किस तरह बच्चों को क्लासरूम लर्निंग से परे देखने में मदद कर रही है एडटेक फर्म Chrysalis

By Bhavya Kaushal
April 05, 2022, Updated on : Wed Jul 06 2022 13:59:16 GMT+0000
किस तरह बच्चों को क्लासरूम लर्निंग से परे देखने में मदद कर रही है एडटेक फर्म Chrysalis
चित्रा रवि ने 2001 में एडटेक कंपनी Chrysalis लॉन्च की, जिसका उद्देश्य प्रत्येक बच्चे को उसकी अनूठी क्षमता का एहसास कराने में मदद करना है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत में एडटेक स्पेस ने महामारी के दौरान सबसे ज्यादा आकर्षण देखा। YourStory की एक रिसर्च के अनुसार, 2021 की तीसरी तिमाही में फिनटेक और फाइनेंस सर्विस स्टार्टअप के बाद एडटेक सबसे अधिक फंडेड सेगमेंट था। पिछले साल, इस सेक्टर ने 50 डील में 1.4 अरब डॉलर जुटाए।


आज, एडटेक स्पेस BYJU'S, Unacademy, Testbook, Vedantu, Toppr, Parentsalarm आदि से भरा हुआ है। B2B से B2C तक, आज एडटेक की गुंजाइश काफी है। हालांकि, लगभग 20 साल पहले, यह सिर्फ एक उभरता हुआ सेगमेंट था।


चित्रा रवि ने 2001 में एजुकेशन सिस्टम में कुछ कमियां देखीं। उस समय उनकी बेटी किंडरगार्टन में थीं। उन्होंने YourStory को बताया कि सिस्टम में कुछ ऐसा था जो बच्चों को उनकी अनूठी क्षमता का एहसास करने से रोक रहा था।


चित्रा ने मद्रास विश्वविद्यालय से एमबीए में ग्रेजुएट किया। उन्हें एजुकेशन के क्षेत्र में मुश्किल से कोई अनुभव था, लेकिन उन्होंने छलांग लगाने का फैसला किया और 2001 में Chrysalis  लॉन्च किया।


Chrysalis को पहले EZ Vidya के नाम से जाना जाता है। इस एडटेक कंपनी ने आज भारत के 1,800 स्कूलों में बड़ी उपस्थिति दर्ज की है, और अफ्रीका और सिंगापुर सहित आठ देशों में भी इसकी उपस्थिति है।


चित्रा का कहना है कि उन्होंने 10 लाख रुपये से अधिक का निवेश करके चेन्नई स्थित कंपनी शुरू की, जिसमें उनकी अपनी बचत और उनके परिवार द्वारा योगदान किए गए पैसों का मिश्रण शामिल था। कंपनी ने अपने पहले साल में 36 लाख रुपये का रेवेन्यू हासिल किया। वित्त वर्ष 2020 में, Chrysalis ने 30 करोड़ रुपये कमाए जो FY21 में घटकर 24 करोड़ रुपये रह गए। हालांकि, चित्रा को भरोसा है कि Chrysalis चालू वित्त वर्ष में 50 करोड़ रुपये के राजस्व के साथ बंद हो जाएगी।


YourStory के साथ बातचीत में, चित्रा ने बताया कि कैसे कंपनी शिक्षा क्षेत्र में कायापलट कर रही है।

छाप छोड़ना

अपनी बेटी की शिक्षा की योजना बनाते समय, चित्रा ने महसूस किया कि हर बच्चा अद्वितीय है और स्कूलों में ज्यादातर हर किसी को बने-बनाए मानकों पर चलने की आदत होती है। चित्रा अक्सर अन्य बच्चों के माता-पिता से उनके बच्चों की परफॉर्मेंस पर चर्चा करने के लिए बात करती थीं और बातचीत के दौरान जो बात सबमें कॉमन होती थी वह थी संतुष्टि की।


वह कहती हैं, "मुझे हमेशा चीजों पर नियंत्रण रखना पसंद था। इसलिए मैंने महसूस किया कि स्कूल के बारे में सारी शिकायतें और गहराई से सोचना से मैं ऊब चुकी थी। मैं एक ऐसा सिस्टम बनाना चाहती थी जो हर बच्चे की अनूठी क्षमता को जगाने में मदद करे।”


हालांकि, वह कहती हैं कि एक ऐसे क्षेत्र में व्यवसाय शुरू करना आसान नहीं था जो "मुश्किल से उभर रहा था।" वे कहती हैं, "एडटेक क्लाइमेट अब बहुत परिपक्व है। आज एडटेक स्टार्टअप शुरू करना बहुत अलग बात है।"


जब उन्होंने पाठ्यक्रम तैयार करना शुरू किया और स्कूलों तक पहुंचना शुरू किया, तो उन्हें हर तरह की प्रतिक्रिया मिली - सुखद और अप्रिय दोनों। कुछ लोगों ने उन पर विश्वास नहीं किया क्योंकि उनके पास शिक्षा के क्षेत्र में एक मजबूत पृष्ठभूमि की कमी थी, और दूसरों इसलिए नहीं माने क्योंकि उन्हें लगा कि पाठ्यपुस्तकों का इस्तेमाल करने का पारंपरिक तरीका सबसे अधिक मांग वाला तरीका है।


हालांकि, उन्होंने ऐसे तरीके विकसित करना जारी रखा जो "मौजूदा क्लासरूम टीचिंग को एजुकेशन सेशन को प्रोत्साहित करने के लिए बदल दें।"

चित्रा रवि

चित्रा रवि

पहले वर्ष के दौरान आठ लोगों के साथ शुरुआत कर, EZ Vidya अपने पहले वर्ष में 350 छात्रों को शामिल करने में सक्षम थी। इसने कोई लाभ नहीं कमाया लेकिन दूसरे वर्ष में लाभदायक हो गई।


