2022 में दर्ज की गई घरों की रेकॉर्ड बिक्री, 3.65 लाख यूनिट्स बिके

By yourstory हिन्दी
December 27, 2022, Updated on : Tue Dec 27 2022 10:04:16 GMT+0000
2022 में दर्ज की गई घरों की रेकॉर्ड बिक्री, 3.65 लाख यूनिट्स बिके
प्रॉपर्टी कंसल्टेंट एनारॉक की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है. उसके मुताबिक इससे पहले रेकॉर्ड हाउसिंग सेल्स 2014 में दर्ज की गई थी. तब टॉप 7 शहरों में 3.43 लाख यूनिट्स बिके थे.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

2022 हाउसिंग इंडस्ट्री के लिए काफी फायदेमंद साबित हुआ है. इस साल देश के सात बड़े शहरों में करीबन 3.65 लाख यूनिट्स की बिक्री हुई है. इससे पहले घरों की रेकॉर्ड बिक्री का आंकड़ा 2014 में दर्ज किया गया था.


एनारॉक की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है. उसके मुताबिक कोविड के बाद इनपुट कॉस्ट के दाम काफी बढ़े हैं. इस वजह से रेजिडेंशियल प्रॉपर्टीज की कीमतें 4-7 फीसदी बढ़ गई हैं.


प्रॉपर्टी कंसल्टेंट एनारॉक ने कहा कि इस साल सात बड़े शहरों में घरों की बिक्री 54 फीसदी बढ़कर 3,64,900 यूनिट्स पर पहुंच गई जो 2021 में 2,36,500 यूनिट्स थी.


ये सात शहर- दिल्ली-एनसीआर, मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन(MMR), चेन्नै, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद और पुण हैं. इससे पहले 2014 में रेकॉर्ड हाउसिंग सेल्स दर्ज की गई थी जब इन सात शहरों में 3.43 लाख यूनिट्स बिके थे.


MMR मार्केट में सबसे ज्यादा 1,09,700 घर बिके, उसके बाद एनसीआर में 63,700 घरों की बिक्री हुई है. डेटा के मुताबिक दिल्ली एनसीआर में 2022 में 59 फीसदी ज्यादा 63,712 यूनिट्स की बिक्री हुई है जो पिछले साल 40,053 थी.


घरों की बिक्री पुणे में 59 फीसदी, बेंगलुरु में 50 फीसदी, हैदराबाद में 87 फीसदी और कोलकाता में 62 फीसदी और चेन्नै में 29 फीसदी बढ़ी है.


वहीं इन टॉप सात शहरों में नए घरों की सप्लाई 51 फीसदी की दर से बढ़कर 3,57,600 यूनिट्स पर पहुंच गई है, जो 2021 में 2,36,700 यूनिट थी. 


सबसे ज्यादा नए घरों की सप्लाई हैदराबाद और और MMR में देखी गई. दोनों जगहों को मिलाकर कुल 54 फीसदी नए घर मार्केट में इस साल आए.


एनारॉक ग्रुप के चेयरमैन अनुज पुरी ने कहा, 'प्रॉपर्टी की बढ़ती कीमतें, ब्याज दरों में इजाफा, भूराजनैतिक तनावों के बावजूद भी 2022 रेजिडेंशियल रियल एस्टेट के लिए जबरदस्त साल रहा है.


ऐसा अनुमान लगाया जा रहा था कि लागत और ब्याज दरें बढ़ने की वजह से 2022 की दूसरी छमाही में रेजिडेंशियल सेल्स पर निगेटिव असर पड़ेगा.


लेकिन अक्टूबर से दिसंबर के बीच रेजिडेंशियल सेल्स की जबरदस्त डिमांड आई और इस दौरान 92,160 यूनिट्स बेचे गए. इन टॉप 7 शहरों में ना बिकने वाली इनवेंट्री की हिस्सेदारी दिसंबर में 1 फीसदी नीचे आकर 6,30,953 यूनिट्स पर रुकी.'


रिपोर्ट में कहा गया है, '2023 की पहली तिमाही में घरों की बिक्री के मामले में ये ट्रेंड जारी रहने वाला है. ज्यादातर खरीदारी एंड यूजर्स ने की है यानी उन लोगों ने ही घर खरीदा है जिन्हें उसमें रहना है. इससे पता चलता है कि लोगों के मन में अपना घर खरीदने यानी मालिकाना हक रखने की चाहत खत्म नहीं हुई है.'


Edited by Upasana

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close