अपनी बचत से शुरूआत कर भाई-बहन की जोड़ी ने खड़ा कर दिया 6 करोड़ रुपये का पर्सनलाइज़्ड गिफ्टिंग स्टार्टअप

अपनी बचत से शुरूआत कर भाई-बहन की जोड़ी ने खड़ा कर दिया 6 करोड़ रुपये का पर्सनलाइज़्ड गिफ्टिंग स्टार्टअप

Friday July 31, 2020,

6 min Read

मुंबई स्थित पर्सनलाइज़्ड गिफ्टिंग स्टार्टअप ‘द मेसी कार्नर’ अपनी यात्रा और लाइफस्टाइल के एसेसरीज़ के लिए जाना जाता है, लेकिन स्टार्टअप ने कोरोनवायरस महामारी के बीच फेस मास्क और यूवी स्टरलाइज़र भी पेश किए हैं।

द मेसी कॉर्नर के संस्थापक भाई-बहन आयुष और आंचल पोद्दार

द मेसी कॉर्नर के संस्थापक भाई-बहन आयुष और आंचल पोद्दार



पर्सनलाइज़्ड गिफ्ट की बढ़ती लोकप्रियता ने ऑनलाइन गिफ्टिंग उद्योग की वृद्धि को बढ़ावा दिया है और कस्टमाइज्ड गिफ्टिंग से जुड़े स्टार्टअप की शुरुआत के मौके खोले हैं। इनमें से एक मुंबई में स्थित ईकॉमर्स स्टार्टअप द मेसी कार्नर है, जो स्टाइलिश ट्रैवल और लाइफस्टाइल एसेसरीज़ पर केंद्रित है।


द मेसी कॉर्नर (TMC) की स्थापना 2015 में भाई-बहन आयुष और आंचल पोद्दार ने की थी, जो यात्रा करना पसंद करते हैं और अक्सर एक-दूसरे को पर्सनलाइज़्ड गिफ्ट देते रहते हैं। पर्सनलाइज़्ड गिफ्ट उपलब्ध कराने वाली कंपनियों की कमी के कारण पर्सनलाइज़्ड गिफ्ट और स्टाइलिश, अच्छी गुणवत्ता और सस्ती एसेसरीज़ को लोगों तक उपलब्ध कराने के विचार ने उन्हे टीएमसी शुरू करने के लिए प्रेरित किया।


28 वर्षीय आंचल, योरस्टोरी को बताती है, "जब आपका नाम आपका अपना ब्रांड हो सकता है तो डिजाइनर लेबल क्यों चाहिए?"

द मेस्सी कॉर्नर

33 साल के आयुष मुंबई विश्वविद्यालय से मार्केटिंग में एमबीए हैं और एक दशक से श्री टेक्सटाइल के पारिवारिक व्यवसाय का प्रबंधन कर रहे हैं। दूसरी ओर आंचल ने ब्रिटेन के बाथ विश्वविद्यालय से मार्केटिंग में मास्टर्स की उपाधि प्राप्त की है।


दोनों ने उद्यम को बूटस्ट्रैप कर इसे अपने घर के एक छोटे से कोने से शुरू किया। आंचल कहती हैं, “हमारे पास एक अतिरिक्त कमरा था और हम इसका इस्तेमाल करते थे क्योंकि हम अभी शुरू कर रहे थे। तैयार उत्पाद बनाने के लिए किए गए प्रयास और कदम बहुत आसान नहीं होते हैं।"


वह आगे कहती है,

“हमारी माँ कमरे की सफाई के लिए हम पर चिल्लाती रहती थी और हम कोशिश करते थे, लेकिन मिनटों में फिर से सब गड़बड़ हो जाता था। इसलिए हमने कंपनी का नाम 'द मेसी कार्नर' रखने का निर्णय लिया। यह हमारे ग्राहकों के लिए उत्पाद लाने के प्रयासों और गड़बड़ी को दर्शाता है।"

संस्थापकों ने शुरू में व्यवसाय में 10 लाख रुपये का निवेश किया। तब से यह व्यवसाय में सभी मुनाफे को वापस स्थानांतरित कर रहे हैं। वर्तमान में मेसी कॉर्नर एक 20 सदस्यीय टीम है, जिसमें पूर्णकालिक कर्मचारी और फ्रीलांसर शामिल हैं।


भाई-बहन अपने व्यक्तिगत रिश्ते को उद्यम से अलग करना सुनिश्चित करते हैं। वे कहते हैं, "हम दिन के दौरान पार्टनर और रात में भाई-बहन होते हैं।"


मेस्सी कॉर्नर द्वारा बनाया गया कस्टमाइज़ यात्रा सामान

मेस्सी कॉर्नर द्वारा बनाया गया कस्टमाइज़ यात्रा सामान



बढ़ रही है कंपनी

कंपनी यात्रा, लाइफस्टाइल, स्टेशनरी और तकनीकी सामान जैसी श्रेणियों में उत्पाद प्रदान करता है। सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पादों में पासपोर्ट कवर शामिल हैं। यह विशेष रूप से किसी भी दर्शक वर्ग को लक्षित नहीं करता है और सभी उत्पादों की कीमत 299 रुपये से 3,999 रुपये के बीच है।