लगभग 2010 तक, EZ Vidya मुख्य रूप से शिक्षकों, प्रधानाध्यापकों को ट्रेनिंग देने में शामिल थी, बच्चों को "गहराई से सोचने और आगे देखने" के लिए कैसे सक्षम किया जाए, इस पर वर्कशॉप कर रही थी। इसने कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (CSR) पार्टनरशिप के लिए DELL, Microsoft, Wipro और Nokia जैसे कॉरपोरेट्स के साथ पार्टनरशिप की।

गहराई से सोचें और परे देखें

चित्रा और उनकी टीम द्वारा डिजाइन किए गए पाठ्यक्रम का मूल दर्शन "गहराई से सोचें और परे देखें" पर आधारित है।


चित्रा बताती हैं, "हम एक प्रश्न-आधारित शिक्षाशास्त्र का अनुसरण करते हैं। जब आप तथ्य बताते हैं, तो आप बमुश्किल छात्रों को जानकारी दे रहे होते हैं। हालाँकि, यदि आप चाहते हैं कि बच्चा सोचे, तो यह अधिक से अधिक प्रश्न पूछने से होगा।”


वह आगे कहती हैं कि प्रश्न पूछने से वे एक्सप्लोर करने, गहराई से सोचने और कुछ निश्चित उत्तरों के साथ आने में सक्षम होंगे। शिक्षक आगे अधिक ज्ञान और शिक्षा-संचालित सामग्री के साथ सहायता प्रदान कर सकता है।


पाठ्यचर्या का एक अन्य पहलू रिफ्लेक्टिव थिंकिंग यानी चिंतनशील सोच है। वह कहती हैं, "बच्चों को अंदर झांकने के लिए सक्षम बनाने के वास्ते इसकी आवश्यकता थी।" उदाहरण के लिए, हम उनसे पूछते हैं कि जब वे स्कूल आते समय या घर जाते समय एक ऐसे पौधे को देखते हैं, जो ऐसा लग रहा है कि वह मर रहा है, तो वे क्या करेंगे?"


वह कहती है कि बच्चे इस तरह से विषयों पर गहराई से सोचते हैं और विभिन्न प्रतिक्रियाओं के साथ आते हैं जैसे "मैं अभी घर की ओर जाना जारी रखूंगी" या "मैं आस-पास पानी ढूंढूंगा और इसे पौधे पर डालूंगा!"


कंपनी को बड़ी सफलता 2011 में मिली जब उसने अपना प्रमुख ऑनलाइन प्रोडक्ट -- Thinkroom लॉन्च किया।


इसके तुरंत बाद, ब्रांड ने अपना नाम बदलकर Chrysalis कर लिया, जिसका अर्थ है एक अंडे को कैटरपिलर में बदलना, जो एक तितली की यात्रा के सबसे महत्वपूर्ण चरणों में से एक है।


थिंकरूम स्कूलों को एक ऐसा प्लेटफॉर्म ऑफर करता है जहां से वे Chrysalis के मूल शिक्षण दर्शन पर आधारित पाठ्यक्रम का इस्तेमाल कर सकते हैं। वर्तमान में यह नर्सरी से कक्षा पांच तक उपलब्ध है। चित्रा का कहना है कि वह जल्द ही कक्षा छह से आठ के लिए पाठ्यक्रम लाने की योजना बना रही हैं।


प्रत्येक पाठ्यक्रम की लागत आमतौर पर 1,500 रुपये से 3,500 रुपये के बीच होती है। वर्तमान में, 1,800 से अधिक स्कूलों, 25,000 कक्षाओं और नौ लाख छात्रों ने इस पाठ्यक्रम को अपनाया है।

टेक्नोलॉजी, साझेदारी और महामारी

COVID-19 महामारी ने भारतीय एजुकेशन सिस्टम में टेक्नोलॉजी को सबसे आगे लाने में एक प्रमुख भूमिका निभाई। चित्रा का कहना है कि आने वाले समय में उन्हें मौजूदा संरचनाओं में टेक्नोलॉजी को जोड़ने में गहराई तक जाने की आवश्यकता होगी। वास्तव में, वे इसके लिए पहले से ही कदम उठा रहे हैं।


अब तक, Chrysalis ने भारतीय कक्षाओं में शिक्षा-संचालित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और अन्य तकनीकों को लाने के लिए वैश्विक एडटेक कंपनी Kidsloop के साथ भागीदारी की है। चित्रा कहती हैं, Chrysalis भारतीय संवेदनाओं के लिए किड्सलूप उत्पादों को निजीकृत करने की भी कोशिश कर रही है।


इस साझेदारी का एक लक्ष्य बच्चे की सीखने की यात्रा के विकास पर अधिक डेटा प्राप्त करना है - जैसे कि तीन साल से 13 साल तक।


वह बताती हैं, "पर्सनलाइज्ड लर्निंग के लिए डेटा बहुत महत्वपूर्ण है।" यह डेटा चार प्रमुख हितधारकों - स्कूल, शिक्षक, माता-पिता और बच्चे के उपभोग के लिए होगा।


इस साझेदारी के माध्यम से चित्रा की आने वाले वर्षों में श्रीलंका और मलेशिया जैसे बाजारों में प्रवेश करने की भी योजना है।


आज शिक्षा और टेक्नोलॉजी के एकीकरण के बारे में बहुत बहस हो रही है। चित्रा का कहना है कि एक छात्र से संबंधित सूचित निर्णय लेने के लिए दोनों महत्वपूर्ण हैं, लेकिन शिक्षा सभी गतिविधियों का आधार होना चाहिए।


Edited by रविकांत पारीक

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close