दिल्ली की ये लड़की बनना चाहती थी वकील, लेकिन ऐसा क्या हुआ कि बन गई ऐश्वर्या राय और अन्य सितारों की स्टाइलिस्ट

By Ramarko Sengupta
April 15, 2021, Updated on : Fri Apr 16 2021 06:59:57 GMT+0000
दिल्ली की ये लड़की बनना चाहती थी वकील, लेकिन ऐसा क्या हुआ कि बन गई ऐश्वर्या राय और अन्य सितारों की स्टाइलिस्ट
सेलिब्रिटी, फैशन, फिल्म और वेडिंग स्टाइलिंग स्टार्टअप वार्डरोबिस्ट (Wardrobist) की संस्थापक, आस्था शर्मा वकील बनने के लिए तैयार थीं, लेकिन किस्मत उन्हें कहीं और ही लेकर जाना चाहती थी।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

"उत्तरी दिल्ली के मॉडल टाउन पड़ोस में वकीलों के एक परिवार में पैदा हुईं, आस्था ने कभी फैशन या स्टाइल में करियर बनाने के बारे में नहीं सोचा था। उन दिनों, यह वास्तव में वैसे भी एक कैरियर विकल्प नहीं था। वह अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए वकील बनना चाहती थीं और यहां तक कि नेशनल लॉ स्कूल के लिए एंट्रेंस एग्जाम भी पास कर लिया था।"

अभिनेत्री दिशा पाटनी के साथ वॉर्डरोबिस्ट फाउंडर आस्था शर्मा और वॉर्डरोबिस्ट की हेड स्टाइलिस्ट रिआन मोरडियन (L-R)

अभिनेत्री दिशा पाटनी के साथ वॉर्डरोबिस्ट फाउंडर आस्था शर्मा और वॉर्डरोबिस्ट की हेड स्टाइलिस्ट रिआन मोरडियन (L-R)

ऐश्वर्या राय बच्चन, सैफ अली खान और दिशा पटानी कुछ ऐसे नाम हैं जो आस्था शर्मा की सेलिब्रिटी क्लाइंट्स की लंबी सूची में शामिल हैं। सेलिब्रिटी, फैशन, फिल्म और वेडिंग स्टाइलिंग स्टार्टअप, वार्डरोबिस्ट की संस्थापक, आस्था 2015 से फेमस कान फिल्म समारोह में सितारों के रेड कार्पेट लुक को स्टाइल कर रही हैं।


आस्था और उनकी टीम ने L'oreal और लॉन्गाइन्स जैसे वैश्विक मार्की ब्रांडों के लिए कैंपेन भी तैयार किए हैं। पूर्व हार्पर बाजार की सीनियर स्टाइलिस्ट आस्था ने प्रतिष्ठित फैशन पत्रिका में दो साल के कार्यकाल के बाद 2012 में अपना मुंबई स्थित स्टार्टअप लॉन्च किया था।


उत्तरी दिल्ली के मॉडल टाउन पड़ोस में वकीलों के एक परिवार में पैदा हुईं, आस्था ने कभी फैशन या स्टाइल में करियर अपनाने के बारे में नहीं सोचा था। उन दिनों, यह वास्तव में वैसे भी एक कैरियर विकल्प नहीं था। वह अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए वकील बनना चाहती थीं और यहां तक कि नेशनल लॉ स्कूल के लिए एंट्रेंस एग्जाम भी पास कर लिया था। हालाँकि, उनके पिता ने उन्हें बिठाया और कहा कि वह ग्रेजुएट होने के बाद लॉ की पढ़ाई करे, वो भी तब जब वह दिल से इसे करना चाहें नाकि इसलिए क्योंकि उनके पिता इस पेशे में थे।


वह याद करते हुए कहती हैं,

"मुझे लगता है कि अंदर ही अंदर वह नहीं चाहते थे कि मैं एक वकील बनूं। मैं एंटी-करप्शन में जाना चाहती थी, वह एक खुद एंटी-करप्शन वकील थे और शायद इसीलिए उन्होंने सोचा कि मेरे लिए वह जगह ठीक नहीं है।"


उनके पिता को शायद पता था कि उनकी बेटी का ठिकाना कुछ और ही है। जब वह दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस में इंग्लिश लिटरेचर की स्टडी करने के लिए गईं, तो उन्हें भी एहसास हुआ कि वह "अधिक मुक्त" और "अधिक रचनात्मक" काम करना चाहती हैं। कॉलेज में रहते हुए, आस्था ने फैशन में गहरी रुचि विकसित की। स्नातक करने के बाद, उन्होंने पर्ल एकेडमी में एडमिशन लिया जोकि एक निजी कॉलेज है जिसे फैशन इंडस्ट्री के लिए डिजाइन किए गए पाठ्यक्रमों के लिए जाना जाता है।


अपने फैशन मार्केटिंग और मर्चेन्डाईजिंग कोर्स में छह महीने के दौरान, उन्होंने महसूस किया कि वह फैशन के उस पहलू का आनंद नहीं ले रही है जिसमें कारखानों का दौरा करना शामिल था और वह लगभग छोड़ देने की कगार पर थीं। लेकिन उनके कोर्स कोऑर्डिनेटर ने उन्हें कोर्स पूरा करने के लिए मना लिया और उन्हें भरोसा दिलाया कि वह फैशन के एक अलग पहलू को अपना सकती हैं जो मर्चेंडाइजिंग और मार्केटिंग से परे है।


आस्था बताती हैं,

“एक दिन मैं लाइब्रेरी में बैठी थी और मेरे एक दोस्त ने मुझे स्टाइलिंग के बारे में बताया। उस समय स्टाइलिंग बहुत नई थी। यह एडिटोरियल स्टाइलिंग या कैंपेन और कॉमर्शियल तक सीमित थी। इसलिए उसने मुझे रिन जाजो से मिलवाया, जो मैक्सिम (मैग्जीन) स्टाइलिस्ट थे, और मैंने उनके साथ इंटर्न करना शुरू कर दिया। मैंने एक अन्य स्टाइलिस्ट आदित्य वालिया को भी असिस्ट करना शुरू कर दिया। उन्हें असिस्ट करने के दौरान मुझे यह महसूस हुआ कि यही वह है जिसे मैं एंजॉय कर रही हूं।"


उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा क्योंकि वह जानती थीं कि उन्हें वास्तव में क्या करना है। बाद में, हार्पर बाजार में फैशन प्रोड्यूसर के रूप में, स्टाइलिंग और प्रोड्यूसिंग शूट के अनुभव ने उन्हें "शानदार एक्सपोजर" दिया, क्योंकि इस दौरान उन्होंने दुनिया की यात्रा की थी। इसने उन्हें इंडस्ट्री में कॉन्टैक्ट बनाने में मदद की और कुछ साल इसी लाइन में लगे रहने के बाद, उन्हें एहसास हुआ कि वह अपने दम पर शुरुआत करने के लिए तैयार है।

स्टाइलिंग का उद्भव

एक फुल-टाइम प्रोफशन के रूप में स्टाइलिंग लगभग एक दशक पहले तक अनसुनी सी बात थी। उस समय फैशन डिजाइनर स्टाइलिंग के साथ-साथ एंड-टू-एंड फैशन सलूशन देते थे। लेकिन यह सब 2010-2012 के आस-पास बदलना शुरू हो गया, जब आस्था के अनुसार, "बहुत सारे अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड" जैसे डायर (Dior), गुच्ची, सल्वाटोर फेररागामो भारत आने लगे और "भारतीय हस्तियों को कपड़े पहनाना चाहते थे"।


वह कहती हैं,

“2010 के बाद ड्रेस पहनकर तैयार होने और किसी कार्यक्रम में जाने या सार्वजनिक रूप से बाहर जाने का चलन बदल गया। मीडिया भी बहुत अधिक सक्रिय और जागरूक हो गया है।” तो वास्तव में एक स्टाइलिस्ट की जॉब क्या होती है? आस्था बताती हैं कि यह पूरी प्रक्रिया है जो कपड़ों से शुरू होती है और अंतिम तस्वीर के साथ समाप्त होती है।


वे कहती हैं,

"हम पहले समझते हैं कि हम किसे स्टाइलिंग कर रहे हैं, हम किसके लिए स्टाइलिंग कर रहे हैं, फिर हम रेफरेंस की तलाश करते हैं, फिर कपड़े जो हमारे रेफरेंस से मेल खाते हैं और जो हमारे पास हैं उससे मेल खाते हैं। फिर हम उनके साथ फिटिंग का एक राउंड करते हैं, एक या दो या तीन आउटफिट्स को शॉर्टलिस्ट करते हैं जो उस इवेंट या शूट के लिए पूरी तरह से परफेक्ट काम करेंगे। फिर एसेसरीज का नंबर आता है, आपके जूते, आपकी ज्वैलरी, आपका बैग सहित वह सब कुछ जो आपको अपने कलाकार पर दिखाने की आवश्यकता है। फिर बालों और मेकअप का नंबर आता फिर आप उसकी फाइनल तस्वीर में आ जाते हैं।"


जहां हर स्टाइलिस्ट अपनी खुद की स्टाइल लाना चाहता है, ऐसे में पहले प्रोजेक्ट, सेलिब्रिटी और उनकी संबंधित आवश्यकताओं को समझना महत्वपूर्ण हो जाता है।


आस्था कहती हैं,

“हर सेलिब्रिटी का अपना व्यक्तित्व होता है, वे अपनी इमेज, पर्सनल स्टाइल के साथ आते हैं। इसलिए, आपको वास्तव में यह समझना होगा कि इससे पहले कि आप उनके साथ काम करना शुरू करें।”


