Hindenburg Research ने गौतम अडानी पर लगाया घोटाले का आरोप, जानिए क्या जवाब दिया कंपनी ने

By Anuj Maurya
January 25, 2023, Updated on : Wed Jan 25 2023 10:17:08 GMT+0000
Hindenburg Research ने गौतम अडानी पर लगाया घोटाले का आरोप, जानिए क्या जवाब दिया कंपनी ने
Hindenburg Research ने एक रिपोर्ट जारी की है और गौतम अडानी पर घोटाले का आरोप लगाया है. आरोप है कि अडानी ग्रुप ने स्टॉक्स को मैनुपुलेट किया है और अकाउंटिंग फ्रॉड किया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

गौतम अडानी (Gautam Adani) को आज कौन नहीं जानता. इन दिनों वह दुनिया के तीसरे और चौथे सबसे अमीर शख्स की पोजीशन पर रहते हैं. पिछले साल फरवरी में ही पहली बार उन्होंने मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) को पछाड़ा था और भारत के सबसे अमीर शख्स बने थे. सवाल ये है कि आखिर वह अचानक से इतने अमीर कैसे बन गए? यह सब मुमकिन हुआ उनकी लिस्टेड कंपनियों के शेयरों में आई तेजी की वजह से. हालांकि, इस तेजी पर कई बार सवाल भी उठे हैं. कुछ समय पहले कंपनी पर आरोप लगा थी कि शेयरों में कुछ गड़बड़ी की गई है. गलत तरीके से शेयर की कीमतें बढ़ाई गई हैं, लेकिन बाद में वह मामला खारिज हो गया. अब Hindenburg Research ने एक रिपोर्ट जारी की है और गौतम अडानी पर घोटाले (Fraud) का आरोप लगाया है. हालांकि, अडानी ग्रुप (Adani Group) ने रिपोर्ट को गलत करार दिया है.

क्या कहा गया है रिसर्च रिपोर्ट में?

Hindenburg Research की रिसर्च रिपोर्ट Adani Group: How The World’s 3rd Richest Man Is Pulling The Largest Con In Corporate History हेडिंग के साथ पब्लिश हुई है. अगर इस हेडिंग का ट्रांसलेशन करें तो ये बनता है- 'कैसे दुनिया का तीसरा सबसे अमीर आदमी कॉर्पोरेट इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला कर रहा है'. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अडानी ग्रुप स्टॉक मैनिपुलेशन और अकाउंटिंग फ्रॉड में शामिल है. रिपोर्ट में कंपनी पर सीधे-सीधे घोटाला करने का आरोप लगाया गया है.

अडानी ग्रुप ने कहा ये सब गलत है

अडानी ग्रुप के सीएफओ जुगेशिंदर सिंह ने कहा है कि Hindenburg Research की 24 जनवरी 2023 को पब्लिश हुई रिपोर्ट को छापने से पहले ना तो कपनी से संपर्क किया गया ना ही फैक्ट्स को वेरिफाई करने की कोशिश की गई. इस रिपोर्ट में बहुत सारी गलत बातें कही गई हैं, जिनका कोई आधार नहीं है. इस रिपोर्ट में जो आरोप अडानी ग्रुप पर लगाए गए हैं, उन्हें भारत के सुप्रीम कोर्ट ने पहले ही खारिज कर दिया है.


कंपनी के अनुसार यह रिपोर्ट अडानी ग्रुप की छवि को खराब करने की कोशिश है. इस रिपोर्ट के जरिए कंपनी के आने वाले एफपीओ को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की जा रही है. बता दें कि अडानी एंटरप्राइजेज का एफपीओ भारत का अब तक का सबसे बड़ा एफपीओ होगा. कंपनी के अनुसार निवेशकों ने अडानी ग्रुप में हमेशा भरोसा किया है. उनके इस भरोसा का आधार हैं फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स की तरफ से विस्तार में की गई एनालिसिस और उसके बाद बनाई गई रिपोर्ट. हमारे जागरूक निवेशक किसी भी एकतरफा रिपोर्ट से प्रभावित नहीं होते हैं. अडानी ग्रुप ने हमेशा कानून का पालन किया है और उसी के हिसाब से काम करता है. ये कंपनी तमाम कॉरपोरेट और गवर्नेंस स्टैंडर्ड का भी पूरा पालन करती है.