स्टार्टअप अपने उत्पादों को इन-हाउस डिजाइन करता है। मुंबई, दिल्ली और चेन्नई में स्थानीय बाजारों से कच्चे माल का स्रोत है और मुंबई के वसई में टीएमसी के कारखाने में उत्पादों का निर्माण होता है, जिसे 2015 में स्थापित किया गया था।


आंचल कहती हैं, “पर्सलाइज़ेशन की प्रक्रिया तब शुरू होती है जब ऑर्डर आते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए सभी उत्पादों को हैंडक्राफ्ट किया जाता है जिससे गुणवत्ता और पैकिंग सुनिश्चित होती है।”


टीएमसी का एक मजबूत कॉर्पोरेट आधार भी है। आंचल कहती हैं, “हमारे उत्पाद त्योहारों, ऑफसाइट्स और सम्मेलनों के दौरान कॉरपोरेट्स के लिए बढ़िया उपहार देने वाले विकल्प हैं। स्टार्टअप के B2B ग्राहकों में Google, Zee TV, HUL, IIFL, डेलॉइट, Zydus, Airtel, Harman, Nearby.com और KPMG शामिल हैं।


आयुष का कहना है कि TMC के पास 1.5 लाख का यूजर बेस है और स्टार्टअप ने अब तक दो लाख से अधिक ऑर्डर पूरे किए हैं, जिसमें लगभग चार लाख आइटम शामिल हैं। संस्थापक का दावा है कि स्टार्टअप ने वित्त वर्ष 2015 में 6 करोड़ रुपये का राजस्व दर्ज किया। आयुष कहते हैं,

“COVID-19 स्थिति पर विचार न करके वित्त वर्ष 2021 के लिए हमारा लक्ष्य 10-20 करोड़ रुपये के राजस्व का है।”
द मेसी कार्नर द्वारा विकसित UV Steriliser

द मेसी कार्नर द्वारा विकसित UV Steriliser



मुश्किलें

आंचल का कहना है कि शुरुआत करना एक आसान नहीं था। भाई-बहन सही कौशल सेट के साथ टीममेट्स को खोजने के लिए संघर्ष करते थे और कहते हैं कि भागीदारों के साथ वेवलेंथ को सिंक्रनाइज़ करना चुनौतीपूर्ण था। इसके अतिरिक्त उन्हें इस मिथक को तोड़ने के प्रयासों में भी लगना पड़ा किपर्सनलाइजेशन को ऑनलाइन हासिल किया जा सकता है।


हालांकि जोड़ी आशावादी बनी हुई है। आंचल कहती हैं, “अगर हम चुनौतियों का सामना कर रहे हैं तो इसका मतलब है कि हम आगे बढ़ रहे हैं।”


चूंकि स्टार्टअप यात्रा के सामान पर ध्यान केंद्रित करता है इसलिए इसने मांग में गिरावट देखी है क्योंकि महामारी ने फिलहाल यात्रा बंद कर दी है। हालांकि TMC लगातार नए उत्पाद की पेशकश का पता लगाने की कोशिश कर रहा है, और हाल ही में इसने एक यूवी केयर स्टेरलाइजर और कॉटन मास्क पेश किया है। दोनों उत्पाद कोरोनावायरस के समय में खूब बिक रहे हैं।


26 अप्रैल 2020 को लॉन्च किया गया बहुआयामी यूवी स्टरलाइज़र, केवल तीन मिनट में 99.9 प्रतिशत कीटाणुओं को मारने का दावा करता है, जो एक स्मार्टफोन, ईयरफोन, घड़ियों और अन्य दैनिक सामान की सतहों पर रहते हैं। इसकी कीमत 3,999 रुपये है। स्टार्टअप ने अब तक 1,500 से अधिक यूनिटों की बिक्री की है।

फेस मास्क की कीमत 100 रुपये है और टीएमसी अब तक 25,000 से अधिक यूनिट बेच चुकी है। आंचल कहती हैं, “हम स्वास्थ्य, सुरक्षा और लाइफस्टाइल सेगमेंट में कुछ और उत्पाद लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं।”

गिफ्टिंग मार्केट

मैनेजमेंट कंसल्टेंट्स टेक्नोपैक का अनुमान है कि वर्तमान में भारतीय कॉर्पोरेट और व्यक्तिगत उपहार देने वाले बाजार का कुल आकार 2,50,000 करोड़ रुपये है। यह बताता है कि बाजार प्रति वर्ष 200 प्रतिशत के सीएजीआर से बढ़ रहा है। यह स्टार्टअप के लिए इस बाजार को वसूल करने और पनपने का बहुत बड़ा अवसर है।


आयुष कहते हैं, “हमारी यूएसपी गति और पैकेजिंग है। हमने यह दिखाने के लिए धारणा बदल दी कि व्यक्तिगत उपहारों को ऑफ-द-शेल्फ उत्पादों के रूप में तेजी से वितरित किया जा सकता है।" यह स्टार्टअप चुंबक, डेलीऑब्जेक्ट्स, फर्न्स एन पेटल्स, विस्टा प्रिंट और प्रेस्टो के साथ प्रतिस्पर्धा करता है।

आंचल का कहना है कि स्टार्टअप ने अभी तक कोई बाहरी फंड नहीं जुटाया है और वह सही रणनीतिक निवेशक की प्रतीक्षा कर रहा है। आंचल ने कहा, "हम इस साल पांच और श्रेणियां शुरू करने और मौजूदा श्रेणियों में गहराई जोड़ने की योजना बना रहे हैं।"