IT सेक्टर में भारी छंटनी के बावजूद कुल नौकरियां 2 फीसदी बढ़ीं, बीमा सेक्टर में 93 फीसदी बढ़ीं नौकरियां

भारतीय नौकरी बाजार में मजबूती और स्थिरता का प्रदर्शन जारी है. 2% की वृद्धि उल्लेखनीय है क्योंकि यह आईटी क्षेत्र में नियुक्तियों में 25% की गिरावट के बावजूद दर्ज की गई है. आईटी क्षेत्र की भर्ती में आई गिरावट की भरपाई कमोबेश गैर-आईटी क्षेत्रों जैसे बीमा, तेल और बैंकिंग में होने वाली नियुक्तियों से हुई

IT सेक्टर में भारी छंटनी के बावजूद कुल नौकरियां 2 फीसदी बढ़ीं, बीमा सेक्टर में 93 फीसदी बढ़ीं नौकरियां

Tuesday February 07, 2023,

4 min Read

इस बार, नए साल की शुरुआत बेहद आशावादी रूख के साथ हुई है, क्‍योंकि इस साल जनवरी में देश का प्रमुख जॉब इंडेक्‍स नौकरी जॉबस्पीक पिछले साल की तुलना में 2 फीसदी की वृद्धि के साथ इंडेक्‍स पर 2762 नंबर पर रहा है. पिछले साल जनवरी में यह 2716 पायदान पर था.

इस तरह से, भारतीय नौकरी बाजार में मजबूती और स्थिरता का प्रदर्शन जारी है. 2% की वृद्धि उल्लेखनीय है क्योंकि यह आईटी क्षेत्र में नियुक्तियों में 25% की गिरावट के बावजूद दर्ज की गई है. आईटी क्षेत्र की भर्ती में आई गिरावट की भरपाई कमोबेश गैर-आईटी क्षेत्रों जैसे बीमा, तेल, सेवा-सत्कार और बैंकिंग में होने वाली नियुक्तियों से हुई हैं.

बता दें कि, नौकरी जॉबस्पीक एक मासिक इंडेक्स है, जो भारतीय नौकरी बाजार की स्थिति का प्रतिनिधित्व करता है और Naukri.com पर फिर से शुरू डेटाबेस पर भर्ती करने वालों द्वारा नई नौकरी लिस्टिंग के साथ-साथ नौकरी से संबंधित खोजों के आधार पर भर्ती गतिविधि करता है.

गैर-आईटी क्षेत्र सबसे ज्यादा भर्तियां कर रहे

गैर-आईटी क्षेत्रों ने 2023 की शुरुआत तेजी से की है. सबसे प्रमुख बीमा क्षेत्र है, जिसमें 93% की वृद्धि देखने को मिली है. अन्य गैर-आईटी उद्योग जिनकी भर्ती गतिविधि में वृद्धि की प्रवृत्ति दर्ज की गई, उनमें तेल (55%), आतिथ्य (53%), बैंकिंग (37%), रियल एस्टेट (31%), ऑटो (29%), बीपीओ (16%) और स्वास्थ्य सेवा (10%) शामिल हैं.

चुनिंदा गैर-आईटी क्षेत्र जिन्होंने नियुक्ति रुझान को लेकर सतर्कता दिखाई है, उनमें टेलीकॉम, रिटेल और फार्मा शामिल हैं, जिनमें पिछले साल के मुकाबले इस साल नियुक्तियों में क्रमश: 9%, 8% और 4% की गिरावट आई है.

आईटी उद्योग में नियुक्तियों में गिरावट

आईटी उद्योग में नियुक्तियों में गिरावट के कारण भारतीय आईटी क्षेत्र में नौकरी की वृद्धि में पिछले साल के मुकाबले 25% की गिरावट आई है. बड़े आईटी दिग्गजों और यूनिकॉर्न दोनों में भर्ती रुझान में गिरावट आई, जबकि अन्य आईटी स्टार्टअप्स में पिछले साल के मुकाबले रुझान स्थिर रहा.

