कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए IIT और स्टैनफोर्ड के पूर्व छात्रों ने डेवलप की खास मशीन, जानिए कैसे करती है काम

By Rashi Varshney
April 03, 2020, Updated on : Fri Apr 03 2020 05:31:30 GMT+0000
कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए IIT और स्टैनफोर्ड के पूर्व छात्रों ने डेवलप की खास मशीन, जानिए कैसे करती है काम
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया भर में 7 लाख से ज्यादा लोग नोवेल कोरोनोवायरस से संक्रमित हैं और इस वायरस के चलते लगभग 40,000 से ज्यादा लोगों की जानें जा चुकी हैं। इस विपरीत समय में पूरी दुनिया बीमारी का इलाज खोजने में लगी है। इस बीच दिल्ली स्थित परसैपियन इनोवेशन (PerSapien Innovation) बीमारी के प्रसार का मुकाबला करने के लिए 'एयरलेंस माइनस कोरोना' (Airlens Minus Corona (-Corona) नामक एक मशीन लेकर आया है।


Airlens minus Corona

Airlens minus Corona



स्टैनफोर्ड युनिवर्सिटी के रिसर्चर देबायन साहा और शशि रंजन द्वारा 2017 में शुरू किए गए, परसैपियन का दृढ़ता से मानना है कि अच्छा स्वास्थ्य प्रत्येक (Per) इंसान (Sapien) का जन्मसिद्ध अधिकार है।


शशि कहते हैं, मशीन एक "रोबो सैपियन" (एक मानव जैसी मशीन) की तरह है जो चार्ज्ड /आयोनाइज्ड (ionised) वॉटर ड्रॉपलेट्स के मकैनिज्म पर काम करती है। यह वॉटर ड्रॉपलेट्स कोरोना डिस्चार्ज का उपयोग करके आयोनाइज्ड किया गया होता है। मशीन आयोनाइज्ड वॉटर ड्रॉपलेट्स को फैलाती है, जो बदले में वायरल प्रोटीन को ऑक्सीकरण करती है, और इस तरह इसे एक गैर-हानिकारक अणु (molecule) में बदल देती है। इसे ऐसे समझें- 'कोरोना डिस्चार्ज' का उपयोग करके पानी की बूंदों को आयनित किया जा सकता है। ऐसे आयनित पानी की बूंदें वायरल प्रोटीन के ऑक्सीकरण में गैर-हानिकारक अणुओं में मदद कर सकती हैं।


शशि बताते हैं,

“सरल शब्दों में, आप कह सकते हैं कि अत्यधिक दबाव वाला पानी (highly pressurised water) + हाई वोल्टेज बिजली = माइक्रो / नैनो हाइली आयोनाइज्ड वॉटर ड्रॉपलेट्स। इसका परिणाम यह है कि ये पानी की बूंदें सूक्ष्मजीवों की प्रोटीन संरचना को ऑक्सीकरण करती हैं, जिससे उनकी मृत्यु हो जाती है।”


देबयान कहते हैं कि एल्कोहल (जैसे इथेनॉल या आईपीए) को उनके प्रोटीन कोट को डिक्टेट करके वायरस को इनएक्टिवेट अर्थात निष्क्रय करने के लिए जाना जाता है। लेकिन अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइजर छोटे पैमाने पर उपयोग होते हैं। उदाहरण के लिए, यह व्यक्तियों के लिए अपने हाथों को साफ करने के लिए उपयोगी है, और घर, ऑफिस, आदि के फ्लोर को साफ करने के लिए भी उपयोगी है।


वे कहते हैं,

"लेकिन, यह इस तरह की आपात स्थिति में अपर्याप्त है, और शहरों की स्वच्छता के लिए शराब का उपयोग करना भी अव्यावहारिक है। इस प्रकार, एक बड़े पैमाने पर वायरस का मुकाबला करने के लिए, पूरे शहर को स्वच्छता की आवश्यकता है, जिसके लिए एयरलेंस माइनस कोरोना (-कोरोना) बनाया गया है।"





यह मशीन गलियों में भी जा सकती है और शहर में वायरस के प्रसार से बचने के लिए अस्पतालों, बस स्टॉप, रेलवे स्टेशनों, बाजारों आदि जैसी भीड़-भाड़ वाली जगहों को टारगेट बनाते हुए आयनीकृत पानी की बूंदों का छिड़काव कर सकती है।


वे बताते हैं,

“मैंने नेशनल युनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर में किए एक साइंटिफिक रिसर्च में काफी गहराई से जाने के बाद यह महसूस किया कि ऑक्सीकरण सबसे शक्तिशाली रोगाणुरोधी औजारों में से एक है जो पूरे शहर को कीटाणुरहित बनाना कर सकता है। कोरोनोवायरस का ऑक्सीकरण व उसे खत्म करने वाले सबसे शक्तिशाली ऑक्सीडेटिव एंटिटीज हाइड्रॉक्सिल रेडिकल्स का निर्माण करते हुए हमारी टेक्नोलॉजी वॉटर ड्रॉपलेट्स को चार्ज करने के लिए इलेक्ट्रिक एनर्जी और वॉटर एटमाइजेशन का एक इष्टतम संयोजन का उपयोग करती है।"

