Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

पारंपरिक कढ़ाई को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से आगे बढ़ रहा है जयपुर का यह सस्टेनेबल फैशन ब्रांड

जयपुर स्थित द लूम आर्ट पूरे भारत में बुनकर समूहों के साथ काम करता है, जो परिधान बनाने के लिए पारंपरिक शिल्प रूपों जैसे कांथा, सुजिनी और अर्शी शिबोरी को प्रदर्शित करते हैं। यह स्टार्टअप अब स्लो फैशन स्टार्टअप ज्वैलरी लाइन लॉन्च करने और इस साल अपना पहला स्टोर खोलने के लिए तैयार है।

पारंपरिक कढ़ाई को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से आगे बढ़ रहा है जयपुर का यह सस्टेनेबल फैशन ब्रांड

Monday February 21, 2022 , 7 min Read

दुनिया भले ही पहले से कहीं ज्यादा तेज रफ्तार में आगे बढ़ रही हो, लेकिन अब ज्यादा से ज्यादा लोग स्लो फैशन को अपना रहे हैं।

स्लो फैशन को लेकर उत्सुक आरुषि किलावत ने साल 2017 में द लूम आर्ट की स्थापना की थी। स्टार्टअप शिल्प और पर्यावरण को संरक्षित करने के लिए स्थानीय कारीगरों के साथ काम करते हुए पर्यावरण के अनुकूल सामग्री का निर्माण करता है।

जयपुर स्थित यह स्टार्टअप ऐसे कपड़े बनाता है जो "कला, हैंडलूम और सस्टेनेबिलिटी के के साथ" होते हैं और इसका उद्देश्य पुरानी और खत्म होती जा रही शिल्प तकनीकों को पुनर्जीवित करते हुए जीवन भर चलने वाले कपड़े बनाना है। आरुषि कहती हैं, "मैं कुछ ऐसा बनाना चाहती थी जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पहुंचाया जा सके। मैं हमेशा से हैंडलूम की ओर प्रेरित रही हूँ। मेरे लिए हैंडलूम का मतलब खादी या रेशम का टुकड़ा या प्यार से बुनी गई कोई भी सामग्री है।”

द लूम आर्ट का जन्म कारीगरों के लिए एक प्लेटफॉर्म बनाने, प्रतिभाशाली व्यक्तियों की आजीविका को बनाए रखने में मदद करने और स्थिरता को जीवन का एक तरीका बनाने के विचार से हुआ था। आरुषि कहती हैं, "द लूम आर्ट में मुख्य हाथ की कढ़ाई है जो हम करते हैं। हम मुख्य रूप से कांथा और सुजिनी के साथ काम करते हैं, क्योंकि डिजाइन के बारे में मेरा विचार यह है कि यह संचार का एक तरीका है जहां आप कहानियां सुना सकते हैं, जो इन शिल्पों में जुड़ी हुई हैं।”

कांथा एक सदियों पुरानी पारंपरिक कढ़ाई है जो बंगाल में ग्रामीण महिलाओं के जरिये विकसित हुई है, जबकि सुजिनी की कला बिहार से आती है। यह 18वीं शताब्दी में नवजात शिशुओं के लिए बनाई गई नरम, कशीदाकारी रजाई में इस्तेमाल की गई थी।

ि

ऐसे हुई शुरुआत

आरुषि राजस्थान के छोटे से शहर ब्यावर में पली-बढ़ी हैं और वे शुरुआत से ही विभिन्न कला रूपों और फैशन से जुड़ी रही हैं। जब कम उम्र में ही उन्होंने अहमदाबाद का दौरा किया और राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान (एनआईडी) और राष्ट्रीय फैशन प्रौद्योगिकी संस्थान (निफ्ट) परिसरों में छात्रों को रंगीन कपड़े पहने हुए देखा तो वे चकित रह गईं।

वे याद करती हैं, "मैं बहुत छोटी थी और मुझे पता था कि मैं डिजाइन में कुछ करना चाहती हूं। मेरे आस-पास के लोग इस पर हसे क्योंकि यह सब बहुत अलग था, लेकिन मेरे पिता मेरे साथ खड़े थे।”

