बड़ी ख़बर: रूस ने बना ली पहली कोरोना की वैक्सीन! राष्ट्रपति पुतिन की बेटी को दिया गया पहला डोज़

बड़ी ख़बर: रूस ने बना ली पहली कोरोना की वैक्सीन! राष्ट्रपति पुतिन की बेटी को दिया गया पहला डोज़

Tuesday August 11, 2020,

2 min Read

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने खुद बताया है कि इस वैक्सीन का डोज़ उनकी एक बेटी को भी दिया गया है।

coronavirus vaccine

सांकेतिक चित्र



कोरोना महामारी के लगातार बढ़ते प्रकोप के बीच अब रूस का हालिया दावा लोगों को राहत दे सकता है। रूस का कहना है कि उसने कोरोना वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल कर ली है। इतना ही नहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने खुद बताया है कि इस वैक्सीन का डोज़ उनकी एक बेटी को भी दिया गया है।


रूस के अधिकारियों के मुताबिक इस वैक्सीन का नाम Gam-Covid-Vac Lyo है और इसे रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय और अन्य नियामकों से स्वीकृति मिल गई है।


रूसी अधिकारियों के अनुसार सबसे पहले इस वैक्सीन को फ्रंटलाइन वर्कर्स और अधिक जोखिम वाले लोगों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा। इसके पहले रूस ने यह संकेत दिये थे वह वैक्सीन बनाने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।


इस वैक्सीन का उत्पादन सितंबर से शुरू किए जाने की संभावना है, जिसे रूस के रक्षा मंत्रालय और गामालेया नेशनल सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एपिडिमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी ने मिलकर तैयार किया है। उम्मीद है कि यह वैक्सीन अक्टूबर तक लोगों के लिए उपलब्ध हो जाएगी।


पुतिन ने खुद इस बात कि जानकारी दी है कि वैक्सीन को लेकर सभी ट्रायल पूरे कर लिए गए हैं और यह वैक्सीन अच्छी इम्यूनिटी पैदा करने में सहायक है।


आज दुनिया भर में तमाम देश कुल मिलाकर 100 से अधिक वैक्सीन पर काम कर रहे हैं। भारत की बात करें तो यहाँ पर वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू हो चुका है, जो वैक्सीन बनाने की दूसरी स्टेज़ है।


हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि रूस द्वारा बनाई गई कोरोना वैक्सीन को डबल्यूएचओ से अनुमति मिली है या नहीं, लेकिन अगर ऐसा हुआ तो यह दुनिया के लिए एक बड़ी उपलब्धि साबित होगी।


ख़बर लिखे जाने तक दुनिया भर में  कोरोना वायरस के 2 करोड़ 2 लाख से अधिक मामले पाये गए हैं, जबकि 7 लाख 39 हज़ार से अधिक लोग इसके चलते अपनी जान गंवा चुके हैं। भारत में भी कोरोना वायरस संक्रमण के 22 लाख 71 हज़ार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं।