अपने स्मार्ट गद्दे के साथ शिशुओं के लिए अच्छी नींद सुनिश्चित कर रहा है यह स्टार्टअप

1st Jul 2020
  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

मुंबई आधारित नैपनैप का दावा है कि यह अपने उत्पादों के माध्यम से माता-पिता की चुनौतियों को हल करने पर केंद्रित है। इसका प्रमुख उत्पाद, नैपनैप मैट एक माँ के गर्भ की नकल करता है, जो नवजात शिशु के लिए एक अच्छी नींद सुनिश्चित करता है।

नैपनैप टीम

नैपनैप टीम



किसी भी नए माता-पिता के लिए नींद बहुत महत्वपूर्ण है, सिर्फ अपने लिए नहीं बल्कि अपने नवजात शिशु के लिए भी। अध्ययनों से पता चलता है कि शिशुओं की संज्ञानात्मक वृद्धि के लिए एक अच्छी रात की नींद बेहद महत्वपूर्ण है और रात की अच्छी नींद पाने के लिए गद्दा (मैट्रेस) एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।


इस समस्या को दूर करने के लिए, समीर अग्रवाल, स्वप्निल राव, अनीषा पिल्लई और दीपक गुप्ता ने 2017 में नैपनैप की स्थापना की। मुंबई स्थित स्टार्टअप एंड-टू-एंड कंज्यूमर प्रोडक्ट्स कंपनी है, जो ग्लोबल मदरकेयर और बेबी केयर सेगमेंट पर केंद्रित है।


संस्थापकों के अनुसार इसका प्रमुख उत्पाद नैपनैप मैट है, जो एक पोर्टेबल बेबी गद्दा है, जो शिशुओं को शांत करने के लिए कंपन और व्हाइट नोइज के सटीक संयोजन का उपयोग करके मां के गर्भ की नकल करता है और उन्हें मिनटों के भीतर सोने के लिए सुस्त कर देता है।

टीम और यात्रा

समीर बिक्री और व्यवसाय विकास, संचालन और वित्त में 12 से अधिक वर्षों के अनुभव के साथ आते हैं। नैपनैप मैट की स्थापना से पहले उन्होंने आर्टशुड टेम्प्ट और क्लासहोपर की सह-स्थापना की थी। स्वप्निल को उत्पाद विकास, ब्रांड निर्माण और मार्केटिंग में 12 वर्षों का अनुभव है। नैपनैप मैट की स्थापना से पहले स्वप्निल ने मोबिज़न मीडिया और ट्रांसह्यूमन कलेक्टिव की सह-स्थापना की।


दीपक को क्वालिटी एंड सिस्टम इंजीनियरिंग में 12 वर्षों का अनुभव है। उन्होंने पहले फ्यूचर फाउंड्री की स्थापना की थी, जो एक उत्पाद डिजाइन फर्म थी। अनीशा इंजीनियरिंग, लीडरशिप और जनरल मैनेजमेंट में आठ साल से अधिक का अनुभव रखती हैं। उन्होने जेबीआईएमएस से एमबीए किया है और पहले जेपी मॉर्गन के साथ काम किया है।





समीर और स्वप्निल को इसे शुरू करने का शुरुआती विचार तब मिला जब उन्हे उनके एक दोस्त का बच्चा नींद पूरी न होने के चलते तड़पता हुआ दिखाई दिया।


समीर कहते हैं, “हम उनकी मदद करना चाहते थे और हमने समाधान ढूंढना शुरू कर दिया। खुद इंजीनियर और प्रोडक्ट डिज़ाइनर होने के नाते हम काम करने के लिए सीधे तैयार हो गए और एक महीने के भीतर ही नेपनैप मैट का पहला प्रोटोटाइप तैयार किया और यह काम कर गया। बच्चे में जल्द ही एक स्वस्थ नींद की दिनचर्या विकसित हुई। बाद में सौ से अधिक माता-पिता से मिली प्रतिक्रिया के बाद हमने नेपपैप मैट लॉन्च किया।"

