सोलर एनर्जी का 'पावर': जनवरी से जून 2022 तक भारत ने फ्यूल कॉस्ट में बचा लिए अरबों रुपये

By yourstory हिन्दी
November 10, 2022, Updated on : Thu Nov 10 2022 12:41:47 GMT+0000
सोलर एनर्जी का 'पावर': जनवरी से जून 2022 तक भारत ने फ्यूल कॉस्ट में बचा लिए अरबों रुपये
सौर क्षमता वाली शीर्ष दस अर्थव्यवस्थाओं में से 5- भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया और वियतनाम एशिया में स्थित हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत ने 2022 की पहली छमाही में सौर उत्पादन के जरिये ईंधन लागत (Fuel Cos) में 4.2 अरब डॉलर की और 1.94 करोड़ टन कोयले की बचत की है. गुरुवार को एक रिपोर्ट से यह जानकारी मिली है. इतने कोयले की बचत नहीं होने की स्थिति में पहले से दबाव में चल रही घरेलू आपूर्ति पर भार और बढ़ जाता. ऊर्जा क्षेत्र के थिंक टैंक एम्बर, सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर और इंस्टीट्यूट फॉर एनर्जी इकोनॉमिक्स एंड फाइनेंशियल एनालिसिस की रिपोर्ट में पिछले दशक में सौर ऊर्जा के विकास का विश्लेषण किया गया. इसमें पाया गया कि सौर क्षमता वाली शीर्ष दस अर्थव्यवस्थाओं में से 5- भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया और वियतनाम एशिया में स्थित हैं.


रिपोर्ट में कहा गया है कि 7 प्रमुख एशियाई देशों- भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, वियतनाम, फिलीपीन और थाइलैंड में सौर उत्पादन के बूते, जनवरी से जून 2022 तक लगभग 34 अरब डॉलर की संभावित जीवाश्म ईंधन लागत बची है. यह इस अवधि के दौरान कुल जीवाश्म ईंधन लागत के 9 प्रतिशत के बराबर है. रिपोर्ट में कहा गया, ''भारत में, सौर उत्पादन से वर्ष की पहली छमाही में ईंधन लागत में 4.2 अरब डॉलर की और 1.94 करोड़ टन कोयले की बचत हुई.''

कुल बचत में सबसे ज्यादा योगदान चीन का

रिपोर्ट में पाया गया है कि जीवाश्म ईंधन लागत के मामले में अनुमानित 34 अरब अमेरिकी डॉलर की बचत में अधिकांश योगदान चीन का रहा, जहां सौर बिजली कुल मांग के 5 प्रतिशत को पूरा करती है और इस अवधि के दौरान लगभग 21 अरब अमेरिकी डॉलर के अतिरिक्त कोयला और गैस आयात से बचा गया. बचत में चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा योगदान जापान का रहा. जापान ने अकेले सौर ऊर्जा उत्पादन के कारण ईंधन की लागत में 5.6 अरब अमेरिकी डॉलर की बचत की.

वियतनाम, फिलीपींस, थाइलैंड, दक्षिण कोरिया में कितनी बचत

वियतनाम की सौर ऊर्जा ने अतिरिक्त जीवाश्म ईंधन लागत में 1.7 अरब अमेरिकी डॉलर की बचत की. थाइलैंड और फिलीपींस में, जहां सौर ऊर्जा की वृद्धि धीमी रही है, ईंधन की लागत में बचत उल्लेखनीय है. 2022 के पहले छह महीनों में सौर ऊर्जा ने थाइलैंड में कुल बिजली मांग के केवल 2 प्रतिशत को पूरा किया. वहां लगभग 20.9 करोड़ अमेरिकी डॉलर की संभावित जीवाश्म ईंधन लागत की बचत की गई. फिलीपींस ने जीवाश्म ईंधन खर्च में 7.8 करोड़ अमेरिकी डॉलर की बचत की. दक्षिण कोरिया में, सौर ऊर्जा ने वर्ष 2022 की पहली छमाही में देश की कुल बिजली मांग के 5 प्रतिशत को पूरा किया. इससे संभावित जीवाश्म ईंधन लागत में 1.5 अरब अमेरिकी डॉलर की बचत हुई.



Edited by Ritika Singh

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें