[योरस्टोरी एक्सक्लूसिव] मिलिए दिल्ली क्राइम ब्रांच में भारत की पहली महिला डीसीपी मोनिका भारद्वाज से

By Tenzin Pema & Tenzin Norzom
September 02, 2020, Updated on : Wed Sep 02 2020 04:54:25 GMT+0000
[योरस्टोरी एक्सक्लूसिव] मिलिए दिल्ली क्राइम ब्रांच में भारत की पहली महिला डीसीपी मोनिका भारद्वाज से
दिल्ली क्राइम ब्रांच की पहली महिला डीसीपी मोनिका भारद्वाज ने अपनी ऐतिहासिक नियुक्ति और 'सेवाओं' के बारे में योरस्टोरी से विशेष बातचीत की और बताया कि उनके लिये भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी होने के क्या मायने है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close
मोनिका भारद्वाज (R), दिल्ली क्राइम ब्रांच में नवनियुक्त डीसीपी, श्रद्धा शर्मा (L), योरस्टोरी की फाउंडर और सीईओ के साथ एक विशेष बातचीत में

मोनिका भारद्वाज (R), दिल्ली क्राइम ब्रांच में नवनियुक्त डीसीपी, श्रद्धा शर्मा (L), योरस्टोरी की फाउंडर और सीईओ के साथ एक विशेष बातचीत में

2009 बैच की एक भारतीय पुलिस सेवा (IPS) अधिकारी मोनिका भारद्वाज को हाल ही में दिल्ली क्राइम ब्रांच की पुलिस उपायुक्त (DCP) के रूप में नियुक्त किया गया था, वे इस पद पर आसीन होने वाली भारत की पहली महिला बनीं।

योरस्टोरी की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा के साथ एक विशेष बातचीत में, मोनिका ने अब तक की अपनी यात्रा, अपनी व्यक्तिगत प्रेरणाएं, सेवाएं और एक पुलिस अधिकारी होने का क्या मतलब है, और दिल्ली क्राइम ब्रांच की डीसीपी बनने वाली पहली भारतीय महिला के रूप में उनकी हालिया नियुक्ति को लेकर बातें साझा की। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने उन्हें अपराध को जड़ से खत्म करने का मौका दिया है।


यहां देखिये पूरा इंटरव्यू





नियुक्ति के बारे में बताते हुए, मोनिका ने कहा, यह न केवल एक महिला के रूप में बल्कि दिल्ली क्राइम ब्रांच की डीसीपी बनने पर एक अधिकारी के रूप में अच्छा लगता है। क्राइम ब्रांच जड़ से अपराध को खत्म करने की गुंजाइश देती है और आपको समय, जगह और संसाधन देती है। जिला पुलिसिंग में, दिन-प्रतिदिन की पुलिसिंग है।

दिल्ली पुलिस के कुछ अधिकारियों का मानना है कि पुरानी दिल्ली में तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस कर्मियों के बीच हिंसा को संभालने में उनके उल्लेखनीय काम ने उनकी पहली नियुक्ति में दिल्ली क्राइम ब्रांच की डीसीपी के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।


पिछले साल नवंबर में इंटरनेट पर वायरल हुए सीसीटीवी फुटेज में, मोनिका को उत्तेजित वकीलों के एक समूह के साथ हाथ जोड़कर पुलिस कर्मियों और वकीलों के बीच एक हिंसक झड़प का निपटारा करते हुए देखा जा सकता है। जहां एक कथित पार्किंग विवाद के कारण तनाव भड़क गया था।


कई जटिल मामलों को हल करने का श्रेय मोनिका को जाता है। मोनिका 2013 में पांडिचेरी में एक 21 वर्षीय महिला का अपहरण और बलात्कार करने वाले छह पुरुषों को पकड़ने बाद सुर्खियों में आईं थी।


मोनिका भारद्वाज, दिल्ली क्राइम ब्रांच की डीसीपी (फोटो साभार: मोनिका भारद्वाज का ट्विटर अकाउंट)

मोनिका भारद्वाज, दिल्ली क्राइम ब्रांच की डीसीपी (फोटो साभार: मोनिका भारद्वाज का ट्विटर अकाउंट)

हरियाणा की रहने वाली मोनिका अपने परिवार में तीसरी पीढ़ी की पुलिस अधिकारी हैं और शुरू में दिल्ली में एडिशनल डीसीपी (वेस्ट) के पद पर तैनात थीं।


“मैं भारतीय पुलिस सेवाओं (IPS) में “सेवाओं” शब्द को बहुत गंभीरता से लेते हुए आई हूं। एक पुलिस अधिकारी के दो मुख्य कर्तव्य कानून व्यवस्था बनाए रखने और न्याय प्रदान करने के लिए शांति सुनिश्चित करना है। पुलिसिंग आपको लोगों के जीवन पर शक्ति प्रदान करती है। किसी ऐसे व्यक्ति की मदद करना जो किसी समस्या का सामना कर रहा है।”

मोनिका को अपने माता-पिता से प्रेरणा मिलती है जो "मेहनती और साधारण लोग हैं।"


हर कोई मुझे प्रेरित करता है लेकिन मेरे दिमाग में जो सबसे पहला नाम आता है, वो है, IAS ऑफिसर किरण बेदी मैम। मेरे पिता दिल्ली पुलिस से सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर हैं और हम किरण बेदी मैम के बारे में सुनते रहते थे और यह एक बहुत बड़ी प्रेरणा रही है।

पुलिस फोर्स में ज्यादा भारतीय महिलाएँ

उन्होंने आगे कहा कि पुलिस फोर्स में ज्यादा महिलाओं की आवश्यकता है।

मैं ज्यादा महिलाओं को पुलिस फोर्स में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करती हूं क्योंकि यह महत्वपूर्ण है। हम 50 प्रतिशत आबादी हैं और पुलिस फोर्स में 8 से 10 प्रतिशत तक संघर्ष कर रही हैं।