटाने का मौका देगी, FY25 में नेट 11.75 लाख करोड़ रुपए उधारी का लक्ष्य."

निर्मला सीतारमण ने कहा कि फिलहाल 7 लाख रुपये की कमाई तक कोई टैक्स नहीं लिया जा रहा है. बीते 10 साल में आईटी रिटर्न भरने वालों की संख्या में 2.5 गुना बढ़ी है. बीते कुछ सालों में रिफंड जारी करने में भी तेजी आई है. कॉर्पोरेट टैक्स घटाकर 22 प्रतिशत कर दिया है.

वित्त मंत्री ने कहा कि पहले के मुकाबले अब कर विवादों को सुलझाने में और आसानी होगी. हमारी सरकार के लिए इसके लिए लगातार काम कर रही है. हमारी सरकार 2014 से पहले अव्यवस्था को लेकर एक श्वेत पत्र आएगा. निर्मला सीतारमण ने कहा कि हम इनकम टैक्स को भरने की प्रक्रिया को और आसान करने जा रहे हैं. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, हमने अंतरिम बजट की परंपरा को जारी रखा है.