एक बार जब उन्हें यह विचार आया, तो वे दीपक गुप्ता और अनीशा पिल्लई के पास पहुँचे, जो उनके इंजीनियरिंग के क्लासमेट थे। टीम उत्पाद डिजाइन के साथ डबिंग कर रही थी और उन्होंने वैज्ञानिक डेटा के आधार पर उत्पाद को इंजीनियर करने का फैसला किया।


समीर कहते हैं, “हम चारों ने पहले कुछ प्रोटोटाइप बनाए और अपने पहले कर्मचारी को काम पर रखने से पहले बाजार में परीक्षण का शुरुआती दौर किया। एक बार जब हमारे पास बाज़ार की स्वीकृति हुई और उत्पाद उड़ान भर रहा था, तो हमें प्रतिभाओं को आकर्षित करने के लिए कड़ी मेहनत करने की ज़रूरत नहीं थी।”

अब ये 16 लोगों की टीम में काम कर रहे हैं।




चुनौतियाँ

हालांकि देश में कई गद्दा ब्रांड हैं, लेकिन भारतीय पारिस्थितिकी तंत्र में कंपन-चिकित्सा-आधारित शिशु बिस्तर की अवधारणा नई है।


इसलिए एक नई श्रेणी बनाना और एक नैपनैप मैट का उपयोग करने के लाभों के बारे में जनता को शिक्षित करना शुरुआती महीनों में टीम द्वारा सामना की गई सबसे बड़ी बाधाओं में से एक थी।


समीर के अनुसार, इसके अलावा, उपभोक्ता उत्पाद कंपनियों को उच्च पूंजी की आवश्यकता होती है और यह तब भी अधिक होता है जब कोई व्यक्ति आर एंड डी के लिए कुछ पूरी तरह से नया संसाधन बनाता है क्योंकि इसके लिए कोई संदर्भ बिंदु नहीं है। इसलिए शुरू में बाजार में एक एमवीपी बनाने के लिए पूंजी का प्रबंधन करना काफी चुनौती भरा था।

उत्पाद

जब बच्चा अभी भी गर्भ में है, तो वह माँ के शरीर की प्रक्रियाओं की आवाज़ और कंपन के आदी हो जाता है और जब बच्चा पैदा होता है, तो वह अचानक किसी अपरिचित क्षेत्र में होता है।


तापमान, गति और अपरिचित ध्वनि में कोई भी छोटा सा बदलाव शिशु को बेहद असहज महसूस कराता है और शिशु परेशान होने के कारण रो कर प्रतिक्रिया देता है और इसलिए उसके लिए सो जाना मुश्किल होता है।


समीर कहते हैं, “नेपनैप मैट जादू की तरह काम करता है जब आप अपने बच्चे को सोने के लिए इसपर लिटाते हैं, यह सुखदायक लयबद्ध गतियों का उत्सर्जन करता है और गर्भ में पर्यावरण का अनुकरण करने के लिए व्हाइट नोयज़ उत्पन्न करता है। इससे बच्चे की सांस लेने में भी आसानी होती है, जिससे उन्हें और आराम मिलता है। उनके पक्ष में एक वयस्क के साथ बच्चा पर्यावरण में सुरक्षित महसूस करता है और गहरी नींद में बह जाता है।”

उत्पाद एक वर्ष तक के बच्चों के लिए सबसे अच्छा काम करता है। स्टार्टअप दावा करता है कि गद्दा सांस लेने में सुधार करता है, नींद बढ़ाता है, रोना कम करता है, पेट का दर्द कम करता है और यह यात्रा के अनुकूल होने के साथ ही सुरक्षित भी है। इसका उपयोग कार की सीट, खटिया, एक्टिविटी मैट, बेसिनेट आदि में किया जा सकता है।

बाजार और प्रमाणपत्र

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, भारत का गद्दा बाजार 10,000 करोड़ रुपये का है। Cuddl, SleepyCat, Wink & Nod और Sunday Mattress जैसे स्टार्टअप सभी गंभीरता से अपने उत्पादों के निर्माण के लिए उन्नत तकनीक और कच्चे माल का उपयोग कर रहे हैं। इस स्पेस में स्लीप कंपनी और सिकोइया-समर्थित वेकफिट भी है।





