अडानी के शेयरों पर आज इन 5 खबरों का हो रहा असर, जानें किस लेवल पर खरीदें और कब बेचें

अडानी ग्रुप से जुड़ी कई ऐसी खबरें आई हैं, जिनका कंपनी पर सीधा असर हो रहा है. ज्यादातर खबरों का असर निगेटिव है. यही वजह है कि कंपनी के शेयरों में गिरावट देखी जा रही है.

अडानी के शेयरों पर आज इन 5 खबरों का हो रहा असर, जानें किस लेवल पर खरीदें और कब बेचें

Monday February 13, 2023,

6 min Read

अडानी ग्रुप (Adani Group) के शेयरों में पिछले भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है. कंपनी की हालत तब से ज्यादा खराब है, जब से अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग (Hindenburg Research Report) ने अडानी ग्रुप के खिलाफ रिपोर्ट जारी की है. उस रिपोर्ट के आने के बाद से गौतम अडानी की नेटवर्थ में भारी गिरावट देखने को मिली है. इसी बीच उनकी तमाम कंपनियों के नतीजे आ चुके हैं, लेकिन फ्लैगशिप कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज के नतीजे (Adani Enterprises Quarter Result) अभी आने बाकी हैं. अब सबकी नजर इस कंपनी पर है. पिछले कुछ दिनों में गौतम अडानी (Gautam Adani) की कंपनियों को लेकर तमाम तरह के बयान और खबरें आई हैं. ऐसे में सवाल ये है कि क्या अब अडानी ग्रुप के शेयरों को खरीदना चाहिए? खासकर अडानी एंटरप्राइजेज के लिए क्या रणनीति (Should you buy Adani Enterprises) अपनानी चाहिए?

अडानी की नेटवर्थ में भारी नुकसान

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद से अब तक गौतम अडानी की नेटवर्थ में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है. 13 फरवरी सुबह 10.40 बजे तक फोर्ब्स की रीयलटाइम लिस्ट के अनुसार गौतम अडानी की दौलत 55.6 अरब डॉलर बची है. इसके अनुसार उन्हें सिर्फ आज शुरुआती दौर में ही करीब 2.5 अरब डॉलर का नुकसान झेलना पड़ा है. फोर्ब्स की लिस्ट में अभी वह 22वें नंबर पर पहुंच गए हैं.

gautam adani net worth

1- आज आ सकते हैं अडानी एंटरप्राइजेज के नतीजे

पिछले कुछ दिनों में अडानी ग्रुप की 7 लिस्टेड कंपनियों में से 6 के नतीजे आ चुके हैं. वहीं पिछले कुछ महीनों में अडानी ग्रुप ने जिन कंपनियों का अधिग्रहण (अंबुजा सीमेंट, एसीसी और एनडीटीवी) किया था, उनके भी नतीजे आ चुके हैं. सिर्फ उनकी प्लैगशिप कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज के नतीजे आने बाकी हैं, जिस पर तमाम निवेशकों की निगाहें टिकी हुई हैं. उम्मीद की जा रही है कि 13 फरवरी 2023 को कंपनी के नतीजे जारी हो सकते हैं. कंपनी के नतीजे इसके शेयरों की दिशा तय करने में बड़ा रोल प्ले करेंगे. अडानी ग्रुप के शेयरों पर उन खबरों का भी असर पड़ेगा, जो पिछले कुछ दिनों में आई हैं.

2- अडानी ग्रुप ने एसबीआई के पास गिरवी रखे और शेयर

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद भी अडानी ग्रुप की तीन कंपनियों ने भारतीय स्टेट बैंक के पास अतिरिक्त शेयर गिरवी रखे हैं. इसका पता चला है एक स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग से. ये कंपनियां हैं अडानी पोर्ट्स, अडानी ट्रांसमिशन और अडानी ग्रीन एनर्जी. इन्होंने एसबीआई की एक यूनिट एसबीआईकैप ट्रस्टी कंपनी के पास अपने कुछ शेयर गिरवी रख दिए हैं. बताया जा रहा है कि इसके तहत अडानी पोर्ट्स के करीब 75 लाख शेयर गिरवी रखे गए हैं. अब एसबीआई कैप के पास कंपनी के करीब 1 फीसदी शेयर गिरवी हो गए हैं. इसके अलवा कंपनी के पास अडानी ग्रीन एनर्जी के 1.06 फीसदी शेयर और अडानी ट्रांसमिशन के 0.55 फीसदी शेयर गिरवी हैं.

बता दें कि यह शेयर अतिरिक्त कोलेट्रल सिक्योरिटी के तौर पर गिरवी रखे गए हैं, इनके बदले अडानी ग्रुप को कुछ नहीं मिला है. बता दें कि एसबीआई ने अडानी ग्रुप को ऑस्ट्रेलिया की कार्मीकेल कोल माइनिंग प्रोजेक्ट के लिए करीब 30 करोड़ डॉलर का लोन दिया था. बीच-बीच में उस लोन की समीक्षा होती है और अगर कोलेट्रल सिक्योरिटी कम लगती है तो अडानी ग्रुप अतिरिक्त शेयर गिरवी रखकर उसे पूरा करता है.

