भारत में अब सिर्फ 1 दिन में शुरू कर सकते हैं खुद का बिजनेस: DPIIT सचिव

By Ravi Pareek
January 19, 2023, Updated on : Thu Jan 19 2023 06:09:51 GMT+0000
भारत में अब सिर्फ 1 दिन में शुरू कर सकते हैं खुद का बिजनेस: DPIIT सचिव
ऐसे में अब आपका अपना खुद का बिजनेस शुरू करने का सपना सच हो सकता है. लेकिन इसे शुरू करने से पहले आपको अपना होम-वर्क पूरा कर लेना चाहिए. इस लेख के अंत में लिंक पर क्लिक करके आप ये बातें जान सकते हैं...
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

देश में खुद का बिजनेस शुरू करने का सपना देखने वाले लोगों के लिए यह बेहद अच्छी ख़बर है. भारत में अब खुद का बिजनेस एक दिन में शुरू करना संभव है. उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (DPIIT) के सचिव अनुराग जैन ने यह दावा करते हुए कहा कि आज इस मोर्चे पर भारत सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले देश न्यूजीलैंड के करीब पहुंच चुका है.


अनुराग जैन ने विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum - WEF) की वार्षिक बैठक के इतर भारतीय उद्योग परिसंघ (Confederation of Indian Industry - CII) और ईवाई द्वारा नाश्ते पर आयोजित सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि कारोबार सुगमता की स्थिति को और बेहतर करने के लिए कई अन्य कदम उठाए जा रहे हैं. इनमें श्रम कानून भी शामिल हैं.


उन्होंने कहा कि सभी श्रम कानूनों को चार संहिताओं में समाहित किया गया है, जिसे संसद ने पारित कर दिया है. सरकार इन्हें अंतिम रूप से लागू करने की प्रक्रिया में है.


उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इनपर सभी राज्यों और संघ शासित प्रदेशों की सहमति लेने की प्रक्रिया में है. इस बीच, ज्यादातर राज्यों ने इनके लाभ को देखते हुए नियमों को लागू करना भी शुरू कर दिया है.


बीते साल, अप्रैल महीने के आखिरी हफ्ते में DPIIT सचिव ने बताया था कि भारत में प्रतिदिन 80 स्टार्टअप रजिस्टर हो रहे हैं. उन्होंने कहा, "हम अपने देश में प्रत्येक दिन 80 स्टार्टअप्स के पंजीकृत किए जाने के स्तर तक पहुंच चुके हैं जोकि विश्व में सर्वाधिक है.”


जैन ने तब कहा था कि 2016 में जब से सरकार ने Intellectual Property Rights (IPR) पॉलिसी अपनाई है, सात वर्षों की समय अवधि में पेटेंट को मंजूरी दिए जाने की संख्या में पांच गुना बढ़ोतरी हो गई है. जैन ने कहा कि इस अवधि के दौरान पंजीकृत ट्रेडमार्कों की संख्या में भी चार गुना वृद्धि दर्ज की गई है.


आपको बता दें कि IPR एक तरह का कानून है जैसे Copyright Law, Trademark Registration आदि है. मतलब कि अगर कोई शख्स किसी डिजाईन या कोई भी वर्क जो वो खुद की मेहनत से करता है, उसको वह रजिस्टर करवा लेगा तो फिर कोई और बिना उसकी मर्जी के इस्तेमाल नही कर सकता है.


हाल ही में, IIT कानपुर ने कैलेंडर वर्ष 2022 में रिकॉर्ड 107 IPR दायर किए हैं. यह लगातार दूसरा वर्ष है जब संस्थान ने संस्थान के इतिहास में सबसे अधिक IPR (107) दाखिल किए है.


जब दुनिया में बहस तेज हुई कि कैसे IPRs की रक्षा की जाए, तब संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी World Intellectual Property Organization (WIPO) की स्थापना की गई. इस एजेंसी के प्रयासों से ही IPRs के महत्त्व को प्रमुखता प्राप्त हुई.


ऐसे में अब आपका अपना खुद का बिजनेस शुरू करने का सपना सच हो सकता है. लेकिन इसे शुरू करने से पहले आपको अपना होम-वर्क पूरा कर लेना चाहिए. हम आपको उन्हीं बातों के बारे में बताने जा रहे हैं. ये न केवल आपकी सफलता की संभावनाओं को बढ़ायेंगी, बल्कि आपकी कंपनी को चलाने के लिए इसे आसान बनाएंगी. ये टिप्स आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं.