ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त आपको बेस्ट डील दिलाता है स्टार्टअप Combonation

गुरुग्राम स्थित Combonation भारत का पहला कॉम्बो डील डेस्टीनेशन है. यह बहुत से ब्रांड्स का एक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म है जो रियायती कीमतों पर बेस्ट कॉम्बो डील आपके सामने रखता है. यानि कि यह आपके पैसे और वक्त तो बचाता ही है; आपको शॉपिंग की एक सुखद अनुभूति का भी अहसास होता है.

ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त आपको बेस्ट डील दिलाता है स्टार्टअप Combonation

Friday September 08, 2023,

5 min Read

बढ़ते इंटरनेट उपयोगकर्ता आधार और अनुकूल बाजार स्थितियों के कारण, भारत में ई-कॉमर्स इंडस्ट्री में काफी संभावनाएं हैं. तेजी से बढ़ते हुए, भारत में ई-कॉमर्स इंडस्ट्री की मार्केट वैल्यू 2018 में लगभग 22 अरब अमेरिकी डॉलर थी. इसके 2030 तक 350 अरब डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है. ये आंकड़े statista से जुटाए गए हैं.

आज के दौर में हम लगभग रोजाना कुछ न कुछ ऑनलाइन खरीदते हैं. और कोशिश होती है कि मनचाही चीजें कम से कम दामों में मिल जाए. इसके लिए हम तरह-तरह के ऑफर्स चेक करते हैं. अलग-अलग ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर भागते हैं. इसमें वक्त भी लगता है और ये प्रक्रिया थकाउ भी है. मगर अब आपको ये मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी. क्योंकि एक स्टार्टअप है जो आपके लिए ये काम बेहद आसान कर रहा है.

गुरुग्राम स्थित Combonationभारत का पहला कॉम्बो डील डेस्टीनेशन है. यह बहुत से ब्रांड्स का एक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म है जो रियायती कीमतों पर बेस्ट कॉम्बो डील आपके सामने रखता है. यानि कि यह आपके पैसे और वक्त तो बचाता ही है; आपको शॉपिंग की एक सुखद अनुभूति का भी अहसास होता है.

साल 2021 में पूजा सोढ़ी (को-फाउंडर और सीईओ) और सौरभ नंदा (फाउंडर) ने Combonation की शुरुआत की थी. जहां एक ओर सौरभ को बिजनेस की दुनिया में 25 वर्षों का अनुभव है वहीं पूजा का सफर 1999 में सिटीबैंक के साथ शुरू हुआ. वर्षों तक अपने करियर में अपार सफलताएं हासिल करने के बाद दोनों ने कॉर्पोरेट वर्ल्ड छोड़ने का फैसला किया और Combonation की शुरुआत की.

हाल ही में पूजा सोढ़ी ने YourStory से बात करते हुए Combonation की शुरुआत, बिजनेस मॉडल, फंडिंग, रेवेन्यू, चुनौतियों और भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया.

Startup Snapshot_Combonation

पूजा सोढ़ी बताती हैं, "Combonation प्रतिस्पर्धी रिटेल स्टोर्स में ब्रांड्स द्वारा दी जाने वाली छूट के अलावा बेस्ट ब्रांड डिस्काउंट और 100% तक फ्री गिफ्ट्स देता है. हमारी सोर्सिंग विशेषज्ञता और ब्रांड्स के साथ मजबूत रिश्ते हमें उपभोक्ताओं के लिए खास डील तैयार करने की अनुमति देते हैं. इससे ब्रांड्स भी खुश होते हैं और हम उपभोक्ताओं के चेहरे पर मुस्कान देखकर सबसे ज्यादा खुश होते हैं."

पूजा आगे बताती हैं, "आज के जमाने के बिजनेस मालिकों को जो बात सबसे ज्यादा परेशान कर रही है, वह है ऑनलाइन ऑफ़लाइन मूल्य विभाजन. यह एक अंतहीन चुनौती है, जिसमें प्रत्येक चैनल दूसरे चैनल द्वारा कटौती की शिकायत के साथ अधिकांश समय बर्बाद कर देता है. इसके अलावा, ग्राहक को ऑनलाइन डिस्काउंट की आदत हो गई है. फिजिकल डिस्ट्रीब्यूशन सदियों पुराना है और थका हुआ है और अक्सर सबसे अच्छी कंपनियों के साथ अपने सहयोग को वापस लेने की धमकी देता है. यह अब तक एक जीरो-वैल्यू वाला गेम रहा है, जिसमें ऑनलाइन लाभ हुआ है, जिससे ऑफ़लाइन गिरावट हुई है."

Combonation यह सब बदलने के लिए तैयार है, सभी स्टैकहोल्डर्स को खुश रखते हुए, कंपनी अपने ऑनलाइन और ऑफलाइन इकोसिस्टम में जो ग्राहक ऑनलाइन छूट के आदी हैं, उन्हें बेस्ट दिलाने का वादा करती है. यहां तक कि जब वे ऑफलाइन मोड में शॉपिंग कर रहे होते हैं, तब भी डील मिलती हैं, जहां माहौल खुशनुमा होता है और खरीदारी का भरपूर आनंद होता है, साथ ही बेस्ट ब्रांड के डिस्काउंट और Combonation से 100% तक फ्री गिफ्ट भी मिलते हैं. कंपनी अपने विभिन्न यूनिक सोर्सिंग फॉर्मेट्स और सेल्स बंडलिंग के माध्यम से कंपनियों को लिक्विडेशन के सिरदर्द से निपटने में भी सहायता करती है.

बिजनेस मॉडल के बारे में बताते हुए को-फाउंडर कहती हैं, "बिजनेस मॉडल ब्रांड्स को अधिक बेचने, अटकी हुई इन्वेंट्री को खत्म करने और उपभोक्ताओं के लिए बेहतर डील मुहैया करने के बारे में है. जब ब्रांड्स को बंडल किया जाता है, तो कोई अकेला ब्रांड नहीं होता है जिसे अपने बिजनेस को बनाए रखते हुए गहरी छूट के लिए आगे किया जा सके."

Combonation ने अब तक अलग-अलग ऐंजल इन्वेस्टर्स से 2 मिलियन डॉलर जुटाए हैं और यह शीघ्र ही 10 मिलियन डॉलर से अधिक की इंस्टीट्यूशनल फंडिंग जुटाने की उम्मीद कर रहा है.

पूजा बताती हैं, "हम एक ओमनीचैनल रिटेलर हैं और हम ऑफ़लाइन, ऑनलाइन और इंस्टीट्यूशनल सेलिंग के जरिए रेवेन्यू कमाते हैं. इस साल हमारा GMV (Gross merchandise volume) रन रेट 100 करोड़ है और अगले साल तक 300 करोड़ की उम्मीद है. हमने अब तक पांच लाख से अधिक उपभोक्ताओं को सेवाएं मुहैया की है और हम जल्द ही दस लाख ग्राहकों के आंकड़े को छूना चाहते हैं."

इस बिजनेस को खड़ा करने में किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा? इसके जवाब में पूजा कहती हैं, "जिन कंपनियों को ज्यादा फंड दिए जाते हैं, वे कई मौजूदा बिजनेसेज को पटरी से उतार देते हैं और बिजनेस के साथ व्यापारिक संबंध खराब कर देते हैं, Combonation शॉपिंग के लिए बेस्ट सोर्सिंग क्षमताओं, ब्रांड्स के साथ मजबूत व्यापारिक संबंधों और डील की तलाश में ग्राहक मानस को समझने का सावधानीपूर्वक उपयोग करता है. कॉम्बो, कॉन्सेप्ट नया है लेकिन जैसे-जैसे दर्शक अच्छी डील को समझने लगते हैं और ब्रांड्स को चैनल पार्टनर्स के प्रतिरोध का सामना नहीं करना पड़ता है, हर कोई खुश होता है, हालांकि, हमारे लिए सभी को खुश रखना एक बड़ा काम है."

अंत में Combonation को लेकर भविष्य की योजनाओं पर बात करते हुए को-फाउंडर और सीईओ पूजा सोढ़ी कहती हैं, "हम आने वाले समय में 100 से अधिक स्टोर्स तक विस्तार करना चाहते हैं और साथ ही हमारे ऑनलाइन लॉजिस्टिक्स प्ले के लिए एक डार्क स्टोर की तरह काम करने वाले प्रत्येक पिनकोड में एक स्टोर के साथ एक बहुत ही मजबूत ऑनलाइन प्ले भी करना चाहते हैं."

यह भी पढ़ें
कैसे 30 सेकंड में फ्री ऑनलाइन स्टोर खोलने में मदद करता है स्टार्टअप Coutloot