Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

पर्यावरण के प्रति लगाव ने दिया इको फ्रेंडली प्रोडक्ट बनाने का आइडिया, आज विदेशों में फैला है कारोबार

साल 2020 में स्थापित, EcoSoul Home ने इको फ्रेंडली ग्लोबल होम एसेंशियल मार्केट प्रोडक्ट कैटेगरी में खुद को एक कैटेगरी लीडर के तौर पर साबित किया है. EcoSoul का कारोबार संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, जर्मनी, संयुक्त अरब अमीरात, भारत, चीन और वियतनाम जैसे देशों में फैला है.

पर्यावरण के प्रति लगाव ने दिया इको फ्रेंडली प्रोडक्ट बनाने का आइडिया, आज विदेशों में फैला है कारोबार

Wednesday July 26, 2023 , 10 min Read

हाइलाइट्स

  • EcoSoul Home सस्टेनेबल इको फ्रेंडली प्रोडक्ट्स बनाता है
  • स्टार्टअप ने 10 मिलियन डॉलर की फंडिंग जुटाई है
  • संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, भारत, यूके, चीन और वियतनाम जैसे देशों में इसका कारोबार फैला और यह लगातार विस्तार कर रहा है

ग्लोबल ग्रीन टेक्नोलॉजी और सस्टेनेबिलिटी का मार्केट साइज 2020 में 10.32 बिलियन डॉलर थी, और 2030 तक 74.64 बिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है, जो 2021 से 2030 तक 21.9% की CAGR (compound annual growth rate) से बढ़ रहा है. ये आंकड़े Allied Market Research की वेबसाइट से जुटाए गए हैं. ग्रीन टेक्नोलॉजी में इको फ्रेंडली (पर्यावरण के अनुकूल) सॉल्यूशन शामिल हैं जिनके परिणामस्वरूप आर्थिक और सामाजिक स्थिरता होती है.

साल 2020 में राहुल सिंह और अरविंद गणेशन द्वारा स्थापित, EcoSoul Home ने इको फ्रेंडली ग्लोबल होम एसेंशियल मार्केट प्रोडक्ट कैटेगरी में खुद को एक कैटेगरी लीडर के तौर पर साबित किया है. EcoSoul का कारोबार संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, जर्मनी, संयुक्त अरब अमीरात, भारत, चीन और वियतनाम जैसे देशों में फैला है, जो अपने रिटेल और ई-कॉमर्स D2C (डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर) चैनलों के माध्यम से दुनिया भर में 150+ से अधिक प्रोडक्ट्स ऑफर करता है.

हाल ही में EcoSoul Home के को-फाउंडर राहुल सिंह ने YourStory से बात की. यहां पढ़िए इंटरव्यू के संपादित अंश...

YourStory [YS]: EcoSoul Home की शुरुआत कैसे हुई?

राहुल सिंह: EcoSoul Home की यात्रा की शुरुआत बचपन से प्रकृति के प्रति लगाव या यूँ कहें पर्यावरणीय स्थिरता के प्रति गहरे जुनून और सकारात्मक प्रभाव डालने की इच्छा के साथ शुरू हुई. को-फाउंडर्स के रूप में, हम पुरानी कहावत में दृढ़ता से विश्वास करते हैं कि "हमें पृथ्वी अपने पूर्वजों से विरासत में नहीं मिलती है, हम इसे अपने बच्चों से उधार लेते हैं."

2020 में, हमें NielsenIQ, BCG आदि के कई अध्ययन मिले, जिनमें पाया गया कि 78 प्रतिशत लोगों का मानना था कि सस्टेनेबल लाइफस्टाइल उनके लिए महत्वपूर्ण है. ईएसजी-संबंधित क्रेडेंशियल वाले प्रोडक्ट सभी सीपीजी वृद्धि का 56 प्रतिशत हिस्सा हैं. हालाँकि, उपभोक्ताओं के लिए सामर्थ्य महत्वपूर्ण है क्योंकि वे ईएसजी प्रोडक्ट्स को अपनाते हैं.

