SpiceJet का दिवाली गिफ्ट, कैप्टन समेत कई पदों के लिए सैलरी बढ़ाई; जानें अब कितने मिलेंगे

By Ritika Singh
October 20, 2022, Updated on : Thu Oct 20 2022 06:55:29 GMT+0000
SpiceJet का दिवाली गिफ्ट, कैप्टन समेत कई पदों के लिए सैलरी बढ़ाई; जानें अब कितने मिलेंगे
नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) ने स्पाइसजेट पर 50 प्रतिशत उड़ानों के अंकुश को 29 अक्टूबर तक बढ़ा दिया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

विमानन कंपनी स्पाइसजेट (SpiceJet) ने कैप्टन के वेतन ढांचे में संशोधन किया है. यह नवंबर 2022 से लागू होगा. कंपनी ने कहा है कि अब 80 घंटे की उड़ान के लिए कैप्टन को 7 लाख रुपये प्रतिमाह मिलेंगे. एयरलाइन ने एक बयान जारी करके दावा किया कि इस वृद्धि के बाद अब कैप्टन पद का वेतन कोविड से पहले के वेतन से भी अधिक हो जाएगा. इसके अलावा प्रशिक्षकों और वरिष्ठ ‘फर्स्ट ऑफिसर’ (उड़ान और परिचालन में सहयोग करने वाले वाणिज्यिक एयरलाइन के पायलट) का वेतन भी बढ़ाया गया है.


कंपनी ने कहा कि पायलटों के मूल वेतन में निरंतर वृद्धि की जा रही है और अगस्त की तुलना में सितंबर में प्रशिक्षकों का वेतन 10 प्रतिशत तक अधिक और कैप्टन एवं ‘फर्स्ट ऑफिसर’ का वेतन 8 प्रतिशत अधिक रहा. कंपनी का कहना है कि अक्टूबर में कैप्टन और ‘फर्स्ट ऑफिसर’ का वेतन फिर 22 प्रतिशत बढ़ा दिया गया था.

ECLGS कोष मिलने के बाद बढ़ाई थी सैलरी

सितंबर माह में खबर आई थी कि एयरलाइन को सरकार से आपात ऋण सुविधा गारंटी योजना (ECLGS) के तहत धन की पहली किस्त मिली है, जिसके बाद उसने अपने पायलटों एक वर्ग के वेतन में अक्टूबर 2022 से बढ़ोतरी का फैसला किया है. यह बढ़ोतरी 20 प्रतिशत की रहने की बात कही गई थी.

सितंबर में ही 80 पायलटों को भेजा था लीव विदआउट पे पर

स्पाइसजेट ने सितंबर में ही अपने 80 पायलटों को तीन महीने के लिए बिना वेतन अवकाश (Leave without Pay) पर भेजा था. कंपनी ने कहा था कि यह कदम लागत को सुसंगत करने के अस्थायी उपाय के तहत उठाया गया. कंपनी ने कहा था कि लंबे समय से उसके मैक्स विमान खड़े हैं, इस वजह से पायलटों की संख्या ज्यादा हो गई है. इस कदम से पायलटों की संख्या को विमानों के बेड़े से सुसंगत किया जा सकेगा. जबरन बिना वेतन छुट्टी पर भेजे गए पायलट एयरलाइन के बोइंग और बॉम्बार्डियर बेड़े के हैं. हालांकि एयरलाइन ने आश्वस्त किया था कि पायलटों को दोबारा काम पर बुलाया जाएगा. लीव विदआउट पे अवधि के दौरान पायलट अन्य सभी लागू इंप्लॉई बेनिफिट्स के लिए पात्र रहेंगे, जैसे कि सभी चुने हुए बीमा लाभ, इंप्लॉई लीव ट्रैवल.


बता दें कि नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने स्पाइसजेट पर 50 प्रतिशत उड़ानों के अंकुश को 29 अक्टूबर तक बढ़ा दिया है. DGCA ने स्पाइसजेट के विमानों में आई तकनीकी गड़बड़ी के कारण यह रोक लगाई है. पहले यह 8 हफ्तों के लिए थी, बाद में इसकी अवधि को बढ़ा दिया गया.



Edited by Ritika Singh