3- सर्विलांस से बाहर हुए दो स्टॉक

अडानी ग्रुप के अडानी पोर्ट्स और अंबुजा सीमेंट्स को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने एडीशनल सर्विलांस फ्रेमवर्क से बाहर कर दिया है. पिछले दिनों अडानी ग्रुप के शेयरों में भारी उतार-चढ़ाव के चलते इन शेयरों को सर्विलांस में डाला गया था, ताकि भारी उतार-चढ़ाव ना हो. बता दें कि इस फ्रेमवर्क में जिन शेयरों को रखा जाता है, उनके लिए इंट्राडे ट्रेडिंग में 100 फीसदी मार्जिन रखना होता है. आमतौर पर इंट्राडे ट्रेडिंग में सिर्प 20 फीसदी मार्जिन देकर ही ट्रेडिंग की जा सकती है.

4- मूडीज ने अडानी ग्रुप की कंपनियों को दी नेगेटिव रेटिंग

रेटिंग एजेंसी मूडीज ने अडानी ग्रीन एनर्जी, अडानी ग्रीन एनर्जी रेस्ट्रिक्टेड ग्रुप (AGEL RG-1), अडानी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड और अडानी ट्रांसमिशन स्टेप वन लिमिटेड के क्रेडिट आउटलुक को 'स्टेबल' से घटाकर 'निगेटिव' कर दिया है. वहीं अडानी पोर्ट्स, अडानी इंटरनेशनल कंटेनर टर्मिनल, अडानी ग्रीन एनर्जी रेस्ट्रिक्टेड ग्रुप, अडानी ट्रांसमिशन रेस्ट्रिक्टेड ग्रुप 1 के आउटलुक को स्टेबल बताया है.

5- रेवेन्यू ग्रोथ का अनुमान घटाया

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक अडानी ग्रुप ने अगले वित्त वर्ष के लिए ग्रोथ को 40 फीसदी से घटाकर 15-20 फीसदी कर दिया है. यानी पहले अनुमान था कि कंपनी का रेवेन्यू 40 फीसदी तक बढ़ सकता है, लेकिन मौजूदा हालात को देखते हुए कंपनी ने इसे कम करते हुए 15-20 फीसदी कर दिया है.

अडानी ग्रुप के शेयर अब खरीदें या नहीं

पिछले कुछ हफ्तों से अडानी ग्रुप के शेयरों में जिस तरह का उतार-चढ़ाव देखा जा रहा है, उसे देखते हुए अडानी ग्रुप के शेयर अभी रिस्की हैं. जीसीएल ब्रोकिंग के सीईओ रवि सिंहल कहते हैं कि अगर आप अडानी एंटरप्राइजेज के शेयर खरीदने की सोच रहे हैं तो अभी उसमें ना घुसें. अडानी एंटरप्राइजेज को खरीदने का सही वक्त तब होगा, जब शेयर 1000-1200 रुपये के बीच में आए. साथ ही उन्होंने निवेशकों को सलाह दी है कि वह 840 रुपये का स्टॉप लॉस भी जरूर लगाएं, वरना भारी नुकसान हो सकता है.

आज क्या है अडानी ग्रुप के शेयरों का हाल?

शेयर बाजार के शुरुआती दौर में अडानी ग्रुप की सभी कंपनियों में गिरावट देखने को मिल रही है. सुबह 10.40 बजे तक अडानी एंटरप्राइजेज 2.81 फीसदी तक गिरकर 1795 रुपये के लेवल पर पहुंच गया है. अडानी ग्रीन एनर्जी में 5 फीसदी का लोअर सर्किट लगा है और शेयर की कीमत 688 रुपये हो गई है. अडानी पोर्ट्स में भी 1.12 फीसदी की गिरावट है और शेयर 577 रुपये के करीब है. अडानी पावर में भी करीब 5 फीसदी का लोअर सर्किट लगा है और कंपनी का शेयर 156 रुपये का हो गया है.

अडानी ट्रांसमिशन को भी 5 फीसदी का लोअर सर्किट झेलना पड़ा है, जिसके बाद शेयर की कीमत 1127 रुपये हो गई है. अडानी विल्मर लगभग 5 फीसदी गिरकर 416 रुपये का हो गया है. इनके अलावा अडानी टोटल गैस में भी 5 फीसदी का लोअर सर्किट लगा है और कंपनी का शेयर 1193 रुपये के करीब पहुंच गया है. इतना ही नहीं, एसीसी 2.28 फीसदी गिरकर 1838 रुपये और अंबुजा सीमेंट 3.58 फीसदी गिरकर 1837 रुपये पर पहुंच गया है. वहीं एनडीटीवी में 5 फीसदी का लोअर सर्किट लगा है और कंपनी का शेयर 198 रुपये के लेवल पर जा पहुंचा है.