अनोखी पहल के तहत 231 महिलाओं ने दान किए अपने बाल, कैंसर रोगियों के लिए बनाई जाएगी विग

By yourstory हिन्दी
March 16, 2020, Updated on : Mon Mar 16 2020 15:45:22 GMT+0000
अनोखी पहल के तहत 231 महिलाओं ने दान किए अपने बाल, कैंसर रोगियों के लिए बनाई जाएगी विग
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कोयम्बटूर में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में महिलाओं ने अनोखी पहल के तहत कैंसर के मरीजों के लिए अपने बालों का दान कर दिया।

महिलाओं ने 'लॉक्स ऑफ होप' में अपने बालों का दान किया (चित्र: Edex Live)

महिलाओं ने 'लॉक्स ऑफ होप' में अपने बालों का दान किया (चित्र: Edex Live)



महिलाओं के लिए उनके बाल सुंदरता का प्रतीक हैं। वे एक महिला के व्यक्तित्व को परिभाषित करने में एक भूमिका निभाते हैं। हालांकि, कैंसर के रोगियों के लिए उनकी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में आघात के अलावा उन्हें कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों के कारण बाल खोने से होने वाले तनाव से भी गुजरना पड़ता है।


ऐसे रोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए, कोयम्बटूर में PSG College of Arts and Science ने ‘Locks of Hope’ नामक एक कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें स्टाफ सदस्यों और छात्रों सहित 231 महिलाओं ने आठ इंच तक अपने बालों का दान किया। दान किए गए बालों का उपयोग कैंसर रोगियों के लिए विग बनाने के लिए किया जाएगा।


इस कार्यक्रम का सह-आयोजन नैचुरल्स सैलून एंड स्पा द्वारा किया गया था। यह पहली बार था जब कोयंबटूर में ऐसा आयोजन हुआ था। पिछले दिनों चेन्नई में भी इस तरह के आयोजन किए गए हैं।


आयोजन में अपेक्षित प्रतिभागियों की संख्या 100 थी, हालांकि इसमें 231 महिलाएं आगे आईं और स्वेच्छा से अपने बालों का दान किया। इस दौरान आयोजकों ने उन महिलाओं को उनकी पसंद के स्टाइल से बाल काटने की पेशकश की।





पेज 3 सैलून की लता वर्गीस ने द कोवई पोस्ट को बताया,

“नेचुरल ने इन लड़कियों को अपने पसंद का हेयरकट मुफ्त में उपलब्ध कराया। दान किए गए बालों को इकट्ठा करके राज इम्पेक्स, चेन्नई भेजा जाएगा, जो देश के सबसे बड़े विग निर्माताओं में से एक है। इसके बाद देश भर के 10 कैंसर रोगियों को विग्स दिया जाएगा।"

इस इवेंट के लिए नैचुरल सैलून एंड स्पा के प्रोपराइटर सीके कुमरावेल, जो संस्थान के पूर्व छात्र भी हैं, कॉलेज के संपर्क में थे।


कुमारावेल ने एडेक्स लाइव को बताया,

“जब मेरे कॉलेज ने मुझसे संपर्क किया, तो मैं खुश था। हम पहले भी इस तरह की छोटी परियोजनाएं कर रहे थे, लेकिन हम 100 से अधिक छात्रों के लिए भी ऐसा करने के लिए उत्साहित थे। मेरी राय में, जो लड़कियां अपने बालों का त्याग करने के लिए तैयार थीं, वे वहां से सबसे खूबसूरत महिलाएं हैं।”