बता दें कि एनवायरमेंटल, सोशल एंड गवर्नेंस (ESG) एक फ्रेमवर्क है जिसका उपयोग किसी संगठन की व्यावसायिक प्रथाओं और विभिन्न स्थिरता और नैतिक मुद्दों पर प्रदर्शन का आकलन करने के लिए किया जाता है.

हमने पर्यावरण के प्रति जुनून से प्रेरित होकर, मुख्य रूप से ग्लोबल होम एसेंशियल मार्केट में पारंपरिक रूप से प्रयुक्त होने वाले प्लास्टिक या कागज की बनीं वस्तुओं के एक बेहतर विकल्प के रूप में इको फ्रेंडली वस्तुओं को लाने के उद्देश्य से EcoSoul Home की शुरुआत की.

environmental-sustainability-eco-friendly-products-ecosoul-home

YS: EcoSoul Home किन सस्टेनेबिलिटी चैलेंजेज का समाधान करता है, और कैसे?

राहुल सिंह: EcoSoul Home अपने इको फ्रेंडली होम एसेंशियल प्रोडक्ट के माध्यम से महत्वपूर्ण सस्टेनेबिलिटी चैलेंजेज का समाधान करने के लिए समर्पित है. हम सिंगल-यूज प्लास्टिक से दूर जाने और पर्यावरण की दृष्टि से जिम्मेदार विकल्पों को बढ़ावा देने की तत्काल आवश्यकता को समझते हैं. लेटेस्ट प्रोडक्ट/सामग्री समाधानों का लाभ उठाकर और अपनी सप्लाई चेन को अनुकूलित करके, हमने घरेलू आवश्यक वस्तुओं के बाजार में सफलतापूर्वक हलचल मचा दी है. हमारा दृष्टिकोण हमें पारंपरिक प्लास्टिक और कागज के सामान की तुलना में किफायती कीमतों पर उपभोक्ताओं के लिए पर्यावरण-अनुकूल विकल्प लाने की अनुमति देता है, जिससे टिकाऊ विकल्प अधिक सुलभ और किफायती हो जाते हैं.

YS: आपने कितने फंड से इसकी शुरुआत की? क्या उस समय कोई निवेशक था?

राहुल सिंह: हालांकि किसी भी स्टार्टअप के स्केलिंग के लिए फंडिंग महत्वपूर्ण है, लेकिन एक आंत्रप्रेन्योर के रूप में मेरे दिमाग में यह पहले से ही स्पष्ट था कि हमें ऐसा स्टार्टअप नहीं शुरू करना है जो फंडिंग पर टिका हो. हम कंपनी के सहकर्मियों को मज़ाक में कहते हैं "हम एक कंपनी बनाने के व्यवसाय में हैं, धन जुटाने के व्यवसाय में नहीं".

अपनी यात्रा के पहले 14 महीनों में जब हम प्रोडक्ट-मार्केट के लिए उपयुक्त साबित हो रहे थे, हमने कोई बाहरी फंडिंग नहीं जुटाई. मैंने अपने व्यक्तिगत बचत के पैसों से इसकी शुरुआत की (यहाँ तक कि न्यूयॉर्क में अपना घर भी बेच दिया) और उन मित्रों और परिवार से संपर्क करना शुरू किया जिन्हें मेरे आइडिया पर विश्वास था.

बाद में फंडिंग जुटाना हमारे कारोबार को बढ़ाने के लिए जरूरी हो गया, खासकर तब जब हमनें अपने बिज़नेस को विश्व स्तर पर विस्तार करने की सोची. जैसे-जैसे कारोबार ने गति पकड़ी और हमारी बनाई इको फ्रेंडली वस्तुओं की मांग बढ़ने लगी, हमने कई ग्लोबल इन्वेस्टर्स से फंडिंग जुटाई.

YS: अब तक का सफर कैसा रहा?

