सोशल मीडिया के अत्यधिक उपयोग से घट रही है लोगों की योग्यता

सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स अनेक तरीकों से मनोरंजन और नवीनता प्रदान करते हैं, जिससे हमारे दिमाग को निरंतर जानकारी के साथ घेरा जाता है. यह बड़ी मात्रा में जानकारी को संसाधित करने और गहरे विचार प्रक्रिया करने को मुश्किल बना देता है, जिससे हमारे विचार पैटर्न कमजोर हो जाते हैं.

सोशल मीडिया के अत्यधिक उपयोग से घट रही है लोगों की योग्यता

Saturday August 05, 2023,

3 min Read

आज के दौर में लोगों की योग्यता दिन-ब-दिन घट रही है, जिसकी मुख्य वजह है सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग. एक्सपर्ट के अनुसार, इसके पीछे कुछ मुख्य कारण हैं:

कोग्निटिव ओवरलोड: विचारने की योग्यता में ध्यानविहीनता की एक मुख्य वजह है कोग्निटिव ओवरलोड का अनुभव. सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स अनेक तरीकों से मनोरंजन और नवीनता प्रदान करते हैं, जिससे हमारे दिमाग को निरंतर जानकारी के साथ घेरा जाता है. यह बड़ी मात्रा में जानकारी को संसाधित करने और गहरे विचार प्रक्रिया करने को मुश्किल बना देता है, जिससे हमारे विचार पैटर्न कमजोर हो जाते हैं.

ध्यान की अवधि का कम हो जाना: सोशल मीडिया की तेजी से बदलती हुई दुनिया विचार क्षमता में कमी का कारण बन सकती है. निरंतर स्क्रोलिंग, नोटिफिकेशन्स, और छोटे-छोटे सामग्री से हमारे दिमाग को तत्काल संतुष्टि और तेज़ स्टिमुलेशन की तलाश हो जाती है. इससे हम कठिन टास्कों पर ध्यान केंद्रित करने और गहरी, प्रतिबिंबित विचार करने की क्षमता में कमी हो सकती है.

यादृच्छिक सोच की कमी: सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स अक्सर जानकारी को सरलीकृत और दृढ़ स्थिति में प्रस्तुत करते हैं, जिससे उपयोगकर्ता उसे चेहरे के साथ स्वीकार करने को आसानी से रख सकते हैं. यह विचारने की और विश्लेषण करने की योग्यता को नुकसान पहुंचा सकता है. जबकि सीधी चीजों के पीछे की पृष्ठभूमि न पूछने की आदत, उपयोगकर्ताओं को उसे बिना गहराई तक समझे ही साझा करने या प्रतिक्रिया करने के लिए मजबूर कर सकती है.

तल्कीवाली बातचीतें: सोशल मीडिया हमें लोगों से जुड़ने की अनुमति देता है, लेकिन यह तल्कीवाली बातचीतें भी पैदा कर सकता है. ऑनलाइन संवाद चेहरे से चेहरे की बातचीतों के साथ तुलना में गहराई और रूचिकर नहीं होती है, जिससे महत्वपूर्ण सामाजिक कौशलों के विकास को रोक सकता है. सक्रिय सुनने और समझने की क्षमता की कमी हमारी महत्वपूर्ण बातचीतों में रुकावट डाल सकती है, जिससे हमारी विचारन योग्यता पर असर पड़ सकता है.

सोशल मीडिया के असर को सामान्य करने के लिए कुछ टिप्स:

• सोशल मीडिया से नियमित ब्रेक लें ताकि मानसिक उर्जा को फिर से प्राप्त कर सकें और ऑफ़लाइन संवादों को प्रोत्साहित कर सकें.

• पुस्तकें पढ़ने जैसी गहरी सोच को प्रोत्साहित करने वाली गतिविधियों में शामिल हों.

• विश्लेषणात्मक विचार कौशल को विकसित करें, जानकारी को प्रश्न करें, विभिन्न परिप्रेक्ष्यों की तलाश करें, और तथ्यों की जांच करें.

• सामाजिक कौशलों, सक्रिय सुनने और समझने की क्षमता को सुधारने के लिए ऑफ़लाइन संवादों को प्रोत्साहित करें.

(लेखिका PhD Psychologist हैं और Emoneeds से जुड़ी हुई हैं. आलेख में व्यक्त विचार लेखिका के हैं. YourStory का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है.)

यह भी पढ़ें
ऑटोमोबाइल उद्योग में टैलेंट जीतने का संग्राम: भारत का लक्ष्य


Edited by रविकांत पारीक