अपने 'हॉस्पिटल इन बैग' के जरिए स्वास्थ्य सेवा में गेम-चेंजर बनना चाहता है डॉक्टर का यह हेल्थटेक स्टार्टअप

18th Mar 2020
  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

सुप्रीम कोर्ट ने स्वास्थ्य सेवा को एक मौलिक अधिकार माना है, भारत सरकार ने भी दुनिया में सबसे बड़ी सार्वजनिक रूप से वित्त पोषित स्वास्थ्य सेवा योजना शुरू की है, और वैश्विक निवेश तृतीयक देखभाल (उच्च स्तर की विशेषज्ञता वाली स्वास्थ्य सेवा) में इन्वेस्ट कर रहे हैं, लेकिन देश की स्वास्थ्य देखभाल की आवश्यकताएं पूरी तरह से कम नहीं हुई हैं।


k

डॉ. विशाल उपाध्याय, एजाइल हेल्थकेयर के फाउंडर



भारत अपने सकल घरेलू उत्पाद का 1.3 प्रतिशत से अधिक स्वास्थ्य पर खर्च नहीं करता है, और कई ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच नहीं है। 51,000 से अधिक लोगों के लिए केवल एक प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा केंद्र है, जिसमें अक्सर एक डॉक्टर के साथ स्टाफ होता है। हेल्थकेयर तक पहुंच की समस्या को हल करने के लिए उत्सुक, डॉ. विशाल उपाध्याय ने दिल्ली स्थित हेल्थटेक स्टार्टअप एजाइल हेल्थकेयर (Agile Healthcare) लॉन्च किया, जो "अस्पताल को बैग" में रखने का दावा करता है। 


विशाल ने महसूस किया कि टेक्नोलॉजी दूरस्थ रूप से डॉक्टरों तक पहुंचने में मदद कर सकती है, और "इसलिए हम एक पोर्टेबल सलूशन: द मेडी जंक्शन हॉस्पिटल इन अ बैग" ले आए। एजाइल हेल्थकेयर का लक्ष्य दूरदराज के क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए नवीनतम तकनीकों का उपयोग करके इंडस्ट्री को बदलना है जहां विशेषज्ञ डॉक्टर तैनात नहीं किए जा सकते हैं।


हेल्थटेक स्टार्टअप मेडी जंक्शन ई-क्लिनिक के माध्यम से मरीजों के घर पर टेलीमेडिसिन के जरिए व्यापक प्राथमिक और निवारक स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है। Agile Healthcare वर्तमान में बिहार में 10 ऐसे ई-क्लीनिक चलाता है; एनसीआर में पांच और का जल्द ही परिचालन शुरू होगा।


शुरुआत

डॉ. विशाल उपाध्याय एक आर्थोपेडिक सर्जन हैं और उन्होंने भारत और यूके में प्रशिक्षण लिया है। इंग्लैंड में रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जन्स में स्टडी करने के बाद, विशाल ने 16 वर्षों तक यूके में अपना प्रैक्टिस जारी रखी। लेकिन घर में बदलाव लाने की ललक ने उनका पीछा नहीं छोड़ा। वह विशेष रूप से ग्रामीण भारत में प्रभावी चिकित्सा देखभाल प्रदान के उद्देश्य के साथ 2019 में भारत लौटे।


उन्होंने 2017 में बैग बनाना शुरू किया और पिछले साल प्रोडक्ट को बाजार में उतारा। वे कहते हैं,

"टेक्नोलॉजी यूके में स्वास्थ्य सेवा को बदल रही थी, और मैंने भारत-विशिष्ट समाधान के लिए चिकित्सा विशेषज्ञता और प्रौद्योगिकी को संयोजित करने के लिए महत्वपूर्ण अनुभव और अंतर्दृष्टि एकत्र की थी।"



विशाल का कहना है कि वह ब्रिटेन में थे जब उन्होंने एक पोर्टेबल हॉस्पिटल किट के बारे में सोचा था, लेकिन इसे बनाने के तरीके के बारे में अनिश्चित थे। वे कहते हैं,

“एक बड़ी चुनौती मेडिकल सलूशन के साथ टेक्नोलॉजी का इंटीग्रेशन था। इसलिए, हमने सही डिवाइस, उपकरण, और अन्य आवश्यक वस्तुओं की पहचान की। हमें पोर्टेबिलिटी चुनौतियों से निपटने के लिए उपकरण के आकार को यथासंभव छोटा रखना था।"


उन्हें एक पूरा 'हॉस्पिटल इन बैग' डिजाइन करने के लिए एक साल से अधिक समय लग गया।


यह काम कैसे करता है?