कॉमर्शियल प्रोडक्ट नहीं

इस स्टार्टअप को गैस अथॉरिटी इंडिया लिमिटेड (गेल) और यस बैंक फाउंडेशन द्वारा वित्त पोषित किया गया है। संस्थापकों के अनुसार, स्टार्टअप अपने आविष्कार से व्यापारिक लाभ प्राप्त करने की ओर नहीं देख रहे हैं। यहां तक कि, सह-संस्थापक यह दावा करते हैं कि डिवाइस कॉमर्शियल सेल के लिए नहीं है, और वे अपनी वेबसाइट पर इस टेक्नोलॉजी को ओपन रखने की योजना बना रहे हैं ताकि कोई भी अपनी खुद की डिवाइस स्वयं बना सके।


देबयान कहते हैं, एयरलेंस माइनस कोरोना एक व्यावसायिक उत्पाद नहीं है, बल्कि यह कोरोनोवायरस के खिलाफ मानवता की सेवा करने के लिए बनाया गया है। डिवाइस उपयोग और तैनाती के लिए तैयार है, और वर्तमान में स्टार्टअप संबंधित ऑपरेटर्स के साथ बातचीत कर रहा है।


शशि बताते हैं,

“भारत में घातक स्थिति को देखते हुए, वायरस द्वारा बनाए गए खतरे को रोकने के लिए, सरकारी अधिकारियों को ऐसी तकनीक की आवश्यकता होगी। इसलिए, जहां पूरा देश वायरस से लड़ने के लिए एकजुट हो गया है, तो हम भी वायरस के प्रसार की जांच के लिए सरकार को एयरलेंस माइनस कोरोना तकनीक देकर योगदान देना चाहेंगे।"


संस्थापकों का कहना है कि वे पहले ही डिवाइस का परीक्षण कर चुके हैं, और परीक्षण सकारात्मक निकला। सफल परिणामों को देखने के बाद, वे सार्वजनिक स्थानों को स्टेरलाइज करने को लेकर डिवाइस को इंप्लीमेंट करने के लिए सरकार के संपर्क में रहे हैं।




फाउंडिंग टीम

देबायन साहा ने आईआईटी खड़गपुर से अपना बीटेक पूरा करने के बाद एक ड्रोन डेवलपमेंट सेक्टर में काम किया। वे कहते हैं, घटनाओं के एक दिलचस्प मोड़ ने उन्हें स्टैनफोर्ड युनिवर्सिटी, कैलिफोर्निया में ग्लोबल बायोडिजाइन फेलोशिप लेने के लिए प्रेरित किया, जहां उन्होंने अमेरिकी स्वास्थ्य प्रणाली के लिए कुछ मेडिकल डिवाइसेस का आविष्कार किया।


स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में घर में प्रभाव पैदा करने के लिए, वह भारत लौट आए और नई दिल्ली में एम्स में शामिल हो गए, जहां उन्होंने एसआईबी फेलो के रूप में वायु प्रदूषण पर काम करना शुरू कर दिया। यहां उनके मेंटॉर एम्स के निदेशक, और एक टेक्नोलॉजी के सह-आविष्कारक पद्मश्री प्रो रणदीप गुलेरिया रहे।


वहीं शशि रंजन ने बीआईटी मेसरा से बायोटेक्नोलॉजी में इंजीनियरिंग की डिग्री के साथ अपने तकनीकी करियर की शुरुआत की। उन्होंने नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर से बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में पीएचडी की उपाधि हासिल की, और नेचर कम्युनिकेशंस जैसी प्रतिष्ठित पीयर रिव्यू मैग्जीन्स में विभिन्न शोध प्रकाशनों का लेखन किया और अपनी तकनीकों का पेटेंट कराया।


k

(L-R) देबायन साहा और शशि रंजन, PerSapien Innovation के कॉ-फाउंडर्स

शशि कहते हैं, वह लोगों की मदद करने के लिए अपने शोध का उपयोग करने के लिए बेहद उत्सुक हैं। वह स्टैनफोर्ड के बायोडिजाइन फेलोशिप में देबयान से मिले थे। स्टैनफोर्ड यनिवर्सिटी में अपने प्रवास के दौरान, उन्होंने पेसमेकर लीड डिसॉलॉगमेंट की समस्या को हल करने के लिए एक इनोवेटिव और किफायती मेडिकल डिवाइस डेवलप की। भारत लौटने के बाद, उन्होंने वायु प्रदूषण को सभी के जीवन को प्रभावित करने वाली सबसे बड़ी समस्याओं में से एक के रूप में पहचाना। इस समस्या को हल करने के लिए, उन्होंने Pfizer IIT दिल्ली इनोवेशन एंड आईपी प्रोग्राम के समर्थन से एक नोवेल एयर प्यूरीफिकेशन टेक्नोलॉजी डेवलप की।


इसी तरह की रुचियों के साथ, देबयान और शशि ने 2017 में PerSapien Innovations की शुरुआत की, और नागरिकों को वायु प्रदूषण से बचाने के लिए ब्रांड Airlens के तहत उपकरणों का आविष्कार किया, और अब तक सफलतापूर्वक इसका व्यवसायीकरण किया है, जो अब तक आधा मिलियन से अधिक जीवन को छू रहा है।


इससे पहले, दोनों ने वाहनों के प्रदूषण पर अंकुश लगाने में मदद करने के लिए पीएम माइनस 2.5 जैसे उपकरणों का भी आविष्कार किया और एयरलेंस को भी डेवलप किया जो, जो एक कार एयर सैनिटाइटर है।