NASA की नई स्पेस टेक्नोलॉजी से सिर्फ 5 मिनट में फुल चार्ज हो सकती है इलेक्ट्रिक कार

NASA की नई स्पेस टेक्नोलॉजी से सिर्फ 5 मिनट में फुल चार्ज हो सकती है इलेक्ट्रिक कार

Monday October 17, 2022,

2 min Read

इलेक्ट्रिक व्हीकल की एक ख़ास समस्या उसकी चार्जिंग को लेकर रही है. कार को चार्ज करने में लगने वाला घंटों का समय और उससे भी ज्यादा चार्जिंग स्टेशन को ढूंढने में लगने वाला टाइम कई बार वाहन चालकों के लिए परेशानी का सबब बन जाता है. लेकिन नासा ने अब एक ऐसी तकनीक सुझाई है जो आपकी कार को 5 मिनट के अंदर फुल चार्ज कर देगी. लंबे समय तक चार्जिंग का समय और चार्जर का स्थान, ये दोनों ही उन लोगों की प्रमुख चिंताओं का कारण है जो इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर विचार कर रहे हैं.


अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA (नासा) ने कहा है कि भविष्य के अंतरिक्ष अभियानों के लिए नासा द्वारा वित्त पोषित एक नई तकनीक पृथ्वी पर सिर्फ पांच मिनट में एक इलेक्ट्रिक कार को चार्ज कर सकती है. दरअसल पर्ड्यू विश्वविद्यालय (Purdue University) में एक नई तकनीक सबकूल्ड फ्लो बॉयलिंग को विकसित किया गया है. यह तकनीक अंतरिक्ष में जाने वाले शिप्स के तापमान को नियंत्रित करने में उपयोग होता है. नासा के अनुसार यह तकनीक इलेक्ट्रिक कारों को चार्ज करने के प्रोसेस को काफी आसान बना सकती है.


इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग समय को पांच मिनट तक कम करना - पूरी EV इंडस्ट्री का लक्ष्य हो सकता है. नासा के अनुसार 5 मिनट के अंदर इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने की ऐसी उपलब्धि हासिल करने के लिए चार्जर्स को 1,400 एम्पीयर पर करंट देना होगा, जो अभी की  मौजूदा तकनीक से कहीं अधिक है. नासा ने बताया कि फिलहाल मौजूद अधिकतर चार्जर 150 एम्पीयर से कम सपोर्ट करते हैं, वहीं कुछ स्पेशल चार्जर 520 एम्‍पीयर तक का करंट फ्लो कर सकते हैं. हालांकि, 1,400 एम्पीयर प्रदान करने वाले चार्जिंग सिस्टम मौजूदा सिस्टम की तुलना में काफी ज्यादा गर्मी पैदा करेंगे, और तापमान को कंट्रोल करने के लिए बेहतर तरीकों की जरूरत होगी.नासा ने इसी के साथ कहा कि इस तकनीक की मदद से दुनिया भर में इलेक्ट्रिक कारों को चार्ज करने की चुनौतियों को सौल्व किया जा सकेगा. आने वाले समय में इस तकनीक को और विकसित किया जाएगा जिससे इलेक्ट्रिक कारों व अन्य वाहनों को चार्ज करने में आसानी हो सके.


इस समय, चार्जिंग समय व्यापक रूप से काफी अलग हैं. सड़क पर किसी चार्जिंग स्टेशन पर 20 मिनट से लेकर घर पर चार्जिंग करने पर घंटों तक लग जाते हैं. अगर यह तकनीक कारगर सिद्ध होती है तो यह  इलेक्ट्रिक कार को खरीदने को और ज्यादा आकर्षक बना सकता है.