उनके ग्राहकों के अनुसार, यह ऐसा कुछ है जो आस्था वास्तव में अच्छे से करती हैं।


अभिनेत्री दिशा पटानी कहती हैं,

“वह (आस्था) ऐसी है जो वास्तव में मेरी पर्सनल स्टाइल को समझती है और वह वास्तव में मेरी टाइप के हिसाब से और जो मुझ पर अच्छा लगता है उसके हिसाब से काम करती है। मुझे लगता है कि यह कुछ ऐसा है जो बहुत महत्वपूर्ण है और बहुत बार लोग इस साइड को अनदेखा करते हैं।"

अभिनेत्री दिशा पाटनी का कहना है कि आस्था वास्तव में उनकी व्यक्तिगत शैली को समझती है

अभिनेत्री दिशा पाटनी का कहना है कि आस्था वास्तव में उनकी व्यक्तिगत शैली को समझती है

स्टाइलिस्ट कैसे बनें

आस्था चेतावनी देती हैं कि केवल फैशनेबल होने या आपको फैशन से प्रेम है, यह आपको स्टाइलिस्ट बनने के लिए पर्याप्त नहीं है। वह कहती हैं कि बहुत ही कड़ी मेहनत और बहुत प्रतिस्पर्धी माहौल में लंबे समय तक काम करना है। शिक्षा और विषय की अच्छी पकड़ होना जरूरी है। लगभग सभी फैशन कॉलेज, चाहे वह निफ्ट, पर्ल, पारसन या लंदन स्कूल ऑफ फैशन हो, अब स्टाइलिंग में कोर्स ऑफर करते हैं। किसी विषय में एक अच्छी शिक्षा आपको अच्छी स्थिति में रखती है, लेकिन यदि आप उत्कृष्टता प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको अपने करियर के दौरान लगातार अध्ययन, शोध और पढ़ना जारी रखना होगा।


नये स्टाइलिस्ट्स को सलाह देते हुए आस्था कहती हैं,

"यह सिर्फ किसी को एक ड्रेस पहनाने के बारे में नहीं है। आपको पेशेवरों के तहत काम करना चाहिए और काम सीखना चाहिए। कॉन्टैक्ट बनाएं, समझें कि दुनिया भर में फैशन की दुनिया में क्या हो रहा है। फैशन में क्या चलन है, क्या चल रहा है, इस पर नज़र रखें।”


आस्था और उनका स्टार्टअप कई अन्य स्टाइलिस्ट्स में से है, जो स्टाइलिंग सर्विसेज ऑफर करते हैं, लेकिन वह उन्हें प्रतियोगिता नहीं मानते हैं। वह कहती हैं कि यह एक पारिस्थितिकी तंत्र है जहां हर कोई एक दूसरे की मदद करने की कोशिश कर रहा है और हर किसी के लिए पर्याप्त काम है। भारत के कुछ प्रमुख स्टाइलिस्टों में रिया कपूर, अनाइता श्रॉफ अदजानिया, शलेना नैथानी, अमी पटेल, तान्या घावरी और मोहित राय शामिल हैं।

बिजनेस मॉडल

वॉर्डरोबिस्ट का बिजनेस मॉडल रिटेनर और एड-हॉक प्रोजेक्ट्स का मिश्रण है। चूंकि यह सर्विस से संबंधित बिजनेस है, इसलिए लाभप्रदता कभी चिंता का विषय नहीं रही। आस्था बताती है कि स्टाइलिंग प्रोजेक्ट्स के लिए शुल्क 20,000 रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक हो सकता है। व्यवसाय शुरू करने के लिए कोई प्रारंभिक निवेश की आवश्यकता नहीं थी जब वह अपने पूर्व हार्पर बाजार के सहयोगी और व्यवसाय के साथी मोहित राय के साथ शुरू कर रही थीं।

आस्था ने बिना किसी प्रारंभिक निवेश के वार्डरोबिस्ट की शुरुआत की

आस्था ने बिना किसी प्रारंभिक निवेश के वार्डरोबिस्ट की शुरुआत की

दोनों ने अपनी जॉब छोड़ दी, एक पंजाबी फिल्म के लिए एक स्टाइलिंग प्रोजेक्ट लिया, "थोक" में कमाया और उस पैसे से मुंबई चले गए। सिर्फ दो लोगों से, वार्डरोबिस्ट अब 10 की एक टीम है जिसमें हेड स्टाइलिस्ट रेयान मोरडियन, सहायक स्टाइलिस्ट, एक अकाउंट टीम और एक लॉजिस्टिक मैनेजर शामिल हैं।


हालांकि मोहित राय जोकि अपने आप में एक फेमस स्टाइलिस्ट हैं उन्होंने वार्डरॉबिस्ट में कुछ वर्षों के बाद अपना खुद का काम शुरू किया। दोनों दोस्त हाल ही में एक अलग दुल्हन स्टाइलिंग कंपनी शुरू करने के लिए आए, जिसे द वेडिंग स्टाइल प्रोजेक्ट कहा जाता है, जिसे अगस्त में लॉन्च किया गया था। यह "अपनी शादी की वार्डरोब को नेविगेट करने के लिए शादी और ट्राउसेव फैशन का बेस्ट" लाने का वादा करता है।


Edited by Ranjana Tripathi

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close