खुल गया हर्षा इंजीनियर्स इंटरनेशनल का IPO, 16 सितंबर तक रहेगा शेयरों के लिए बोली लगाने का मौका

By Ritika Singh
September 14, 2022, Updated on : Wed Sep 14 2022 05:44:24 GMT+0000
खुल गया हर्षा इंजीनियर्स इंटरनेशनल का IPO, 16 सितंबर तक रहेगा शेयरों के लिए बोली लगाने का मौका
कंपनी IPO के तहत 455 करोड़ रुपये के नए इक्विटी शेयर जारी करेगी और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 300 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री का प्रस्ताव यानी ऑफर फॉर सेल रखा गया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

‘बेरिंग केज’ बनाने वाली हर्षा इंजीनियर्स इंटरनेशनल का आईपीओ (Harsha Engineers International IPO) 14 सितंबर को खुल गया. कंपनी ने अपने 755 करोड़ रुपये के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) के लिए प्रति शेयर 314 से लेकर 330 रुपये तक का प्राइस बैंड तय किया है. कंपनी अपने पात्र कर्मचारियों को 31 रुपये प्रति इक्विटी शेयर का डिस्काउंट दे रही है. कंपनी का आईपीओ 16 सितंबर को बंद होगा.


कंपनी अपने निर्गम के तहत 455 करोड़ रुपये के नए इक्विटी शेयर जारी करेगी और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा 300 करोड़ रुपये के शेयरों की बिक्री का प्रस्ताव यानी ऑफर फॉर सेल (OFS) रखा गया है. बिक्री पेशकश के हिस्से के रूप में राजेंद्र शाह, हरीश रंगवाला, पिलक शाह, चारुशीला रंगवाला और निर्मला शाह अपने शेयरों की बिक्री करेंगे.

कहां लगाएगी जुटाया गया पैसा

आईपीओ से प्राप्त होने वाली आय का इस्तेमाल कंपनी ऋण भुगतान, मशीनरी की खरीद के लिए कार्यशील पूंजी और मौजूदा उत्पादन सुविधाओं के बुनियादी ढांचे की मरम्मत के लिए करेगी.निर्गम का आधा हिस्सा योग्य संस्थागत निवेशकों के लिए आरक्षित रखा गया है, जबकि खुदरा निवेशकों के लिए 35 प्रतिशत और शेष 15 प्रतिशत गैर-संस्थागत निवेशकों के लिए आरक्षित है. आईपीओ के लिए एक्सिस कैपिटल, इक्विरस कैपिटल और जेएम फाइनेंशियल लीड मैनेजर हैं, जबकि लिंक इनटाइम इंडिया को रजिस्ट्रार नियुक्त किया गया है.

एंकर इन्वेस्टर्स से 225.75 करोड़ रुपये जुटाए

कंपनी ने एक रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा कि हर्षा इंजीनियर्स ने 330 रुपये प्रति शेयर की कीमत पर 68.4 लाख इक्विटी शेयरों को अलॉट कर ग्लोबल और डॉमेस्टिक एंकर इन्वेस्टर्स से 225.75 करोड़ रुपये जुटाए हैं. एंकर बुक में अमेरिकन फंड्स इंश्योरेंस, गोल्डमैन सैक्स, पाइनब्रिज ग्लोबल फंड्स, अबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी, व्हाइटओक कैपिटल और कई डॉमेस्टिक म्यूचुअल फंड्स ने हिस्सा लिया.

FY22 में कंपनी का मुनाफा 91.94 करोड़ रुपये

हर्षा इंजीनियरिंग, ऑटोमोटिव, एविएशन, एयरोस्पेस, रेलवे, कंस्ट्रक्शन, रिन्युएबल एनर्जी, एग्रीकल्चर आदि समेत विभिन्न जियोग्राफीज व एंड यूजर इंडस्ट्रीज में विविध प्रकार के इंजीनियरिंग प्रॉडक्ट्स की पेशकश करती है. कंपनी 25 से ज्यादा देशों में अपनी सेवाएं देती है. वित्त वर्ष 2021-22 में कंपनी का मुनाफा 91.94 करोड़ रुपये और रेवेन्यु 1321.48 करोड़ रुपये रहा था. वित्त वर्ष 2020-21 में कंपनी का मुनाफा 45.44 करोड़ रुपये और रेवेन्यु 876.73 करोड़ रुपये रहा था. हर्षा इंजीनियर्स इंटरनेशनल का दावा है कि 2020 में इंडियन बियरिंग केजेस मार्केट के ऑर्गेनाइज्ड सेगमेंट में उसका मार्केट शेयर 50 प्रतिशत था. वहीं पीतल, स्टील और पॉलीऐमाइड केजेस के लिए ग्लोबल ऑर्गेनाइज्ड बियरिंग केजसे में मार्केट शेयर 5.2 प्रतिशत रहा था.