SBI के लॉकर से किसने गायब किए 11 करोड़ रुपये के सिक्के, CBI कर रही तलाश

By yourstory हिन्दी
August 19, 2022, Updated on : Fri Aug 19 2022 12:47:24 GMT+0000
SBI के लॉकर से किसने गायब किए 11 करोड़ रुपये के सिक्के, CBI कर रही तलाश
यह मामला तब सामने आया, जब SBI की शाखा ने अगस्त 2021 में अपने नकदी भंडार में अंतर के बाद पैसे की गिनती करने का फैसला किया था.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने राजस्थान के करौली में भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की एक शाखा के लॉकर (तिजोरी) से 11 करोड़ रुपये के सिक्के गायब होने के मामले में गुरुवार को 25 ठिकानों पर तलाशी ली. न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि केंद्रीय एजेंसी ने राजस्थान उच्च न्यायालय के आदेश के बाद 13 अप्रैल को इस संबंध में मामला दर्ज किया था.


उन्होंने बताया कि दिल्ली, जयपुर, दौसा, करौली, सवाई माधोपुर, अलवर, उदयपुर और भीलवाड़ा में बैंक के लगभग 15 पूर्व अधिकारियों और अन्य के परिसरों की तलाशी ली गई. यह मामला तब सामने आया, जब SBI की शाखा ने अगस्त 2021 में अपने नकदी भंडार में अंतर के बाद पैसे की गिनती करने का फैसला किया था.

बैंक ने किया था CBI जांच का अनुरोध

नकदी की गिनती एक निजी वेंडर द्वारा की गई. इससे पता चला कि शाखा से 11 करोड़ रुपये के सिक्के गायब थे. इसके बाद CBI ने इस मामले में 13 अप्रैल को FIR दर्ज की थी. SBI ने मामले की CBI से जांच कराने का अनुरोध करते हुए राजस्थान उच्च न्यायालय का रुख किया था क्योंकि गायब हुई राशि तीन करोड़ रुपये से अधिक है जो कि एजेंसी की जांच की मांग के लिए जरूरी है.


बैंक की शाखा के बही खाते के अनुसार 13 करोड़ रुपये से अधिक के सिक्कों की गिनती करने के लिए जयपुर के एक निजी वेंडर की सेवा ली गई. गिनती से पता चला कि शाखा से 11 करोड़ रुपये से अधिक के सिक्के गायब हैं. लगभग दो करोड़ रुपये ले जाने वाले केवल 3000 सिक्कों के थैलों का हिसाब लगाया गया और उन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की सिक्का रखने वाली शाखा में ट्रान्सफर कर दिया गया था.

कर्मचारियों को दी गई थी धमकी

FIR में आरोप लगाया गया है कि गिनती करने वाले निजी वेंडर के कर्मचारियों को 10 अगस्त 2021 की रात गेस्ट हाउस में धमकाया गया, जहां वह ठहरे थे और सिक्कों की गिनती नहीं करने को कहा गया.


Edited by Ritika Singh