रक्षाबंधन पर भाई ने बहन को दी 'सम्मान' की सौगात, गिफ्ट किया टॉयलट

रक्षाबंधन पर भाई ने बहन को दी 'सम्मान' की सौगात, गिफ्ट किया टॉयलट

Monday August 07, 2017,

3 min Read

बुलंदशहर जिले के दानापुर गांव में भाई विनोद कुमार राघव ने प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरणा लेते हुए गांव की एक गरीब महिला कलावती को रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर टॉयलट भेंट कर दिया। 

image


कलावती काफी गरीब परिवार की रहने वाली है और विनोद उन्हें अपनी बहन मानते हैं। इस टॉयलट का पूरा खर्च उन्हीं ने उठाया है।

विनोद एक संस्था 'सुगम समाज सेवा संस्थान' का संचालन करते हैं। जो गांव में लोगों को खुले में शौच न जाने के लिए प्रेरित करती है और घर में शौचालय बनवाने की अपील भी करती है।

रक्षाबंधन के त्योहार को भाई और बहन के बीच प्रेम और विश्वास का त्योहार माना जाता है। इस मौके पर बहनें अपने भाईयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती हैं और भाई अपनी बहनों को उपहार के तौर पर कुछ न कुछ जरूर देते हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश में एक भाई ने अपनी बहन को टॉयलट भेंट कर अनूठा उदाहरण पेश कर दिया है। बुलंदशहर जिले के दानापुर गांव में भाई विनोद कुमार राघव ने प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरणा लेते हुए गांव की एक गरीब महिला कलावती को रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर टॉयलट भेंट कर दिया। इस टॉयलट का निर्माण उन्होंने ही कराया है।

पढ़ें: छत्तीसगढ़ में बदलाव की बयार, सरकारी अफसर अपने बच्चों को पढ़ा रहे हैं सरकारी स्कूल में

विनोद ने बताया कि कलावती काफी गरीब परिवार की रहने वाली है और वह अपनी बहन मानते हैं। उन्होंने कहा था कि उनकी बहन खुले में शौच के लिए जाए इससे ज्यादा शर्मिंदगी की बात हो ही नहीं सकती। इसीलिए उन्होंने रक्षाबंधन के अवसर पर अपनी बहन के लिए टॉयलट बनवाने का फैसला किया। विनोद कुमार एक गैर सरकारी संस्था 'सुगम समाज सेवा संस्थान' का संचालन करते हैं। उनकी संस्था गांव में लोगों को खुले में शौच न जाने के लिए प्रेरित करती है और घर में शौचालय बनवाने की अपील भी करती है। उनकी इस संस्था में लगभग 120 लोग काम करते हैं।

विनोद बताते हैं कि दानापुर गांव में लगभग 60 प्रतिशत लोगों के यहां शौचालय नहीं हैं। शौचालय बनवाने के लिए सरकार की तरफ से मदद के तौर पर आधे पैसे भी मिलते हैं, लेकिन गांव के अधिकतर लोग मजदूर होने की वजह से आधा पैसा भी नहीं जुटा पाते हैं। विनोद के मुताबिक एक सामान्य से शौचालय को बनवाने में लगभग 12-15 हजार की लागत आती है, लेकिन गांव में गरीबी की यह हालत है कि लोग 6-8 हजार रुपये भी नहीं इकट्ठा कर पाते। हालांकि वह कहते हैं कि गांव के लोग अभी इस बात को लेकर उतने जागरूक नहीं हैं और वह इसीलिए जागरूकता का अभियान चला रहे हैं।

पढ़ें: रक्षाबंधन की अनोखी सौगात, 800 भाई अपनी बहनों को गिफ्ट करेंगे शौचालय

विनोद कुमार को इस काम के लिए हरियाणा में बीती 30 जुलाई को 'ग्रेट नेशनलिस्ट अवॉर्ड' भी मिल चुका है। हरियाणा के प्रतिमा रक्षा सम्मान समिति की ओर से उन्हें ऐसे सराहनीय काम करने के लिए पुरस्कृत किया गया। इससे पहले यूपी के ही अमेठी जिले में खुले में शौच से मुक्त अभियान को सफल बनाने और स्वच्छता के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए जिले की स्वच्छता समिति ने 'अनोखी अमेठी का अनोखा भाई' कार्यक्रम शुरू किया है। जिसमें तकरीबन 800 भाई इस बार अपनी बहनों को एक अनोखे उपहार के रूप में टॉयलट गिफ्ट करेंगे ताकि उनकी बहनों को शौच के लिए घर से बाहर न जाना पड़े। विनोद जैसे लोगों की यह मुहिम वाकई सराहनीय है।

पढ़ें: वाराणसी में पहली बार लड़कियों के लिए खुले अखाड़े के द्वार