राहुल सिंह: अब तक की यात्रा अविश्वसनीय रूप से संतुष्टिदायक रही है. EcoSoul Home अब संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, भारत, यूके, चीन और वियतनाम जैसे देशों में अपने होम एसेंशियल प्रोडक्ट्स की बिक्री और तेज गति से उनकी मांग में वृद्धि के साथ एक ग्लोबल इको फ्रेंडली प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी है, जो दुनिया भर में 100 से अधिक इको फ्रेंडली प्रोडक्ट्स के साथ अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुकी है. ब्रांड के पास वर्तमान में कई सेल्स चैनल हैं - जिनमें D2C चैनल, अमेरिका में ~3500 रिटेल स्टोर्स और कई B2B (बिजनेस-टू-बिजनेस) ग्राहक शामिल हैं.

हमने वैश्विक स्तर पर इको फ्रेंडली प्रोडक्ट्स के प्रति बढ़ती जागरूकता और मांग देखी है. हमारे ब्रांड ने इको फ्रेंडली व सस्टेनेबल होम एसेंशियल विकल्प पेश करने के रूप में एक नई पहचान बनाई है जो किफायती और आकर्षक भी हैं. हमने अपने प्रोडक्ट्स के प्रति उन उपभोक्ताओं की सकारात्मक प्रतिक्रिया देखी है जो अधिक सस्टेनेबल लाइफस्टाइल अपनाने के इच्छुक हैं.

EcoSoul Home_Co-founders

(L-R) EcoSoul Home के को-फाउंडर - राहुल सिंह और अरविंद गणेशन

YS: अभी आप कितनी तरह के प्रोडक्ट उपलब्ध कराते हैं? अगले दो वर्षों में आप और कितने जोड़ना चाहेंगे?

राहुल सिंह: वर्तमान में, हम 100 से अधिक इको फ्रेंडली प्रोडक्ट उपलब्ध कराते हैं, जिनमें टेबलवेयर, किचनवेयर, बाथ केयर, बेबी केयर से लेकर पर्सनल केयर तक के सभी आइटम शामिल हैं. हालाँकि, हम इसमें और अधिक विस्तार करने की योजना पर काम कर रहे हैं और इसके लिए हम निरंतर नए सस्टेनेबल प्रोडक्ट्स और पर्यावरण-अनुकूल स्रोत सामग्रियों के रिसर्च और डेवलपमेंट पर काम कर रहे हैं.

अगले दो वर्षों में, हमारा लक्ष्य इनोवेटिव प्रोडक्ट्स की कई नई सीरीज जोड़ना है जो कृषि के अपशिष्ट पदार्थों से बने प्रोडक्ट्स से अर्थव्यवस्था को बल मिले. वर्तमान में हम गन्ने की खोई, चावल की भूसी, गेहूं के भूसे और बांस के गूदे सहित कई स्रोत सामग्रियों पर शोध कर रहे हैं.

YS: आपके प्रोडक्ट्स का सॉर्स क्या हैं और यह कैसे उपलब्ध हो पाता है?

राहुल सिंह: हम अपने प्रोडक्ट्स को रिन्यूएबल रिसोर्सेज से प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि से जुड़ा है और इसमें एग्री प्रोडक्ट्स का कोई नुकसान भी नहीं होता.

भारत में इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए हमारे पास बहुआयामी दृष्टिकोण है:

(a) हम स्थानीय अर्थव्यवस्था को सीधे समर्थन देने के लिए स्थानीय किसानों, निर्माताओं और छोटे व्यवसाय ऑपरेटरों के साथ सहयोग करके स्थायी सोर्सिंग प्रथाओं को प्राथमिकता देते हैं.

(b) अनुसंधान और विकास में सह-निवेश करके, हम इको फ्रेंडली प्रोडक्ट बनाने में सक्षम हुए हैं जो चावल की भूसी, गेहूं के भूसे, खोई, गिरे हुए ताड़ के पत्तों जैसे "कृषि-अपशिष्ट" से बने हैं.

(c) हमारे पास ऑन-द-ग्राउंड ऑपरेशन टीम है जो स्थानीय विनिर्माण (मैन्युफैक्चरिंग) को प्रशिक्षित करने और स्केल करने में मदद करती है.

