SC, ST महिलाओं को ऑन्त्रप्रेन्योर की ट्रेनिंग देगी इस राज्य की सरकार

कार्यक्रम के तहत अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति समुदायों की 300 महिलाओं को ट्रेनिंग दी जाएगी. प्रोग्राम डायरेक्टर प्रोफेसर गणेश प्रभु ने कहा कि प्रतिभागी एक कारोबारी योजना विकसित करने पर काम करेंगे और इसमें उनकी मदद की जाएगी.

SC, ST महिलाओं को ऑन्त्रप्रेन्योर की ट्रेनिंग देगी इस राज्य की सरकार

Tuesday August 23, 2022,

2 min Read

कर्नाटक सरकार ने भारतीय प्रबंध संस्थान-बेंगलुरु (आईआईएमबी) के सहयोग से सोमवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (एससी/एसटी) महिला ग्रेजुएट्स के ऑन्त्रप्रेन्योर स्किल्स को विकसित करने के लिए एक ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू किया है.

एक बयान के मुताबिक, कर्नाटक सरकार के समाज कल्याण विभाग और अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग ने आईआईएम-बी के साथ मिलकर एससी/एसटी महिला ग्रेजुएट्स के स्किल्स को विकसित करने के लिए एक ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू किया है.

कार्यक्रम के तहत अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति समुदायों की 300 महिलाओं को ट्रेनिंग दी जाएगी. प्रोग्राम डायरेक्टर प्रोफेसर गणेश प्रभु ने कहा कि प्रतिभागी एक कारोबारी योजना विकसित करने पर काम करेंगे और इसमें उनकी मदद की जाएगी.

इस संबंध में IIMB के डायरेक्टर प्रो. ऋषिकेश टी. कृष्णन और मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी के बीच एक समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान किया गया, जिसके बाद प्रो. जी. शानेश ने आईआईएम बैंगलोर में एक्जीक्यूटिव एजुकेशन प्रोग्राम्स को पेश किया.

इस दौरान मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने अपने संदेश में कहा कि राज्य की प्रत्येक महिला को आर्थिक रूप से सशक्त किया जाना चाहिए. हमारा उद्देश्य अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और कमजोर समूहों की महिलाओं को आर्थिक गतिविधियों और विकास में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना है. तदनुसार, 2022-23 के बजट में, हमने एक ऐसे कार्यक्रम का प्रावधान किया जो इन वर्गों की 300 महिला स्नातकों को आईआईएम बैंगलोर में उद्यमिता प्रशिक्षण प्राप्त करने में मदद करेगा.

उन्होंने आगे कहा कि मैं यहां सभी प्रतिभागियों को इस कार्यक्रम का लाभ उठाने, क्षमता निर्माण करने और सफल उद्यमी बनने के लिए प्रोत्साहित करता हूं. आपको न केवल आत्मनिर्भर बनना चाहिए, बल्कि दूसरों को भी उद्यमिता अपनाने के लिए प्रेरित करना चाहिए. बहुतों को जॉब देने वाला बनें. मैं आप सभी को शुभकामनाएं देता हूं.

प्रोग्राम में प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए, आईआईएम-बी के डारेक्टर प्रोफेसर ऋषिकेश टी. कृष्णन ने उद्यमिता शिक्षण कार्यक्रमों को वितरित करने के साथ संस्थान के लंबे और गहरे जुड़ाव का वर्णन किया. इसमें गोल्डमैन सैक्स के 10 हजार कार्यक्रम, कोटक बैंक द्वारा समर्थित महिला स्टार्ट-अप कार्यक्रम, राष्ट्रीय महिला आयोग के लिए डिज़ाइन किया गया कार्यक्रम और अन्य शामिल हैं.

यह प्रोग्राम इच्छुक महिला ऑन्त्रप्रेन्योर्स को अपने विचार लेने और इसे एक व्यावसायिक उद्यम में बदलने में सक्षम बनाता है. यह मैनेजमेंट प्रैक्टिसेस के अधिग्रहण, विकास के अवसरों के नेविगेशन, प्रभावी नेतृत्व कौशल के विकास और व्यावसायिक विचार और सहकर्मी नेटवर्किंग पर औपचारिक सलाह के माध्यम से समर्थन पर ध्यान केंद्रित करते हुए व्यक्तिगत और व्यावसायिक विकास का अवसर प्रदान करता है.


Edited by Vishal Jaiswal