अनुभवी कर्मचारियों की भर्ती में गिरावट के मुकाबले नए लोगों की भर्ती में सबसे बड़ी गिरावट का सामना करना पड़ रहा है, इसके बाद मिड-एक्‍सपीरियंस वाले लोगों की भर्ती में गिरावट आई है, जबकि आईटी क्षेत्र में सीनियर स्तर (12 वर्ष से अधिक के अनुभव) में भर्ती स्थिर रही.

गैर-महानगरीय शहर रोजगार पैदा करने में आगे

नए साल में गैर-महानगरीय शहरों में भर्ती की गतिविधि जारी है. गैर-महानगरों के बीच, अहमदाबाद नियुक्ति गतिविधियों के मामले में शीर्ष पर रहा और यहां पिछले साल के मुकाबले नई नियुक्तियों में 40% की वृद्धि दर्ज की गई और इस तेजी की वजह बीमा और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र रहा. बड़ौदा बैंकिंग और निर्माण क्षेत्रों के वर्चस्व वाले नए रोजगार सृजन में 37% की वृद्धि के साथ आगे रहा. वहीं, जयपुर ने मुख्य रूप से बीपीओ और बैंकिंग क्षेत्रों के नेतृत्व में नए रोजगार सृजन में 14% की वृद्धि दर्ज की.

महानगरीय शहरों में, मुंबई और दिल्ली ने सकारात्मक नियुक्ति ट्रेंड दर्ज किया, जहां पिछले साल के मुकाबले नई नौकरियों के सृजन में 14 और 10% की वृद्धि दर्ज की गई. दिल्ली और मुंबई में भर्तियों की होड़ में बीमा क्षेत्र एक प्रमुख क्षेत्र रहा है.

इसके विपरीत, बेंगलुरू, हैदराबाद, पुणे और चेन्नई जैसे महानगरीय शहर, जो रोजगार सृजन के लिए आईटी क्षेत्र पर बहुत अधिक निर्भर हैं, में पिछले साल के मुकाबले क्रमशः 20%, 12%, 11% और 6% की गिरावट दर्ज की गई. वहीं गैर-आईटी क्षेत्र जो इन महानगरों में से प्रत्येक में सबसे महत्वपूर्ण रूप से नौकरियों में वृद्धि कर रहे हैं, उनमें बीमा, बैंकिंग, ऑटो और तेल क्षेत्र शामिल है.

सीनियर पेशेवरों की मांग बनी हुई है

नियुक्तियों में गिरावट के बीच में 12 से अधिक वर्षों के अनुभव वाले वरिष्ठ पेशेवरों की बढ़ती मांग 2023 की शुरुआत में भर्ती गतिविधि पर हावी रही और इसमें पिछले साल के मुकाबले 20% से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई. फ्रेशर्स और मिड-एक्सपीरियंस स्तर के पेशेवरों के लिए भर्ती गतिविधि स्थिर बनी हुई है.

इस रिपोर्ट पर अपनी बात रखते हुए Naukri.com के चीफ बिजनेस ऑ‍फीसर पवन गोयल ने कहा, “साल की शुरुआत के साथ, गैर-आईटी क्षेत्र भारत में बीमा, तेल और सेवा सत्कार भर्ती गतिविधि में अग्रणी बने हुए हैं. दिलचस्प बात यह है कि आईटी से जुड़े महानगर, जो पिछले साल मुख्य विकास चालक थे, अहमदाबाद और बड़ौदा जैसे उभरते शहरों से पीछे रह गए. कुल मिलाकर, यह भारतीय नौकरी बाजार के लिए एक बहु-आयामी दृष्टिकोण देता है और हमें नए साल को लेकर आशावादी बनाता है.”


Edited by Vishal Jaiswal

Daily Capsule
CleverTap unfazed by funding winter
Read the full story