(d) प्रोडक्ट रिसर्च और जनशक्ति विकास के लिए देश के प्रमुख विश्वविद्यालयों और संस्थानों के साथ हम सक्रीय रूप से जुड़े है.

(e) हमारी सप्लाई चेन को गहराई से अनुकूलित करने और हमारे कार्बन फुटप्रिंट्स को कम करने के लिए हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डाटा एनालिटिक्स की भी सहायता लेते हैं.

YS: क्या आपके पास इनमें से कई प्रोडक्ट बनाने वाली महिलाओं को तैयार करने और उनकी स्किल्स को बढ़ाने के लिए कोई ट्रेनिंग सेंटर है?

राहुल सिंह: महिलाओं को सशक्त बनाना और उनका कौशल (स्किल्स) बढ़ाना हमारे मिशन का एक अभिन्न अंग है. इसके तहत हम रोजगार, नेतृत्व और कौशल विकास के अवसर प्रदान करके महिला सशक्तिकरण को सक्रिय रूप से बढ़ावा देते हैं. EcoSoul के सभी कर्मचारियों में से लगभग 50% महिलाएँ हैं और हमारी सफलता की आधार स्तम्भ हैं.

हमने अपने कई प्रोडक्ट बनाने वाली महिलाओं को प्रशिक्षित करने और उन्हें सशक्त बनाने के लिए एक ट्रेनिंग सेंटर की स्थापना भी की है. इस पहल के माध्यम से, हम उन्हें प्रशिक्षण, उचित वेतन और एक सपोर्टिव वर्क एनवायरमेंट भी उपलब्ध कराते हैं.

YS: अब जब आपने निवेशकों से 10 मिलियन डॉलर से भी ज्यादा की फंडिंग जुटा ली है; आप इस फंडिंग का उपयोग कैसे करेंगे?

राहुल सिंह: निवेशकों से कुछ महीने पहले मिली 10 मिलियन डॉलर की फंडिंग का उपयोग रणनीतिक रूप से प्रोडक्ट डेवलपमेंट को बढ़ावा देने और हमारे ग्लोबल एक्सपेंशन के लिए किया जाएगा. विशेष रूप से, इस फंडिंग का उपयोग नए प्रोडक्ट्स के लॉन्च और इसके यूके, ईयू और एशियाई बाजारों में अंतर्राष्ट्रीय विस्तार तथा टेक्नोलॉजी और डेटा क्षमताओं को बढ़ाने के लिए किया जाएगा.

हम नए सस्टेनेबल प्रोडक्ट्स को विकसित करने के लिए रिसर्च एंड डेवलपमेंट, इनोवेशन और टेक्नोलॉजिकल प्रोग्रेस में निवेश करने की भी योजना बना रहे हैं. इसके अलावा, हम अपनी सप्लाई चेन को मजबूत करने, अपने मार्केटिंग प्रयासों का विस्तार करने और अपने कस्टमर एक्सपीरियंस को और अधिक बेहतर बनाने पर ध्यान केंद्रित करेंगे. ये फंडिंग हमें अपनी मैन्युफैक्चरिंग कैपेबिलिटीज को बढ़ाने और नए बाजार में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में भी सक्षम बनाएगी.

EcoSoulHome_Products

EcoSoul Home द्वारा तैयार किए गए इको फ्रेंडली प्रोडक्ट्स

YS: वर्तमान में आपके पास भारत और विदेश में कितने आउटलेट हैं? आप और कितने जोड़ना चाहेंगे?

राहुल सिंह: वर्तमान में, हमारी भारत और विदेशों में महत्वपूर्ण खुदरा उपस्थिति है. वैश्विक स्तर पर लगभग 4,000 स्टोर EcoSoul प्रोडक्ट्स बेचते हैं. वैश्विक स्टोर उपस्थिति के अलावा, हम Amazon, Walmart, flipkart और अपनी वेबसाइट जैसे प्लेटफार्मों के माध्यम से सीधे अपने ग्राहकों तक पहुंचने पर भी ध्यान केंद्रित करते हैं.

