कोरोना वायरस से जुड़ी गलत खबरों को वॉइस AI के माध्यम से रोक रहा है स्टार्टअप स्लैंग लैब्स

By Sampath Putrevu
April 28, 2020, Updated on : Sun May 03 2020 05:25:47 GMT+0000
कोरोना वायरस से जुड़ी गलत खबरों को वॉइस AI के माध्यम से रोक रहा है स्टार्टअप स्लैंग लैब्स
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कोरोना वायरस से जुड़ी गलत खबरों का प्रसार रोकने के लिए स्लैंग लैब्स ने एआई आधारित वॉइस मॉड्यूल का इस्तेमाल किया है।

स्लैंग लैब की टीम

स्लैंग लैब की टीम



कोरोनोवायरस महामारी से निपटने के लिए आज देश भर के कई स्टार्टअप नए समाधान लेकर सामने आ रहे हैं।


मिसाल के तौर पर बेंगलुरु की स्लैंग लैब्स को ही लीजिए। महामारी से लड़ने वाले लोगों की सहायता करने के लिए यह स्टार्टअप शुरुआती तौर पर लोगों को धन का दान करता था, लेकिन जल्दी से समझ में आ गया कि केवल इतने से काम नहीं बनने वाला है। इसके बाद अपनी क्षमता के अनुसार फैसला करते हुए टीम ने अपनी मौजूदा टेक्नालजी के साथ आगे बढ़ने का निर्णय लिया।


2017 में कुमार रंगराजन, लिटिल आई लैब्स के गिरिधर मूर्ति और सतीश चंद्र गुप्ताद्वारा स्थापित बेंगलुरु स्थित स्लैंग लैब्स उपयोगकर्ताओं के लिए ऑगुमेंटेड वॉइस एक्सपिरियन्स विकसित करते हैं, जिसके जरिये कोई भी स्क्रीन को छूने के बिना भी अपने डिवाइस को कार्य करने के लिए कमांड दे सकता है।


हाल ही में, टीम ने इंटरनल हैकथॉन की मेजबानी की, जिसका उद्देश्य इस समय के मुद्दों को हल करना था और जो लोगों के जीवन पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकता है।


कुमार योरस्टोरी से कहते हैं,

"मैं व्यक्तिगत रूप से सोचता हूं कि एजेंडा में एक बड़ा अंतर था कि हम समस्याओं का सामना कैसे करते हैं। दो विचार वास्तव में दो प्रमुख समस्याओं से निपटने के लिए सामने हैं। पहला कि हमारे परिजनों को कोविड-19 से जुड़ी विश्वसनीय खबर मिले और दूसरा कि सोशल डिस्टेन्सिंग के समय में अकेलेपन को कैसे दूर किया जाए।”


ब्रेनस्टोर्मिंग

हैकाथन शनिवार को दोपहर से शुरू हुआ और रविवार की आधी रात को समाप्त हुआ। दो विचारों के मंथन के लिए 15 लोगों तीन लोगों की छोटी टीमों में बांटा गया।


इसका परिणाम यह था कि प्रत्येक टीम में व्यवसाय और संचालन से कम से कम एक सदस्य होना चाहिए, जो इस प्रक्रिया में स्पीड ब्रेकर के रूप में काम करेगा।


चार लोगों की टीम इस दौरान उभरते उपयोगकर्ताओं के लिए भरोसेमंद जानकारी जुटाने पर काम कर रहे थे। उन्होंने डैशबोर्ड को फोर्क करते हुए covid19india.org द्वारा निर्मित डेटा पाइप का उपयोग किया और स्लैंग लैब्स में वेब सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट (एसडीके) को इसमें जोड़ा।


कुछ ही घंटों में covid19india.org प्लेटफार्म आवाज-सक्षम था। नतीजतन, उभरते उपयोगकर्ता जो इंटरनेट से बहुत परिचित नहीं हैं, वे अब अंग्रेजी या हिंदी में आवाज के माध्यम से विश्वसनीय जानकारी खोज सकते हैं।


यह एंड्रॉइड ऐप्स के लिए सीमित क्षमता में अंग्रेजी, हिंदी, तमिल और कन्नड़ और मलयालम का समर्थन करता है। लेकिन वेब के लिए, यह इस समय केवल हिंदी और अंग्रेजी है।


विनायक का कहना है कि टीम ने अकेलेपन से लड़ने के लिए दो वॉइस गेम्स भी बनाए।


वह बताते हैं, "इनमें से एक गेम एक मेमोरी गेम है जिसे आप अपने बच्चों के साथ खेल सकते हैं, और दूसरा एक अधिक इंटरैक्टिव गेम है जिसे कोई भी खेल सकता है। ये दोनों गेम स्लैंग के एंड्रॉइड और वेब एसडीके का उपयोग करके सक्षम थे।"

इस परियोजना के लिए कोडबेस ओपन-सोर्स है, जिससे इच्छुक खिलाड़ियों को अपने डैशबोर्ड में समान क्षमता जोड़ने की अनुमति मिलती है।


ads


तेजी से जुड़ रहे हैंलोग

कुमार ने कहा कि covid19india.slanglabs.in को सोशल मीडिया पर इसे शेयर करने के एक हफ्ते से भी कम समय में 800 लोगों ने इस्तेमाल किया।


हालांकि, दूसरी समस्या ‘अकेलेपन’ के लिए डेटा अधिक अनुभवात्मक था। यहां तक कि परिवार के साथ या बिना रहने वाले टीम के सदस्य अकेलेपन का सामना कर रहे थे जो उनके दैनिक जीवन को प्रभावित कर रहा था। इन खेलों के माध्यम से, स्लैंग लैब्स परिवारों के भीतर अधिक बातचीत को प्रोत्साहित करने और अकेलेपन को कम करने का प्रयास कर रही है।


कुमार के अनुसार, प्रशिक्षण मॉडल आसान हैं और डेवलपर्स को 10 से 12 प्रश्नों की कल्पना करने की आवश्यकता होती है जो उपयोगकर्ता परिणाम प्राप्त करने के लिए पूछ सकते हैं। चूंकि समय के साथ मैकेनिज़्म बेहतर हो जाता है इससे टीम पर ओवरहेड काफी कम हो गया था, जिससे तेजी से प्रोटोटाइप का निर्माण हुआ।


टेक को कुछ विशिष्ट वर्टिकल जैसे किराने की डिलीवरी और फार्मास्युटिकल ई-कॉमर्स के लिए तैयार किया गया है। इन वर्टिकल्स में स्टार्टअप्स के लिए एकीकरण की गति को बढ़ाते हुए बनाया गया है।


कुमार कहते हैं,

"हम सक्रिय रूप से इस परियोजना को बेहतर बना रहे हैं और अपने नियमित स्प्रिंट के दौरान अधिक सुविधाओं को जोड़ रहे हैं। हम किराना और मेडिकल ईकॉमर्स डोमेन में ग्राहकों के साथ भी काम कर रहे हैं, जिन्होंने संकट के दौरान वृद्धि देखी है। इस यात्रा में उद्योग से जुड़े कुछ ऐसे भी खिलाड़ी हैं तो इस समय परेशानी का सामना कर रहे हैं।"