लोगों को प्लांट-बेस्ड मीट से जोड़ रहा है यह फूडटेक स्टार्टअप

लोगों को प्लांट-बेस्ड मीट से जोड़ रहा है यह फूडटेक स्टार्टअप

Wednesday January 05, 2022,

4 min Read

आईआईएम कोझीकोड में एमबीए की पढ़ाई के दौरान उन्नीकृष्णन पीजी और धीरज मोहन ने खाने के भविष्य पर कई बार चर्चा की। धीरज नॉन वेजेटेरियन व्यक्ति थे, जबकि उन्नीकृष्णन मांस का सेवन बिल्कुल नहीं करते थे। हालांकि इस दौरान वे पोषण की कमी को लेकर चिंतित थे। इस दौरान दोनों ने मांस खाने वालों के स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव के बारे में भी अपनी चिंताओं को साझा किया।

साल 2021 में उन्नीकृष्णन और धीरज ने जब अपने उद्यम 'द ग्रीन मीट' को लॉन्च किया तो वे मांस खाने वालों के लिए एक 'अपराध-मुक्त' विकल्प प्रदान करना चाहते थे। ऐसे नॉन-वेजेटेरियन व्यक्ति अभी भी पौधों के माध्यम से तैयार हुए मांस का स्वाद लेना जारी रख सकते थे।

योरस्टोरी की टेक50 2021सूची में शामिल स्टार्टअप के सह-संस्थापकों ने साझा करते हुए बताया,

"हम फ्लेक्सिटेरियन हैं और ग्रीन मीट के साथ हम इसकी शुरुआत कर रहे हैं। प्लांट-बेस्ड मीट अपराध मुक्त होने के साथ ही आकर्षक और पर्यावरण के अनुकूल भी है। हम कुछ साल पहले आईआईएम-कोझिकोड में मिले और साथ आए। आज प्लांट-बेस्ड मीट के जरिये कोई भी हमारी तरह स्वाद, स्वास्थ्य और पर्यावरणीय प्रभावों के बारे में चिंता किए बिना अपने पसंदीदा मांसाहारी व्यंजनों का आनंद ले सकता है।"

उन्नीकृष्णन द ग्रीन मीट में सीईओ और सह-संस्थापक हैं और प्रोजेक्ट मैनेजमेंट और उद्यमिता में माहिर हैं। धीरज द ग्रीन मीट के सीओओ और सह-संस्थापक हैं, जो मैनुफेक्चुरिंग के लिए औद्योगिक स्वचालन और प्रक्रिया नियंत्रण में माहिर हैं। उन्नीकृष्णन जहां स्वादिष्ट व्यंजनों को पसंद करते हैं, वहीं धीरज दिल से खाने के शौकीन हैं।

सस्टेनेबल विकल्प

बिजनेस-टू-कंज्यूमर (बी2सी) स्टार्टअप ने उत्पाद और टेक्नालजी के अनुसंधान और विकास (आर एंड डी) के लिए केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-सीएफटीआरआई), मैसूर के साथ भागीदारी की है। द ग्रीन मीट की खासियत यह है कि यह खाना पकाने की भारतीय शैली के लिए एकदम सही है।

द ग्रीन मीट™ का संचालन ग्रीनोवेटिव फूड्स प्राइवेट लिमिटेड के पास है, जो एक प्रेजर्वेटिव मुक्त और 100 प्रतिशत प्लांट-बेस्ड मीट विकल्प बनाने के लिए एक कुशल बनावट तकनीक का उपयोग करती है।

निर्माण प्रक्रिया इंग्रीडिएंट के चयन और निर्माण के साथ ही प्रोटीन कंसंट्रेशन और मिश्रण के साथ शुरू होती है, इसके बाद थर्मो-मैकेनिकल प्रक्रिया के बाद प्लांट-बेस्ड मीट उत्पाद को कार्यात्मक बनाने और उन्हें पशु मांस के बराबर रूप में परिवर्तित करने पर काम होता है।

कंपनी का कहना है कि उसके प्लांट-बेस्ड मीट में जानवरों के मांस के समान प्रोटीन और पोषक तत्व होते है, और फिर भी इसमें कोई ट्रांस-वसा, कोई कोलेस्ट्रॉल, कोई एंटीबायोटिक्स और कोई हार्मोन नहीं होता है, बल्कि इसमें स्वस्थ आहार फाइबर होते हैं। स्टार्टअप पूर्व-राजस्व चरण में है और आईआईएम-कोझिकोड और KRIBS-बायोनेस्ट में इनक्यूबेट किया जा रहा है।

k

ग्रीन मीट फूडमैप

वैकल्पिक मीट तैयार कर रहे इस स्टार्टअप का लक्ष्य अपने पहले चरण के लिए अपने गृह राज्य केरल पर ध्यान केंद्रित करना है। दूसरे चरण में इसका लक्ष्य बड़े पैमाने पर विस्तार करना और पूरे दक्षिण भारतीय बाजार को लक्षित करना है। 2025 तक, द ग्रीन मीट तीसरे चरण में प्रवेश करना चाहता है, जहां यह पूरे भारत में अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाहता है और साथ ही चुनिंदा विदेशी बाजारों में भी प्रवेश करना चाहता है।

इससे पहले, कंपनी नकदी प्रवाह को सकारात्मक बनाने की उम्मीद कर रही है और वर्तमान में विकास के तहत प्रक्रिया और टेक्नालजी के लिए पेटेंट आवेदन कर चुकी है।

'मानवीय' आहार का भविष्य

प्लांट-आधारित विकल्प शीर्षक वाले 2021 योरस्टोरी के एक लेख के अनुसार, यह उद्योग अगला बड़ा उद्योग होने की क्षमता रखता है। प्लांट-आधारित उत्पाद बाजार का पूर्वानुमान के दौरान 7.48 प्रतिशत की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर (CAGR) से बढ़ने का अनुमान है। वर्ष 2021-2026। जैसे-जैसे भारत की बढ़ती शाकाहारी आबादी बढ़ती है, अगले कुछ वर्षों में बाजार में वृद्धि की उम्मीद है।

मांस खाने के अपराधबोध और जीवन के एक स्थायी तरीके की ओर बढ़ती चिंताओं के साथ प्लांट-बेस्ड मीट एक मजबूत छाप बनाने की ओर बढ़ रहा है। इनोवेटिव तकनीकी के साथ आगे बढ़ते हुए द ग्रीन मीट बाज़ार में अपनी खास जगह बनाने की ओर तेजी से अपनी जगह भी बना रहा है।


Edited by Ranjana Tripathi