Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ADVERTISEMENT
Advertise with us

एक स्टार्टअप फेल होने के बावजूद इन IIT-ians ने नहीं मानी हार, अपनाया उद्यमशीलता का मार्ग

एक स्टार्टअप फेल होने के बावजूद इन IIT-ians ने नहीं मानी हार, अपनाया उद्यमशीलता का मार्ग

Wednesday February 26, 2020 , 6 min Read

आयुष जिंदल और आशीष प्रकाश IIT दिल्ली के कल्चरल फेस्ट Rendezvous के लिए काम करते हुए दोस्त बने थे। उनका तालमेल ऐसा था कि उन्हें ये पहले ही पता लग गया कि उन्हें फिर से साथ काम करना है। और उन्होंने किया भी। लेकिन दुर्भाग्य से, उनका पहला स्टार्टअप असफल रहा। इसके बाद दोनों अलग-अलग रास्तों पर चल पड़े। लेकिन पिछले साल यह जोड़ी फिर से अपने दूसरे स्टार्टअप ToeSmith के साथ मिल गई, जो उनके पहले के मेडटेक स्टार्टअप Aermed से बिल्कुल अलग व्यवसाय था।


ToeSmith के सह-संस्थापक आशीष प्रकाश और आयुष जिंदल (L-R)

ToeSmith के सह-संस्थापक आशीष प्रकाश और आयुष जिंदल (L-R)



पहली पारी

दोनों ने दिसंबर 2015 में दो आईआईएम कलकत्ता के स्नातकों के साथ एक ऑनलाइन फार्मेसी के रूप में Aermed को लॉन्च किया था। इसको लॉन्च करने का मकसद 1mg और नेटमेड्स जैसों के कंपीट करना था।


हालांकि आयुष के अनुसार, उनका यह स्टार्टअप उस तक दिल्ली-एनसीआर में तीसरा सबसे बड़ा ई-फार्मेसी बनने में भी कामयाब रहा था। लेकिन, स्टार्टअप को फंड की जरूरत थी। दुर्भाग्य से, एक अनडिस्क्लोज्ड एंजेल राउंड की फंडिंग के बाद, यह एक "फुल-फ्लेज्ड सीरीज ए" को सिक्योर करने में विफल रहा। नतीजतन, उन्हें 2017 में दुकान बंद करनी पड़ी।


आशीष कहते हैं,

"Aermed पर, मार्जिन 25 प्रतिशत के आसपास था और हम 25 प्रतिशत की छूट दे रहे थे ताकि दूसरों से मुकाबला कर सकें। जाहिर तौर पर यह कारोबार बिना फंडिंग के नहीं चल सकता था।"


उन्होंने कहा कि स्टार्टअप को बहुत सारे ऑर्डर मिल रहे थे, लेकिन मार्जिन कम था और बाजार में प्रवेश देर से हुआ।


हालांकि स्टार्टअप बंद हो गया, लेकिन दोनों को कोई पछतावा नहीं है क्योंकि यह एक "बड़ा सीखने का अनुभव" रहा। वे कहते हैं, "हमारे लिए, यह एक एमबीए की तरह था। हमें बिल्कुल जीरो पछतावा है। Aermed के माध्यम से, हमें वह जमीनी अनुभव मिला।”


स्टार्टअप में दोनों को लगभग 10 लाख रुपये का नुकसान हुआ। आशीष हंसते हुए कहते हैं,

"सोचता हूं तो लगता है कि यह एक काफी सस्ता एमबीए था क्योंकि अधिकांश संस्थान इससे बहुत अधिक शुल्क लेते हैं।"


Aermed बंद हो गया। आयुष अपने परिवार के जूता निर्माण व्यवसाय से जुड़ गए। आशीष ने कुछ फ्रीलांस काम किया और अंततः अपने टेक प्रमुख के रूप में एक यूएस-आधारित कंपनी में शामिल हो गए।


दूसरी पारी

आयुष के माता-पिता ने 1995 में एशियन शूज की शुरुआत की थी, जिसे Aermed के होने के बाद उन्होंने ज्वाइन किया था। यह 500 से 1,200 रुपये के प्राइस सेगमेंट में टीयर- II और टीयर- III शहरों के लिए स्पोर्ट्स शूज, स्कूल शूज और कैजुअल शूज बनाता है। आयुष ने वहां काम करते हुए, अर्बन ऑडियंस को कैटर करने के लिए सस्ती अनुकूलित जूते बनाने के लिए कंपनी के बुनियादी ढांचे का उपयोग करने का विचार बनाया।


उन्होंने आशीष को 'ToeSmith' शुरू करने के लिए शामिल होने के लिए राजी किया। जो दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा में अपने कारखानों के माध्यम से शूमेकिंग कंपनी की उत्पादन क्षमताओं का उपयोग करते हुए एक स्वतंत्र स्टार्टअप के रूप में कार्य करने और एक स्वतंत्र स्टार्टअप के रूप में अपनी अलग पहचान के लिए जाना जाता है। 


आयुष कहते हैं,

“अफॉर्डेबल कस्टमाइजेशन शूज की एक मजबूत आवश्यकता थी। इसलिए, हमने सोचा कि हम उपभोक्ता को अपने खुद के जूते को कस्टमाइज करने और ऑर्डर करने का विकल्प दे सकते हैं और ऐसे हमने ToeSmith शुरू किया।”


उन्होंने कहा कि गुरुग्राम स्थित स्टार्टअप मार्केटिंग और डिजाइन प्लेटफॉर्म के रूप में कार्य करता है, जबकि मैन्युफैक्चरिंग एशियन शूज से आउटसोर्स होती है। मैन्युफैक्चरिंग में औसतन चार दिन लगते हैं और शिपिंग का समय छह से आठ दिनों तक होता है। ToeSmith एक 3डी इंटरैक्टिव डिजाइन टूल प्रदान करता है जो ग्राहक को जूते के विभिन्न भागों को व्यक्तिगत रूप से कस्टमाइज करने की अनुमति देता है।


आयुष कहते हैं,

"हमारे 3डी डिजाइन टूल का उपयोग करके, ग्राहक बहुत आसानी से एक जूते के पांच पहलुओं को बदल सकता है - वैम्प (जूते का अगला भाग), क्वार्टर (साइड्स), हील काउंटर (बैकसाइड), बाइंडिंग (आंतरिक भाग), और कॉलर लाइनिंग।"


ग्राहक या तो पेशकश किए गए डिजाइनों से चुन सकते हैं या अपने स्वयं के अपलोड कर सकते हैं, जिसमें कोट्स, नाम और इनिशियल्स भी शामिल हो सकते हैं। वर्तमान में, स्टार्टअप में चार डिजाइनर हैं। आशीष कहते हैं,

"हम युवा और अज्ञात डिजाइनरों को भी प्रोत्साहित कर रहे हैं, जिन्हें बोर्ड पर आने और साथ ही कमीशन के आधार पर अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए एक मंच की आवश्यकता है।"


ToeSmith को पिछले साल सितंबर में लॉन्च किया गया था, और संस्थापकों का दावा है कि इसने चार महीनों में 2,500 से अधिक ऑर्डर प्रोसेस किए हैं।


वे कहते हैं,

"हमें रोजाना 40 से 50 ऑर्डर मिलते हैं जिनमें सबसे ज्यादा मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद, दिल्ली-एनसीआर और कोलकाता जैसे शहरी केंद्रों से होते हैं। हमें पुणे से भी ऑर्डर मिल रहे हैं।"


मार्जिन को लेकर उन्होंने अपने पिछले स्टार्टअप में ही अच्छा सबक सीख लिया था, इसलिए उन्होंने इस बार यह सुनिश्चित किया है कि ToeSmith पर सकल मार्जिन मार्केटिंग और अन्य लागतों की देखभाल करने के लिए पर्याप्त होना चाहिए। आयुष कहते हैं, "आज तक, हमने कोई भी पैसा नहीं गंवाया है।"


उन्होंने कहा कि स्टार्टअप के लिए सकल मार्जिन 70 फीसदी तक हो सकता है।


स्टार्टअप की वैश्विक स्तर पर जाने की योजना है, और संस्थापकों का कहना है कि उन्हें दुबई से बहुत रुचि और लोगों के सवाल मिल रहे हैं। वे कहते हैं, “हम पूरे विश्व को देख रहे हैं।"


आयुष का कहना है कि हमें अभी लॉजिस्टिक्स का पता लगाना है। वर्तमान में, ToeSmith एक B2C (बिज़नेस टू कंज्यूमर) मॉडल संचालित करता है, लेकिन ब्रांडेड मर्चेंडाइज बनाने की पेशकश के साथ लोकप्रिय बीयर ब्रांड बीरा द्वारा संपर्क किए जाने के बाद बी 2 बी (बिज़नेस टू बिज़नेस) का पता लगाना है। स्टार्टअप कंसल्टेंसी की दिग्गज कंपनी डेलॉइट से उनके लिए कॉरपोरेट ऑर्डर एक्सक्यूट करने के लिए भी बात कर रहा है।


फंडिंग और प्रतियोगिता

ToeSmith दो सह-संस्थापकों की व्यक्तिगत बचत के 20 लाख रुपये के साथ बूटस्ट्रैप्ड है। कुछ निवेशकों द्वारा व्यवसाय में रुचि व्यक्त करने के बावजूद यह कभी फिलहाल फंड जुटाने की ओर नहीं देख रहा है।


आशीष कहते हैं,

"हम जानते हैं कि यह बहुत व्यस्त और समय लेने वाली प्रक्रिया है। इसके अलावा, हमारे पास एक महत्वपूर्ण बर्न नहीं है कि हमें बुरी तरह से अभी फंड की आवश्यकता है।”


ResearchAndMarkets.com के अनुसार, चीन के बाद भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा फुटवियर उत्पादक है। डबलिन स्थित बाजार अनुसंधान संसाधन का कहना है कि चीन की तुलना में देश के फुटवियर उत्पादन में 22 बिलियन जोड़े के वैश्विक वार्षिक उत्पादन का लगभग 9 प्रतिशत हिस्सा है, जो 60 प्रतिशत से अधिक उत्पादन करता है।


कंपटीशन के संदर्भ में, एक और गुरुग्राम स्थित स्टार्टअप रिविर कस्टमाइजबल शूज के स्पेस पर काम करता है। आईआईटियन की जोड़ी का मानना है, ToeSmith की यूएसपी (यूनीक सेलिंग पॉइंट) उनकी वेबसाइट पर यूजर्स के अनुभव में निहित है, जो "बेहद सरल और उपयोग करने में आसान है"