कम्बाला के ही इस धावक ने तोड़ा श्रीनिवास गौड़ा का 100 मीटर का रिकार्ड

By भाषा पीटीआई
February 19, 2020, Updated on : Wed Feb 19 2020 11:31:30 GMT+0000
कम्बाला के ही इस धावक ने तोड़ा श्रीनिवास गौड़ा का 100 मीटर का रिकार्ड
बजागोली जोगीबेट्ट्रू के रहने वाले निशांत शेट्टी ने रविवार को वेणूर कम्बाला के दौरान 28 साल के गौड़ा का रिकार्ड तोड़ा।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

मंगलुरू, एक अन्य कम्बाला धावक ने कर्नाटक में पारंपरिक भैंसा दौड़ के दौरान 100 मीटर दूरी रिकार्ड 9.51 सेकेंड में तय करके श्रीनिवास गौड़ा के समय में सुधार किया जो हाल में इस दौड़ में शानदार प्रदर्शन करके सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं।


धावक निशांत शेट्टी (दाएं) , श्रीनिवास गौड़ा (बाएं)

धावक निशांत शेट्टी (दाएं) , श्रीनिवास गौड़ा (बाएं)



आयोजकों ने कहा कि बजागोली जोगीबेट्ट्रू के रहने वाले निशांत शेट्टी ने रविवार को वेणूर कम्बाला के दौरान 28 साल के गौड़ा का रिकार्ड तोड़ा।


कम्बाला के आयोजकों ने बताया कि शेट्टी सहित चार प्रतिभागियों ने 100 मीटर की दौड़ 10 सेकेंड से कम समय में पूरी की है।


शेट्टी के अलावा इरुवाथुर आनंद (9.57 सेकेंड), अकेरी सुरेश शेट्टी (9.57 सेकेंड) और श्रीनिवास गौड़ा (9.55 सेकेंड) ने दौड़ पूरी करने के लिए 10 सेकेंड से कम का समय लिया।


आनंद और सुरेश शेट्टी ने भी उसकी वेणूर कम्बाला दौड़ में हिस्सा लिया जिसमें निशांत ने बाजी मारी।


एक फरवरी को गौड़ा ने मंगलुरू के समीप एकाला गांव में कम्बाला दौड़ के दौरान सिर्फ 13.62 सेकंड में 142.5 मीटर की दौड़ लगायी थी। उन्होंने पहले 100 मीटर की दूरी सिर्फ 9.55 मीटर में तय की जिसके बाद उनकी तुलना कई बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता उसेन बोल्ट से होने लगी जिनका 100 मीटर में विश्व रिकार्ड 9.58 सेकेंड का है। इसके बाद वह सोशल मीडिया पर छा गए थे।


कम्बाला आयोजकों ने कहा कि रविवार को शेट्टी ने 143 मीटर की दौड़ 13.61 सेकेंड में पूरी की जिसके हिसाब से उन्होंने 100 मीटर दौड़ 9.51 सेकेंड में पूरी की।


कर्नाटक सरकार को गौड़ा को उनकी उपलब्धि के लिए सम्मानित भी किया था।


कम्बाला वार्षिक दौड़ है जिसका आयोजन कर्नाटक में किया जाता है। इस दौड़ में लोग अपनी भैसों के साथ धान के खेतों में 142 मीटर की दूरी तय करते हैं। इस दौड़ के दौरान धावकों के हाथ में भैंसों की लगाम होती है जिससे स्पष्ट है कि इस समय में जानवरों की भी अहम भूमिका होती है।


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close