हम अपने सस्टेनेबल विकल्पों के साथ अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने में विश्वास करते हैं. अपने एक्सपेंशन के अगले चरण में, हमारा लक्ष्य भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रमुख स्थानों पर अधिक से अधिक आउटलेट्स जोड़ना है, ताकि हमारे प्रोडक्ट बड़ी संख्या में ग्राहकों तक आसानी से पहुंच सकें.

YS: क्या आप कारोबार के विस्तार के लिए कोई नए क्षेत्र भी देख रहे हैं?

राहुल सिंह: हां, हम अपनी उपस्थिति का विस्तार करने के लिए लगातार नए भौगोलिक क्षेत्रों की खोज कर रहे हैं. हालाँकि हम पहले से ही संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, भारत, चीन और वियतनाम जैसे देशों में सक्रिय हैं, हमारा मानना है कि कई अन्य क्षेत्र भी हैं जो हमारे इको फ्रेंडली प्रोडक्ट्स से लाभ उठा सकते हैं.

हम अगली तिमाही में यूएई बाजार में लॉन्च कर रहे हैं और बाजार के अवसरों का मूल्यांकन कर रहे हैं और अपने विस्तार के अगले चरण के लिए सबसे उपयुक्त भौगोलिक क्षेत्रों की पहचान करने के लिए गहन शोध कर रहे हैं.

YS: आगे चलकर आपका जोर D2C पर होगा या आपके अपने/फ्रैंचाइज़ी रिटेल आउटलेट पर होगा?

राहुल सिंह: हमारा दृष्टिकोण हमेशा बहुआयामी रहा है, जिसमें D2C चैनल और रिटेल आउटलेट दोनों शामिल हैं. हम अपने ग्राहकों को सुविधा और पहुंच प्रदान करने के महत्व को पहचानते हैं. जबकि D2C हमें उपभोक्ताओं के साथ सीधे जुड़ने और मजबूत संबंध बनाने की अनुमति देता है, हमारे अपने और फ्रैंचाइज़ी रिटेल आउटलेट होने से हमें व्यापक दर्शकों तक पहुंचने और अपने ब्रांड के लिए भौतिक उपस्थिति बनाने में मदद मिलती है. हम अपने प्रभाव को अधिकतम करने और अपने ग्राहकों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए दोनों चैनलों पर ध्यान केंद्रित करना जारी रखेंगे.

YS: समान सस्टेनेबिलिटी/इको फ्रेंडली थीम के साथ किसी नई प्रोडक्ट कैटेगरी में आने की कोई योजना है?

राहुल सिंह: हां, हम लगातार नई प्रोडक्ट कैटेगरी तलाश रहे हैं जो हमारी सस्टेनेबिलिटी और इको फ्रेंडली थीम के अनुरूप हों. हम समझते हैं कि एक महत्वपूर्ण प्रभाव पैदा करने के लिए, हमें रोजमर्रा की जिंदगी के विभिन्न पहलुओं में स्थायी विकल्प पेश करने की जरूरत है.

शोध हमें बताता है कि सिंगल यूज के बाद प्लास्टिक प्रोडक्ट, बेबी डायपर आदि लैंडफिल और जल प्रदूषण में भारी योगदान देते हैं. हम वर्तमान में इन श्रेणियों में पूरी तरह से कंपोस्टेबल विकल्प तैयार कर रहे हैं और शीघ्र ही उन्हें लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं. इसके अलावा, पेट्रोकेमिकल से बने क्लीनर और डिटर्जेंट जैसे होम केयर प्रोडक्ट हमारी नदियों और झीलों को प्रदूषित कर रहे हैं. इस खतरे से निपटना हमारे लिए अगली चुनौती है.

हमारा लक्ष्य विभिन्न श्रेणियों में लेटेस्ट, सस्टेनेबल सॉल्यूशन पेश करना है जो एक हरित और स्वस्थ दुनिया में योगदान करते हैं.

(साभार: गुंजन कुमार)

यह भी पढ़ें
कैसे EV टू-व्हीलर इंडस्ट्री की तस्वीर बदलने की राह पर है स्टार्टअप Ipower Batteries