[फंडिंग अलर्ट] ट्रेड फाइनेंस स्टार्टअप Vayana Network ने 397 करोड़ रुपये के साथ पूरा किया सीरीज सी राउंड

स्टार्टअप ने कहा कि उसने International Finance Corp और PayU सहित नए निवेशकों से 114 करोड़ रुपये जुटाए हैं, इसके अलावा 283 करोड़ रुपये पहले जुटाए थे।

Aparajita Saxena

रविकांत पारीक

[फंडिंग अलर्ट] ट्रेड फाइनेंस स्टार्टअप Vayana Network ने 397 करोड़ रुपये के साथ पूरा किया सीरीज सी राउंड

Wednesday April 20, 2022,

3 min Read

ट्रेड फाइनेंस स्टार्टअप Vayana Networkने बुधवार को कहा कि उसने अपने सीरीज सी राउंड में International Finance Corporation (IFC) और Prosus के स्वामित्व वाले PayU से 114 करोड़ रुपये जुटाए हैं, इसके अलावा इसी राउंड में पहले 283 करोड़ रुपये जुटाए थे।

भारत और विदेशों में नए और मौजूदा निवेशक जैसे कि Chiratae Ventures, March Capital, Marshall Wace, CDC Group, Jungle Ventures और पारिवारिक कार्यालय कुछ अन्य थे जिन्होंने Vayana के सीरीज सी राउंड में भाग लिया था।

राम अय्यर द्वारा 2017 में स्थापित, Vayana एक B2B व्यापार वित्तीय मध्यस्थ है जो व्यापार ऋण के लिए कम लागत वाली पहुंच के लिए SME और कॉर्पोरेट्स को वित्तीय संस्थानों से जोड़ता है। कंपनी का दावा है कि उसने अब तक 10 बिलियन डॉलर के ऋण की सुविधा दी है, और दो मिलियन से अधिक ट्रांजेक्शन प्रोसेस किए हैं।

राम ने फंडिंग की घोषणा करते हुए एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, "जबकि हम इस वित्तीय वर्ष में अकेले भारत में $ 10 बिलियन से अधिक व्यापार वित्तपोषण करने के लिए तैयार हैं, हम छोटे व्यवसायों को अपनी कार्यशील पूंजी को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने और सबसे सस्ती दरों पर व्यापार वित्त की सोर्सिंग करने में मदद करने के लिए उपकरण और बुनियादी ढाँचा बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।"

उन्होंने कहा, "वित्त वर्ष 23 में GIFT City (गुजरात) में Vayana ITFS (इंटरनेशनल ट्रेड फाइनेंस सर्विसेज) प्लेटफॉर्म का भी शुभारंभ होगा, जो निर्यातकों और आयातकों को प्रतिस्पर्धी दरों पर अंतरराष्ट्रीय व्यापार वित्त सुविधाओं तक पहुंचने में सक्षम करेगा।"

funding

पुणे स्थित स्टार्टअप ने कहा कि वह SME और MSME को अपनी कार्यशील पूंजी को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने और क्रेडिट-रेडी बनने में मदद करने पर केंद्रित अधिक प्रोडक्ट्स के निर्माण के लिए ताजा फंडिंग का उपयोग करेगा।

विश्व बैंक की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए, Vayana ने कहा कि भारत में MSME को 380 बिलियन डॉलर के क्रेडिट गैप का सामना करना पड़ता है, जिससे स्टार्टअप को बढ़ने और फलने-फूलने का पर्याप्त अवसर मिलता है।

इस क्रेडिट अंतर को पाटने की तलाश में कई स्टार्टअप पिछले कुछ वर्षों में सामने आए हैं, जिनमें Indifi, Lendingkart, Kinara Capital और FlexiLoans शामिल हैं।

PayU के स्ट्रैटेजी और ग्रोथ डिपार्टमेंट के ग्लोबल हेड विजय अगिचा ने कहा, "दोनों कंपनियों के बीच सहयोग से PayU के मर्चेंट इकोसिस्टम, विशेष रूप से SME ट्रांजेक्शन प्लेटफॉर्म और SME लेंडिंग पोर्टफोलियो के साथ कई तालमेल होंगे। यह निवेश भारत में SME क्रेडिट अवसर पर कब्जा करने की हमारी महत्वाकांक्षा के साथ जुड़ा हुआ है।"


Edited by Ranjana Tripathi