लोगों को कोरोना वायरस के बारे में जागरूक कर रहे 61 साल के फल विक्रेता भारत, लिख चुके हैं पीएम और सीएम को पत्र

लोगों को कोरोना वायरस के बारे में जागरूक कर रहे 61 साल के फल विक्रेता भारत, लिख चुके हैं पीएम और सीएम को पत्र

Saturday March 07, 2020,

3 min Read

जैसे-जैसे दिन बीत रहे हैं, कोरोना वायरस दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अपने पैर पसारता जा रहा है। भारत भी अब इसकी गिरफ्त में है। भारत में कोरोना के 30 मरीजों की पुष्टि की जा चुकी है। यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। सरकार इस वायरस की रोकथाम के लिए हर स्तर पर प्रयास कर रही है। हालांकि सरकार के प्रयासों से ही सब कुछ नहीं होगा, आम लोगों को भी इसमें सहभागिता दिखानी होगी। लोगों को आगे आकर बाकियों को जागरूक करना होगा। 


k

(फोटो क्रेडिट: hindi.rapidleaks)



ऐसा ही कुछ कर रहे हैं उड़ीसा के रहने वाले 61 साल के भारत नाथ। भारत नाथ पेशे से एक फल विक्रेता हैं लेकिन अपने काम से समय निकालकर वह आसपास के लोगों और राहगीरों को कोरोना वायरस से बचने के लिए जागरूक कर रहे हैं। भारत नाथ को भारत की चिंता है। कुजंग ब्लॉक निवासी भारत नाथ ना केवल अपने ग्राहकों को कोरोना के बारे में मौखिक रूप से जागरूक करते हैं बल्कि इसके लिए वह पैंफलेट और अखबारों की कटिंग का भी इस्तेमाल भी करते हैं।


वह लोगों के बीच फ्री में कोरोना से बचाव के उपायों के पैंफलेट भी बांट रहे हैं। पैंफलेट में लोगों को बताया है कि कोरोना की रोकथाम के लिए क्या करें और क्या ना करें। यहां तक कि भारत ने शहर में कई जगहों पर पोस्टर्स भी लगवाए हैं। पोस्टर्स में इस खतरनाक वायरस से बचने के लिए रखी जाने वाली सावधानियों और हिदायतों के बारे में बताया गया है।


उड़ीसा के पारादीप में बंदरगाह है। यहां पर विदेशों से कई जहाज आते रहते हैं तो वहां से आने वाले क्रू मेंबर्स और विदेशी सैलानियों के आने के कारण पारादीप में कोरोना वायरस का खतरा ज्यादा है। किसी भी अनहोनी को टालने के लिए पोर्ट अथॉरिटी ने एंट्री पॉइंट्स पर गहन स्क्रीनिंग शुरू कर दी है।


भारत नाथ सड़क किनारे बैठते हैं और आने जाने वाले राहगीरों को कोरोना के बारे में बताते हैं। वह लोगों को छींकने के तरीके, हाथ धोने के तरीके और मास्क पहनने के तरीके के बारे में समझाते हैं। साथ ही वह लोगों को नॉनवेज खाना बनाने के वक्त साफ-सफाई रखने की भी हिदायत देते हैं।





भारत नाथ के लिए यह पहली बार नहीं है। वह भले ही दूसरी क्लास तक पढ़े हों लेकिन यह बात देश हित में काम करने के लिए कभी उनके आड़े नहीं आई। वह समय-समय पर लोगों को जागरूक करने का काम करते रहे हैं।


द न्यू इंडिया एक्सप्रेस की एक खबर के मुताबिक, इस खतरनाक वायरस पर चिंता जताते हुए भारत नाथ ने देश के पीएम नरेंद्र मोदी, उड़ीसा और बाकी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कठोर कदम उठाने का अनुरोध किया है। 17 राज्यों के सीएम को लिखे पत्र में नाथ ने अनुरोध किया कि जीएसटी से होने वाली कुल आय का 2% हिस्सा कोरोना से लड़ने में लगाया जाए।


नाथ कहते हैं,

'सभी को देश के कल्याण और विकास के बारे में सोचना होगा ताकि गरीबी, स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे मुद्दों का सही और जल्द समाधान हो सके।'


आपको बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के 30 मरीजों की पुष्टि की जा चुकी है। दुनिया में करीब 1 लाख लोग इस वायरस से इफेक्टेड हैं। अकेले चीन में 3000 से अधिक लोगों को इस वायरस ने अपनी चपेट में लिया है। भारत में सभी सरकारें वायरस को लेकर सचेत हो चुकी हैं। दिल्ली सरकार ने सभी प्राइमरी स्कूलों को 31 मार्च तक बंद रखने का फैसला किया है।