भारतीय यूजर्स के लिए स्थानीय भाषाओं और SMS सपोर्ट के साथ माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक लाइट ने किया विस्तार

ट्रांसलेशन, वॉइस टाइपिंग और ट्रांसलिटरेशन जैसे फीचर्स की मदद से यूजर्स अपनी स्थानीय भाषा में ईमेल लिख और पढ़ सकते हैं, तथा आउटलुक लाइट के माध्यम से अपने SMS को भी मैनेज कर सकते हैं.

भारतीय यूजर्स के लिए स्थानीय भाषाओं और SMS सपोर्ट के साथ माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक लाइट ने किया विस्तार

Tuesday November 21, 2023,

4 min Read

माइक्रोसॉफ्ट ने आउटलुक लाइट में स्थानीय भाषा से जुड़े नए फीचर्स की घोषणा की है. आउटलुक लाइट भारतीय यूजर्स के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया ईमेल और एसएमएस ऐप है, जिससे उन्हें ईमेल एवं एसएमएस को एक ही जगह पर मैनेज करने का विकल्प मिलता है.

आउटलुक लाइट के माध्यम से एक छोटे एप में माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक के सभी महत्वपूर्ण फीचर्स दिए गए हैं. इससे किसी भी नेटवर्क पर छोटे डिवाइस पर फास्ट परफॉर्मेंस सुनिश्चित होती है. छोटा एप होने के साथ-साथ आउटलुक लाइट को उभरते मार्केट यूजर्स की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है. इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए आउटलुक लाइट में दो नए फीचर जोड़े गए हैं. अब आउटलुक लाइट में यूजर्स को स्थानीय भारतीय भाषाओं और एसएमएस का सपोर्ट भी दिया गया है, जिससे भारतीय यूजर्स ज्यादा प्रभावी तरीके से संवाद करने में सक्षम होंगे.

आउटलुक लाइट में वॉइस टाइपिंग, ट्रांसलिटरेशन और ईमेल को स्थानीय भाषाओं में पढ़ने जैसे कई फीचर्स दिए गए हैं, जो इसे भारतीय यूजर्स की जरूरतों के हिसाब से ज्यादा समावेशी और कारगर बनाते हैं. इन फीचर्स की मदद से यूजर्स के लिए अपनी पसंदीदा भाषा में ईमेल लिखना और पढ़ना संभव होगा. यूजर्स अपनी पसंद के हिसाब से चाहे हिंदी में बोलकर ईमेल लिखना चाहें, तमिल में ईमेल टाइप करना चाहें, उसे ऑटोमैटिक तरीके से अंग्रेजी कंवर्ट करना चाहें या गुजराती में ईमेल को पढ़ना चाहें, आउटलुक लाइट में उन्हें ये सारे विकल्प आसानी मिलेंगे. अभी इसमें पांच भारतीय भाषाओं हिंदी, तमिल, तेलुगु, मराठी और गुजराती का सपोर्ट दिया गया है. जल्द ही इसमें और भी भाषाएं जोड़ी जाएंगी. भारत की भाषाई विविधता को देखते हुए इसमें ज्यादा से ज्यादा भाषा एवं बोली को जोड़ा जाएगा.

आउटलुक लाइट में एसएमएस मैसेजिंग का सपोर्ट भी दिया गया है. इसके माध्यम से यूजर्स को स्मार्ट इनबॉक्स का विकल्प मिलेगा, जिसमें ट्रांजैक्शन, प्रमोशन और पर्सनल जैसी विभिन्न कैटेगरी में मैसेज को ऑर्गनाइज किया जा सकेगा. इससे यूजर्स के लिए ट्रांजैक्शनल और प्रमोशनल मैसेज को आसानी से देख पाना संभव होगा. विभिन्न कैटेगरी के बीच आसानी से स्विच करते हुए यूजर्स एक ही जगह सभी जरूरी मैसेज देख सकेंगे. आउटलुक लाइट के माध्यम से उन्हें जरूरी अपॉइंटमेंट, ट्रैवल बुकिंग, बिल पेमेंट और गैस बुकिंग जैसे रिमाइंडर भी मिलेंगे. काम की भागदौड़ के बीच अक्सर लोग इन छोटी-छोटी लेकिन जरूरी बातों को भूल जाते हैं.

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया डेवलपमेंट सेंटर के मैनेजिंग डायरेक्टर और माइक्रोसॉफ्ट के एक्सपीरियंसेज एंड डिवाइसेज, इंडिया ग्रुप के कॉरपोरेट वाइस प्रेसिडेंट राजीव कुमार ने कहा, “आउटलुक लाइट भारत में अलग-अलग वर्ग के लोगों की विविध जरूरतों के अनुरूप तैयार किए गए इन्क्लूसिव डिजिटल एक्सपीरियंस को बढ़ावा देने की हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है. एसएमएस इंटीग्रेशन और लैंग्वेज सपोर्ट के साथ आउटलुक लाइट ने कम्युनिकेशन एक्सेसिबिलिटी को नए सिरे से परिभाषित किया है और यूजर्स को ज्यादा सुविधाजनक एवं पर्सनलाइज्ड एक्सपीरियंस दिया है. हम सभी को कनेक्ट करने, कोलैबोरेट करने और आगे बढ़ने के लिए सशक्त बनाने में विश्वास करते हैं, फिर चाहे उनकी भाषा और उनका शहर कोई भी हो. यह लॉन्च प्रोडक्टिविटी और कनेक्टिविटी बढ़ाते हुए हर व्यक्ति को अपने जीवन में ज्यादा से ज्यादा सफलता पाने में सक्षम बनाने और उनके लिए रोजाना के संवाद को आसान बनाने की दिशा में हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है.”

आउटलुक लाइट में जल्द ही एसएमएस के लिए भी लैंग्वेज ट्रांसलेशन सपोर्ट मिल सकेगा. इससे यूजर्स अपनी पसंदीदा भाषा में मैसेज पढ़ सकेंगे. एक सिंगल टैप के साथ उन्हें लैंग्वेज स्विच करने का विकल्प मिलेगा. यह ऐसे यूजर्स के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होगा, जिनके पास अलग-अलग भाषाओं में मैसेज आते हैं या जिन्हें अलग-अलग क्षेत्र के लोगों से बात करनी होती है. एसएमएस और ईमेल मैसेजिंग को इंटीग्रेटेड और आसान बनाते हुए आउटलुक लाइट का उद्देश्य यूजर्स के लिए लोगों से जुड़े रहने और काम करने की प्रक्रिया को ज्यादा सुविधाजनक एवं पर्सनलाइज्ड बनाना है.