एलन मस्क बने 'परफ़्यूम सेल्समैन', 28700 बोतलें बेच चुके, अब बची है महज़ इतनी...

एलन मस्क अब परफ्यूम बेचने लगे हैं. लेकिन वे जिस क्रिप्टोकरेंसी में इसे बेच रहे हैं, कभी उसी के प्रचार के लिए उन पर 25.8 हजार करोड़ डॉलर का मुकदमा दर्ज हुआ था.

एलन मस्क बने 'परफ़्यूम सेल्समैन', 28700 बोतलें बेच चुके, अब बची है महज़ इतनी...

Wednesday October 19, 2022,

5 min Read

दुनिया के सबसे अमीर शख्स और SpaceX के फाउंडर, Tesla के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) अब परफ्यूम बेचने लगे हैं. वे परफ्यूम सेल्समैन (perfume salesman) बन गए हैं. इतना ही नहीं वे अब तक Burnt Hair परफ्यूम की 28,700 से अधिक बोतलें बेच चुके हैं!

एलन मस्क हमेशा किसी न किसी वजह से चर्चा में रहते हैं. हाल ही में उनकी ट्विटर डील चर्चा में है. उन्होंने पहले ट्विटर को खरीदने की घोषणा की, फिर ट्विटर डील को तोड़ा. उसके बाद चर्चा है कि मस्क ट्विटर को फिर से खरीद लेंगे. एलन मस्क के ट्वीट अक्सर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.

अब एलन मस्क का नया ट्वीट इस समय चर्चा में है. उन्होंने परफ्यूम की बोतल की तस्वीर पोस्ट की और इसे दुनिया का सबसे बेस्ट परफ्यूम बताया. इस ट्वीट के बाद अपने ट्विटर बायो में एलन मस्क ने खुद को परफ्यूम सेल्समैन बताया है. इसी के चलते मस्क एक बार फिर सोशल मीडिया पर चर्चा में आ गए हैं.

एलन मस्क ने जिस परफ्यूम की बोतल की फोटो शेयर की है, उस ब्रांड का नाम Burnt Hair Singed है. इस परफ्यूम को 'द बोरिंग कंपनी' (The Boring Company) ने बनाया है. इस परफ्यूम की कीमत 100 डॉलर यानी 8400 रुपये है. मस्क ने बताया कि ग्राहक इसे खरीदने के लिए Dogecoin जैसी क्रिप्टोकरेंसी में भी पेमेंट कर सकते हैं है.

हालांकि, कंपनी की वेबसाइट के मुताबिक यह प्रोडक्ट "साल 2023 की पहली तिमाही" तक मिल पाएगा.

मस्क ने एक और ट्वीट में बताया कि अब तक Burnt Hair की 28,700 से अधिक बोतलें बिक चुकी है! अब केवल 1300 बोतलें बची है. यह लिमिटेड एडिशन है."

कंपनी इस परफ्यूम की कई देशों में अंतरराष्ट्रीय शिपिंग भी कर रही है.

यह पहली बार नहीं है जब मस्क ने द बोरिंग कंपनी का इस्तेमाल इस तरह के प्रोडक्ट बेचने के लिए किया है. आपको 2018 में याद होगा कि कैसे उन्होंने कंपनी के जरिए 'flamethrowers' बेचे, जिससे अमेरिकी राजनेताओं में बड़े पैमाने पर आक्रोश फैल गया. और बाद में बोरिंग कंपनी-ब्रांडेड अग्निशामक की बिक्री हुई.

वे flamethrowers, जो तब 500 डॉलर में बेचे गए थे, अब eBay जैसी साइट्स पर 20,000 डॉलर से भी अधिक कीमत पर बिक रहे हैं.

जब मस्क को महंगा पड़ा DogeCoin का प्रचार

एलन मस्क को क्रिप्टोकरेंसी DogeCoin का प्रचार महंगा पड़ा था. इस क्रिप्टोकरेंसी की एक पिरामिड स्कीम को बढ़ावा देने के चलते उन पर 25.8 हजार करोड़ डॉलर का मुकदमा दर्ज हुआ था. तब इस मामले में मस्क की टनल कंस्ट्रक्शन कंपनी द बोरिंग कंपनी (The Boring Company) समेत पांच अन्य लोगों को भी आरोपी बनाया गया था.

मजाक के तौर पर शुरू हुआ था Dogecoin

लोकप्रिय इंटरनेट मीम ‘Doge’ पर आधारित और अपने लोगो में Shiba Inu को दिखाने वाला Dogecoin (DOGE) एक क्रिप्टोकरेंसी है, जिसे दिसंबर 2013 में Litecoin की टेक्नोलॉजी से बनाया गया था. कुत्ते की एक नस्ल से प्रेरित इस लोकप्रिय मीम कॉइन को पोर्टलैंड (ओरेगॉन) के Billy Markus और सिडनी (ऑस्ट्रेलिया) के Jackson Palmer ने बनाया था. दोनों ने Dogecoin को मस्ती-मज़े वाली क्रिप्टोकरेंसी के तौर पर पेश किया था, जिसका मकसद Bitcoin की कोर ऑडियंस से इतर एक बड़ी आबादी को क्रिप्टो की ओर आकर्षित करना था.

इसके मीम्स शेयर होने के बाद क्रिप्टो कम्युनिटी का इसमें अचानक रूझान देखा गया और फिर इस क्रिप्टोकरेंसी की वैल्यू और मार्केट कैपिटलाइजेशन में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई. एक वर्चुअल करेंसी के तौर पर ये जितना खराब हो सके शुरुआत में उतना खराब डिजाइन किया गया, लेकिन अब बात काफी आगे आ चुकी है. हालांकि क्रिप्टोकरेंसी एक्सपर्ट का मानना है कि Dogecoin को अभी भी लॉन्ग-टर्म क्रिप्टोकरेंसी के रूप में नहीं देखा जाता है.

दिसंबर 2013 में हुई शुरुआत के बाद DOGE ने बड़ी तेज़ी से एक मज़बूत ऑनलाइन कम्युनिटी विकसित कर ली और साल 2021 में आखिरकार सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया. खास कर जब Tesla के सीईओ एलन मस्क ने इस कॉइन को सार्वजनिक रूप से सपोर्ट किया. 8 मई, 2021 को DOGE ने $0.70 की दर से US$90 बिलियन का तब का सर्वाधिक मार्केट कैप हासिल किया, और इसके साथ ही अपनी शुरुआत के मुकाबले लगभग 141,000% बढ़ चुकी थी, जिसका नतीजा था कि यह मीम कॉइन दुनिया की टॉप 10 क्रिप्टोकरेंसी में शुमार हुआ.

2022 की शुरुआत में Ethereum के को-फ़ाउंडर Vitalik Buterin ने कन्फ़र्म किया कि वे Dogecoin को मौजूदा प्रूफ़ ऑफ़ वर्क (PoW) से प्रूफ़ ऑफ़ स्टेक (PoS) क्रिप्टो कंसेंसस मैकेनिज़्म पर स्विच करने में मदद कर रहे हैं, ताकि इसमें होने वाली एनर्जी की खपत को कम किया जा सके और ट्रांज़ेक्शन स्पीड को बढ़ाया जा सके.

काम कैसे करता है Dogecoin?

Dogecoin के पास अपना खुद का ब्लॉकचेन और माइनिंग सिस्टम है. कुछ कुछ वैसे ही, जैसे Litecoin के पास है. यानी कि एक तरफ़ जहाँ DOGE को Litecoin का स्पिन-ऑफ़ समझा जा सकता है, जो खुद ही Bitcoin का स्पिन-ऑफ़ है, वहीं दूसरी ओर सही मायने में DOGE कई तरह से ऊपर की दोनों क्रिप्टोकरेंसियों से काफ़ी अलग है. Bitcoin को ऐसे डिज़ाइन किया गया है कि उसकी तादाद कम रहे, ताकि वह इनफ़्लेशन की चोट झेल सके, जबकि Dogecoin को बनाया ही ऐसे गया है कि वह हमेशा प्रचूर मात्रा में उपलब्ध रहे. सर्कुलेशन की बात करें तो लगभग 130 बिलियन DOGE मार्केट में लोगों के पास हैं और इसे माइन करने वाले हर एक मिनट में 10,000 और कॉइन प्रोड्यूस कर रहे हैं. एक और बात ध्यान देने वाली है कि Dogecoin के डेवलपर्स ने साल 2015 के बाद से इसमें कोई बड़ा बदलाव नहीं किया है.

Dogecoin का इस्तेमाल मुख्य रूप से Reddit और Twitter पर क्वालिटी कंटेंट शेयर करने के रिवॉर्ड के तौर पर टिपिंग सिस्टम के रूप में होता है. सोलो माइनिंग करके या किसी माइनिंग पूल में शामिल होकर भी लोग DOGE कमा सकते हैं. साथ ही ऐसी वेबसाइटों के ज़रिए भी DOGE कमाया जा सकता है, जो टोकन के लिए 'फ़ॉसेट' का काम करती हैं.