प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं, निदान और उपचार के लिए, एक मरीज को निकटतम मेडी जंक्शन ई-क्लिनिक का दौरा करने की आवश्यकता होती है, जहां एक स्वास्थ्य अधिकारी उन्हें सहायता करता है और उन्हें वीडियो कॉल पर डॉक्टर से जोड़ता है। स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर नहीं हैं; वे एजाइल हेल्थकेयर द्वारा प्रशिक्षित हैं। वे जरूरत पड़ने पर निदान और आगे के उपचार / रेफरल की सुविधा के लिए तत्काल रिपोर्ट और ब्लड टेस्ट के साथ डिजिटलाइजेशन के माध्यम से कंसल्टेशन और मेडिकल एग्जामिनेशन के साथ रोगियों की मदद करते हैं।


बैग पांच आवश्यक पहलुओं को पूरा करता है: मेडिकल इंस्पेक्शन (वेब कैमरा), मेडिकल हिस्ट्री (डॉक्टर के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग), मेडिकल एग्जामिनेशन (आईओटी उपकरणों के माध्यम से), निदान (डायग्नोस) के लिए जांच और ब्लड टेस्ट, और दवाओं के पर्चे और वितरण।


डॉक्टर कहते हैं,

“हम ई-क्लिनिक में प्वाइंट-ऑफ-केयर टेस्टिंग डिवाइसेस (POCT) के साथ ब्लड टेस्ट करते हैं। रोगी अपनी पूरी आउट पेशेंट जर्नी को पूरा करने में सक्षम हैं, जिसमें जांच, रिपोर्ट के साथ ब्लड टेस्ट, डॉक्टर से परामर्श और दवाओं का वितरण, आधे घंटे के भीतर शामिल है।”


बैग में क्या है?

मेडी जंक्शन हॉस्पिटल किट में लंबाई, वजन, बीएमआई, बॉडी फैट, मांसपेशियों और कम्पोजीशन माप को मापने के लिए एक उपकरण सहित 20 से अधिक उपकरण शामिल हैं; इनफारेड थर्मामीटर; ब्लड प्रेशर को मापने; SpO2 मापने; 12-चैनल ईसीजी; डिजिटल स्टेथोस्कोप; डिजिटल ओटोस्कोप; pharyngoscope; nasoscope; डिजिटल डर्मेटोस्कोप; भ्रूण डॉपलर; और फेफड़ों के कार्य का आकलन करने के लिए डिजिटल स्पाइरोमीटर शामिल हैं।


इसमें नजर को जांचने के लिए विजन स्क्रीनिंग उपकरण भी हैं; विजन टेस्ट करने और रीफ्रैक्टिव एरर वाले लोगों के लिए चश्मा निर्धारित करने के लिए रिफ्रेक्टोमीटर, डिजिटल फंडोस्कोप; ब्लड टेस्ट के लिए डिवाइस; बायोकेमिस्ट्री एनालाइजर; और इम्यूनोसैस एनलाइजर भी हैं।




एजाइल हेल्थकेयर रणनीतिक गठजोड़ पर काम कर रहा है और विभिन्न अस्पतालों, डॉक्टरों, फार्मेसियों, व्यक्तिगत निवेशकों, चिकित्सा आपूर्ति कंपनियों और चिकित्सा प्रयोगशालाओं के साथ भागीदारी है। अब तक, हेल्थटेक स्टार्टअप में 30 लोगों की एक टीम है, जिसमें डॉक्टर, स्वास्थ्य अधिकारी, तकनीकी विशेषज्ञ और संचालन प्रबंधक शामिल हैं।


विशाल का कहना है,

"हमारा उद्देश्य मौजूदा स्थिति के लिए एक मरीज का इलाज करना और बीमारी और जटिलताओं को रोकना है।"


बिजनेस मॉडल और ग्रोथ

"हॉस्पिटल इन बैग" की कीमत 1.5 लाख रुपये से 12 लाख रुपये के बीच होती है, क्योंकि किट को खासतौर से डिजाइन किया गया है और एड-ऑन फंक्शनलिटी के साथ मॉड्यूलर तरीके से इसकी कीमत तय की गई है। वे कहते हैं,

"हम ऑनरशिप और ऑपरेशन के विभिन्न इंडिविजुअलाइज्ड मॉडल्स में डिजिटल डिस्पेंसरीज को प्रोवाइड, ऑपरेट और रखरखाव कर सकते हैं।"


बता दें कि स्टार्टअप एक "डिस्पेंसरी मॉडल" भी चलाता है: यह अलग-अलग उद्यमियों के लिए डिजिटल डिस्पेंसरी स्थापित करता है, उन्हें प्रशिक्षण प्रदान करता है, और उन्हें फंडिंग, लोन, और कॉर्पोरेट / सामाजिक / सरकारी सहभागिता प्रदान करता है। सवाल उठता है कि क्या इस तरह का समाधान मुनाफा कमा सकता है? विशाल का मानना है कि हां, यह कर सकता है।





एक मरीज परामर्श और दवाओं के लिए लगभग 250 रुपये का भुगतान करता है। लेकिन विशाल का कहना है कि भले ही मेडी जंक्शन ई-क्लिनिक के पास प्रॉफिट मार्जिन कम है, लेकिन इसका एक वॉल्यूम है। हालांकि, रिवेन्यू स्ट्रीम बड़े पैमाने पर नहीं हैं, स्थिर है और वे कहते हैं कि "हम हर महीने 10 से 15 प्रतिशत की अपेक्षित गति से बढ़ रहे हैं।" हालांकि, विशाल ने वर्तमान कारोबार (टर्नओवर) के बारे में खुलासा नहीं किया न ही उन्होंने इस बारे में ज्यादा जानकारी दी कि रोगियों को क्लीनिकों तक पहुंचने के लिए कितना शुल्क देना पड़ता है।


उन्होंने खुलासा किया कि उन्हें उम्मीद है कि कंपनी वित्त वर्ष 20 के अंत तक लाभदायक हो जाएगी। वे कहते हैं,

"हम लगभग 3.5 लाख कंसल्टेशन को पूरा करने की उम्मीद कर रहे हैं, और वर्तमान वर्ष के अंत तक ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक लोगों तक पहुंचेंगे।"


फंडिंग और योजनाएं

एजाइल हेल्थकेयर बिहार, एनसीआर और हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में अगले छह महीनों में कम से कम 100 क्लीनिकों को स्केल करना चाहता है, जिससे कंपनी का टर्नओवर लगभग 25 करोड़ रुपये हो सकता है।


विशाल का कहना है कि उन्होंने अपनी बचत के साथ-साथ बाहरी फंडिंग से भी अब तक 4 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया है। वह अब 100 केंद्रों तक पहुंचने के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कम से कम 15 करोड़ रुपये के फंड की तलाश में हैं।


हेल्थटेक स्टार्टअप वैश्विक विस्तार पर भी नजर गड़ाए हुए है, और अविकसित देशों के साथ इसे शुरू करेगा। विशाल कहते हैं,

"मेडी जंक्शन आम जनता को स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए एक गेम-चेंजर हो सकता है, खासकर उन क्षेत्रों में जहाँ डॉक्टर उपलब्ध नहीं हैं।"

How has the coronavirus outbreak disrupted your life? And how are you dealing with it? Write to us or send us a video with subject line 'Coronavirus Disruption' to editorial@yourstory.com

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

Our Partner Events

Hustle across India