एक बार फिर भारत में तेल का निर्यात करने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश बना सऊदी अरब

By Rajat Pandey
September 15, 2022, Updated on : Thu Sep 15 2022 12:51:07 GMT+0000
एक बार फिर भारत में तेल का निर्यात करने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश बना सऊदी अरब
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Ukraine पर Russia के हमले के बाद यूरोपीय देशों के रूस पर प्रतिबंधों के बीच भारत और चीन सबसे अधिक मात्रा में रूस का कच्चा तेल खरीद रहे थे. जून महीने में Saudi Arabia को पीछे छोड़ते हुए भारत में तेल का निर्यात करने वाला रूस दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया था. इस मामले में पहला स्थान इराक का है. मगर जून के बाद रूस द्वारा कम की गयी डिस्काउंट दर के चलते भारत ने रूस से आयत करने वाले कच्चे तेल की मात्रा भी कम करदी है. एक बार फिर रूस को पीछाडकर सऊदी अरब भारत में तेल का निर्यात करने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया है. 


विश्व में कच्चे तेल को आयात करने के मामले में भारत तीसरे नंबर पर आता है. भारत हर दिन 863,950 बैरल कच्चा तेल सऊदी अरब से ले रहा है, जो पिछले महीने की तुलना में 4.8% ज्यादा है. इसी क्रम से भारत रूस से 855,950 बैरल प्रति दिन ले रहा है, जो पिछले महीने की तुलना में 2.4% कम है. इसी के चलते सऊदी अरब भारत में तेल का निर्यात करने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया है.


भारत सरकार के आंकड़ों पर आधारित ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल अप्रैल से जून के दौरान रूस ने सऊदी अरब से भी सस्ता तेल भारत को बेचा था.मई महीने में भारत को रूस के तेल पर 19 डॉलर प्रति बैरल तक की छूट मिल रही थी. जिसके बाद रूस दुसरे स्थान पर आ गया था.  


सऊदी अरब की इस बढ़त के बाद भी भारत में पेट्रोलियम निर्यातक देश के संगठन से तेल का आयात  59.8% तक गिर गया है, जो पिछले 16 वर्षों में सबसे कम है जबसे भारत ने अफ्रीकी आयात में कटौती की है


डाटा बेस कंपनी Refinitiv के एनालिस्ट अहसान उल हक बताते हैं कि अंत में आप कॉन्ट्रैक्ट की शर्तों के कारण सऊदी से कच्चे तेल के आयात में कटौती नहीं कर सकते और रूस विशेष रूप से एशिया में बढती मांग के कारण छूट दे रहा था.