आरुषि ने फैशन डिजाइन में पर्ल अकादमी से स्नातक की डिग्री प्राप्त की। वह प्रिंट डिजाइन और फैशन स्टाइल का अध्ययन करने के लिए एक एक्सचेंज प्रोग्राम पर छह महीने के लिए नॉटिंघम विश्वविद्यालय गई और "डिजाइन फॉर ए कॉज" थीम वाले उत्पादों के साथ अपनी डिजाइन यात्रा शुरू की।

साथ ही, उन्होंने एक गैर-सरकारी और गैर-लाभकारी धर्मार्थ संगठन नया सवेरा के निदेशक मंडल में कार्य किया। जयपुर में दृष्टिबाधित लोगों के लिए एक स्कूल के लिए काम करते हुए उन्होंने एक ब्रेल प्रॉडक्ट पुस्तक भी बनाई जिसका उपयोग वे खरीदारी करने के लिए कर सकते थे। मुंबई में स्टाइलिंग का काम करने के कुछ वर्षों के बाद आरुषि ने एक प्रसिद्ध भारतीय फैशन डिजाइनर के साथ नौकरी की। हालाँकि, उन्होंने उनके द्वारा बनाए गए फैशन से जुड़ाव महसूस नहीं किया और वे वापस जयपुर चली गई।

वे कहती हैं, "मुझे नहीं पता था कि मैं एक उद्यमी बनना चाहती थी। मेरे पिता कई अलग-अलग व्यवसायों से जुड़े हैं, जिन्हें उन्होंने शुरू से ही बनाया है। मेरा मानना है कि एक उद्यमी बनने का उत्साह उन्हीं से आया है।”

आरुषि ने महिला उद्यमियों के लिए एक योजना के तहत बैंक ऑफ बड़ौदा से 25 लाख रुपये का कर्ज लेकर कंपनी की शुरुआत की थी। उन्होंने एक दर्जी, एक कढ़ाई करने वाले और एक मास्टर सहित चार लोगों की एक टीम के साथ शुरुआत की। उसने कंपनी को स्केल करने के लिए 2020 में 25 लाख रुपये का एक और कर्ज लिया। इसके अलावा, कंपनी अब अपने पैसे के साथ काम करती है।

कला और कारीगर

द लूम आर्ट आरुषि के डिजाइन पर आधारित विभिन्न प्रकार के रेशम, जामदानी, खादी और बंधेज से परिधान तैयार करता है। स्टार्टअप इन कपड़ों को बुनने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में स्थित शिल्पकारों के 20 से अधिक समूहों के साथ काम करता है। प्रत्येक समूह में लगभग आठ बुनकर हैं।

वह कहती हैं, “चूंकि मेरे पास एक फैशन पृष्ठभूमि है, मेरे पास ऐसे दोस्त हैं जो वस्त्रों में काम करते हैं। मैं अपने स्रोतों तक पहुंची और विक्रेताओं से जुड़ी। उदाहरण के लिए, कोलकाता में एक विक्रेता मुझे मुर्शिदाबाद नामक एक गाँव में ले गए, जहाँ मैं एक छोटे से समूह से जुड़ी जो जामदानी और खादी बनाते हैं।”

बनारस में समूह रेशम और चंदेरी बुनते हैं, बंगाल में खादी और जामदानी विकसित करते हैं और कच्छ में बुनकर शहतूत रेशम और मटका रेशम की आपूर्ति करते हैं। इन-हाउस शिल्पकारों की एक टीम इन कपड़ों पर कला के कार्यों को बनाने के लिए कांथा और सुजिनी को कथा शिल्प के रूप में उपयोग करती है।

ि

आरुषि कहती हैं, “अगर हम कोई नई तकनीक लेकर आते हैं, तो मैं अपने उस्ताद शिल्पकार को उस शहर में भेजती हूँ और उनसे सीखने के लिए कहती हूँ। वे वहां करीब 10 दिनों तक रहते हैं और वापस आकर अपनी टीम को सिखाते हैं। इससे हमें कढ़ाई की गुणवत्ता को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।”

पिछले दो सीज़न से, द स्लो फैशन ब्रांड ने अर्शी शिबोरी को भी अपने डिजाइन के मुख्य तत्वों में से एक के रूप में शामिल किया है। यह एक जापानी टाई-डाई कला है, जिसमें कपड़े को एक पोल के चारों ओर लपेट कर पैटर्न वाले और प्लीटेड कपड़े बनाने के लिए स्क्रब करना शामिल होता है। धीमी और टिकाऊ फैशन सुनिश्चित करते हुए इस तकनीक का उपयोग करके केवल दो मीटर तक कपड़े रंगे जा सकते हैं।

ऐसा है बाज़ार

रिसर्च एंड मार्केट की एक रिपोर्ट के मुताबिक सस्टेनेबल फैशन के लिए वैश्विक बाजार 2021 में 5.4 अरब डॉलर था और 2025 तक 9 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़कर 8.3 बिलियन डॉलर होने की उम्मीद है। कपड़ा उद्योग के प्रतिकूल प्रभावों के बारे में बढ़ती जागरूकता पर्यावरण ग्राहकों को नैतिक फैशन सामग्री चुनने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है।

मैकिन्से की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि स्थिरता फैशन के विकास के सबसे बड़े अवसर प्रदान करेगी। जब से हैंडलूम वापस प्रचलन में आया है, कई डिजाइनरों ने इस स्थान को अवसरों से भरा हुआ पाया है और उसी के आसपास अपने ब्रांड बनाए हैं। भारत में स्थित इन ब्रांडों में से कोर, इको स्टूडियो, एपीजेड, उरथ लेबल, द थर्ड फ्लोर क्लोदिंग, बुना, बेंच, तहवीव, इयला और अन्य शामिल हैं।

ि

द लूम आर्ट दुनिया भर में एक ओमनीचैनल मॉडल के माध्यम से बिकता है। ब्रांड खुदरा विक्रेताओं को बिक्री या वापसी और थोक दोनों आधार पर बेचता है। भारत में, यह हाई-एंड मल्टी-ब्रांड, मल्टी-डिज़ाइनर स्टोर्स जैसे पर्निया की पॉप-अप शॉप और ओगान के ब्रिक-एंड-मोर्टार स्टोर्स में उपलब्ध है।

स्टार्टअप की पेशकश इसकी वेबसाइट और फैशन मार्केटप्लेस जैसे कि एज़ा फैशन, पर्निया की पॉप-अप शॉप, ओगान, टाटा क्लिक, नायका और अन्य के माध्यम से ऑनलाइन भी उपलब्ध है। द लूम आर्ट संयुक्त अरब अमीरात में ओनास, यूके में ओमी ना-ना, यूएस में रुए सेंट पॉल और द क्लेज़ेट और कनाडा में अम्मारा कलेक्टिव के माध्यम से उपलब्ध हैं।

ब्रांड लॉन्च होने के तीन साल बाद 2020 में भी ब्रेक-ईवन में सफल रहा है। कंपनी महीने में 10-12 लाख रुपये के बीच बिक्री करती है, जो कंपनी द्वारा कोई इवेंट या पॉप-अप करने पर बढ़ जाती है। आरुषि की मार्च के पहले सप्ताह में 22 कैरेट गोल्ड प्लेटिंग के साथ पीतल और चांदी से बनी ज्वैलरी लाइन लॉन्च करके विस्तार करने की योजना है। ब्रांड साल 2022 के मध्य तक परफ्यूम और बॉडी मिस्ट की एक लाइन लॉन्च करने के लिए एक अन्य लेबल के साथ भी कोलैब कर रहा है।

आरुषि कहती हैं, "हमारा पहला फ्लैगशिप स्टोर जून 2022 में हैदराबाद में भी लाइव हो जाएगा क्योंकि यह वह शहर है जो हमें भारत में सबसे अधिक कस्टमर प्रॉफ़िट प्रदान करता है।"


Edited by Ranjana Tripathi