अमेज़ॅन, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील और शॉपक्लूज़ जैसे क्षैतिज बाज़ार स्थान भी ब्रांडेड और अनब्रांडेड गद्दे प्रदान करते हैं।


समीर कहते हैं, “स्मार्ट, इंटर-कनेक्टेड उत्पादों के एक पारिस्थितिकी तंत्र के साथ नैपनैप फिर से परिभाषित कर रहा है कि कैसे प्रौद्योगिकी और डेटा भविष्य में पालन-पोषण में सक्षम होंगे। एक समय में एक पेरेंटिंग समस्या को हल करके नैपनैप इस बदलाव का नेतृत्व कर रहा है। यह सिंगल मदर्स साथ काम करता है और उन्हें सभी रूपों में (केवल पैसा नहीं) धन उत्पन्न करने के लिए एक मंच देता है।”


नैपनैप मैट आईएसओ 9001-2015 प्रमाणित है और सीपीएससी द्वारा अनुमोदित प्रयोगशाला द्वारा प्रमाणित भी है और इसे 0-2 वर्ष के शिशुओं के लिए सुरक्षित माना जाता है। यह शिशुओं के लिए ब्रिटिश सुरक्षा मानकों को भी पूरा करता है।

राजस्व और भविष्य

स्टार्टअप ने लॉन्च के पहले साल में 10X की वृद्धि का दावा किया है। इसका औसत ऑर्डर मूल्य 2,000 रुपये है और इसका एआरआर 2 करोड़ रुपये है, जिसमें 66 प्रतिशत की सकल मार्जिन है।


नैपनैप के छह उत्पाद पाइपलाइन में हैं, भारत में सभी ऑनलाइन मार्केटप्लेस पर उपलब्ध है, जिसमें अमेज़ॅन और फर्स्टक्राई शामिल हैं। इसने भारत के बाहर के बाजारों, जैसे कि दुबई और ऑस्ट्रेलिया में भी अपनी उपस्थिति का विस्तार किया है और जल्द ही ब्रिटेन में परिचालन शुरू करने की योजना बना रहा है।


समीर कहते हैं, "चूंकि हम डायरेक्ट-टू-कस्टमर हैं, इसलिए हम एमआरपी को काफी कम रख सकते हैं और चैनल मार्जिन में बहुत अधिक गुणवत्ता वाले उत्पाद पहुंचा सकते हैं।"


नैपनैप ने थिनक्यूबेट वेंचर्स एलएलपी और हैचर प्लस की अगुवाई में एक प्री सीड राउंड उठाया है। यह वर्तमान में एक सीड दौर बढ़ाने की ओर देख रहा है।


टीम का लक्ष्य अगले कुछ वर्षों में दुनिया की सबसे बड़ी बेबी मैट्रेस कंपनी बनना है। इसका उद्देश्य प्रौद्योगिकी, डिजाइन और इनोवेशन का उपयोग करके दुनिया भर में शिशुओं को शांत करना है। इसका उद्देश्य नैपनैप मैट और नैपनैप नर्सिंग कवर के लिए भारतीय बाजार को समेकित करना है।


समीर कहते हैं, "हमारा उद्देश्य यूएई, यूके और ऑस्ट्रेलिया के बाजार में तेजी से आगे बढ़ने के साथ नैपनैप गद्दा का वर्जन 2.0 लॉन्च करना, शुशर+ (व्हाइट नोयज़ डिवाइस) को लॉन्च करना और परिधीय उत्पादों (स्वैडल, फीडिंग बोतल और प्यूरीफायर) को भी लॉन्च करना है।”


Want to make your startup journey smooth? YS Education brings a comprehensive Funding Course, where you also get a chance to pitch your business plan to top investors. Click here to know more.

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

Our Partner Events

Hustle across India