इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र के लिए पहला ‘श्योरिटी बॉन्ड’ बीमा लॉन्च, जानें क्या है यह और कैसे मददगार

By yourstory हिन्दी
December 20, 2022, Updated on : Wed Jan 04 2023 12:25:22 GMT+0000
इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र के लिए पहला ‘श्योरिटी बॉन्ड’ बीमा लॉन्च, जानें क्या है यह और कैसे मददगार
श्योरिटी बॉन्ड कॉरपोरेट और वित्तीय गारंटी से अलग होते हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में लिक्विडिटी बढ़ाने के लिए देश का पहला श्योरिटी बॉन्ड (गारंटी बॉन्ड) बीमा उत्पाद जारी किया है. इससे बैंक गारंटी पर इंफ्रा डेवलपरों की निर्भरता कम होगी. इस मौके पर गडकरी ने कहा कि इस बीमा उत्पाद से ठेकेदारों के एक खास समूह की जरूरतें पूरी हो पाएंगी, जो आज के उतार-चढ़ाव से भरे माहौल में काम कर रहे हैं. उन्होंने बीमा उद्योग को आश्वस्त करते हुए कहा कि यह उनके लिए एक सुरक्षित कारोबार होने वाला है.

क्या है श्योरिटी बॉन्ड

श्योरिटी बॉन्ड कॉरपोरेट और वित्तीय गारंटी से अलग होते हैं. इसमें किसी बीमित परियोजना को पूरा करने या प्रदर्शन का दायित्व निहित होता है, जबकि कॉरपोरेट बॉन्ड ऋण चुकाने से संबंधित वित्तीय दायित्व से संबंधित होते हैं. देश के पहले गारंटी बॉन्ड बीमा उत्पाद को बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस की तरफ से जारी किया गया है. इसे इंफ्रास्ट्रक्चर उद्योग और सरकार की तरफ से आ रही मांग को देखते हुए विकसित किया गया है. श्योरिटी बॉन्ड बीमा (Surety Bond Insurance) इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के लिए एक सिक्योरिटी अरेंजमेंट के तौर पर काम करेगा. इससे इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजना के ठेकेदार और ठेका देने वाले संस्थान दोनों को संरक्षण मिलेगा.


श्योरिटी बॉन्ड इंश्योरेंस, ​मूलधन (Principal Amount) के लिए एक रिस्क ट्रांसफर टूल है और ठेकेदार द्वारा अपने संविदात्मक दायित्व को पूरा करने में विफल होने की स्थिति में उत्पन्न होने वाले नुकसान से मूलधन की रक्षा करता है. श्योरिटी बॉन्ड बीमा में इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजना आवंटित करने वाली कंपनी को यह भरोसा मिलेगा कि अगर ठेकेदार अनुबंध की शर्तों का पालन करने में नाकाम रहता है तो उसे नुकसान नहीं होगा. इस बॉन्ड के एवज में दावा किए जाने पर आवंटनकर्ता कंपनी को नुकसान की भरपाई की जाएगी.

बड़े कोलेटरल की जरूरत नहीं

बैंक गारंटी के विपरीत, श्योरिटी बॉन्ड इंश्योरेंस के लिए ठेकेदार से बड़े कोलेटरल की आवश्यकता नहीं होती है. इस प्रकार ठेकेदार के लिए महत्वपूर्ण धनराशि मुक्त हो जाती है, जिसका उपयोग वे व्यवसाय के विकास के लिए कर सकते हैं. यह उत्पाद ठेकेदारों के ऋण को काफी हद तक कम करने में भी मदद करेगा और इस प्रकार उनकी वित्तीय चिंताओं को दूर करेगा. उत्पाद देश में आगामी इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के विकास की सुविधा प्रदान करेगा. गडकरी ने बीमा उद्योग (Insurance Industry) से ठेकेदार फर्मों की रेटिंग तैयार करने का अनुरोध करते हुए कहा कि इससे परियोजनाओं के क्रियान्वयन से जुड़े जोखिम को कम करने में मदद मिलेगी.


Edited by Ritika Singh