कोटक महिंद्रा बैंक ने बचत खाते पर ब्याज दर 0.50% बढ़ाई

By Ritika Singh
June 10, 2022, Updated on : Fri Jun 10 2022 08:59:01 GMT+0000
कोटक महिंद्रा बैंक ने बचत खाते पर ब्याज दर 0.50% बढ़ाई
8 जून को रिजर्व बैंक ने नीतिगत दर रेपो रेट को 0.50 प्रतिशत बढ़ाकर 4.9 प्रतिशत कर दिया. महंगाई में हाल फिलहाल कोई कमी नहीं आने के संकेत देखते हुए आरबीआई मौद्रिक नीति समिति ने यह फैसला किया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

निजी क्षेत्र के कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank) के ग्राहकों के लिए अच्छी खबर है. बैंक ने बचत खाते में 50 लाख रुपये से अधिक की जमा पर ब्याज दर 0.50 प्रतिशत बढ़ाकर 4 प्रतिशत सालाना करने की घोषणा की है. न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि कोटक महिंद्रा बैंक के बचत खाते में 50 लाख रुपये से अधिक के दैनिक शेष (बैलेंस) पर अब 4 प्रतिशत सालाना का ब्याज दिया जाएगा. पहले यह दर 3.50 प्रतिशत थी. वहीं 50 लाख रुपये से कम की जमा पर 3.50 प्रतिशत सालाना ब्याज दिया जाएगा.

FD पर ब्याज दरें भी बढ़ाईं

रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक की ओर से जारी बयान में कहा गया कि फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दरें भी 0.25 प्रतिशत तक बढ़ाई गईं हैं. नई दरें 10 जून 2022 से प्रभावी हुई हैं.


2 करोड़ रु से कम की प्रीमैच्योर विदड्रॉअल वाली FD पर दरें

kotak-mahindra-bank-increased-savings-account-interest-rate-term-deposit-rates-have-also-been-increased

2 करोड़ से ज्यादा की प्रीमैच्योर विदड्रॉअल वाली FD पर दरें

kotak-mahindra-bank-increased-savings-account-interest-rate-term-deposit-rates-have-also-been-increased

बिना प्रीमैच्योर विदड्रॉअल वाली FD पर दरें

kotak-mahindra-bank-increased-savings-account-interest-rate-term-deposit-rates-have-also-been-increased

RBI 0.50% बढ़ा चुका है रेपो रेट

8 जून को रिजर्व बैंक (RBI) ने नीतिगत दर रेपो रेट को 0.50 प्रतिशत बढ़ाकर 4.9 प्रतिशत कर दिया. महंगाई में हाल फिलहाल कोई कमी नहीं आने के संकेत देखते हुए RBI मौद्रिक नीति समिति ने यह फैसला किया है. रेपो रेट बढ़ने के बाद व्हीकल लोन, होम लोन, एजुकेशन लोन, पर्सनल लोन पर ब्याज दरें और बढ़ने वाली हैं. हालांकि साथ ही एफडी रेट्स बढ़ने की भी संभावना है. रेपो रेट वह दर है, जिस पर RBI बैंकों को कर्ज देता है.