यौन समस्याओं के समाधान के लिए एक डॉक्टर ने शुरू किया ये स्टार्टअप, जानिए इसके बारे में

By Anuj Maurya
November 02, 2022, Updated on : Thu Nov 03 2022 11:33:53 GMT+0000
यौन समस्याओं के समाधान के लिए एक डॉक्टर ने शुरू किया ये स्टार्टअप, जानिए इसके बारे में
कोई भी इंसान सबसे ज्यादा सेक्स समस्याओं पर बात करने से हिचकता है. इसके लिए वह कई बार झोलाछाप बाबाओं को ढेर सारा पैसा तक दे देता है. लेकिन अब एक डॉक्टर से सेक्स समस्याओं का समधान देने वाला स्टार्टअप शुरू कर दिया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अगर किसी से पूछा जाए कि वह सबसे ज्यादा किस बीमारी से डरता है, तो शायद उसका जवाब आपको हैरान कर दे. आज भी बहुत सारे लोग कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से उतना नहीं डरते, जितना सेक्स से जुड़ी बीमारियों (Sex Problems) से डरते हैं. दिक्कत ये है कि कैंसर की बीमारी का इलाज करवाने में उन्हें कोई शर्मिंदगी या झिझक महसूस नहीं होती. हालांकि, सेक्स से जुड़ी समस्याओं पर बात करने से हर कोई कतराता है. लोगों की इस झिझक का फायदा उठाते हैं कई झोलाछाप बाबा. ये बाबा तमाम लोगों से ढेर सारे पैसे ठग लेते हैं और नजीता ये होता है कि लोगों की समस्याएं जस की तस बनी रहती हैं. इसी समस्या को समझा मनोचिकित्सक (Psychiatrist) डॉक्टर प्रवीण त्रिपाठी ने और लोगों के लिए एक शानदार समाधान ले आए.

शुरू किया Me Solves

डॉक्टर प्रवीण पेशे से तो एक मनोचिकित्सक हैं. वह इसके तहत ऐसे लोगों को सेवाएं देते हैं, जो सेक्स से जुड़ी किसी समस्या से परेशान होते हैं. हमेशा से ही सेक्स से जुड़ी समस्याओं की ओर उनका रुझान था. जब उन्होंने देखा कि सेक्स से जुड़ी समस्याओं के लिए लोगों को तमाम झोलाछाप बाबाओं के चक्कर में फंसना पड़ रहा है, तो उन्होंने अपने मित्र और पूर्व मीडियाकर्मी संदीप अमर के साथ मिलकर 2019 में Me Solves शुरू किया. इसके जरिए वह सेक्स से जुड़ी समस्याओं की कुछ दवाएं बेचते हैं. ये वह दवाएं होती हैं, जो साइंस के हिसाब से सही होती हैं, ताकि कोई झोलाछाप बाबा लोगों को बेवकूफ ना बना सके.

डॉक्टरों से ले सकते हैं कंसल्टेशन

जिस भी शख्स को सेक्स से जुड़ी समस्या हो रही है, वह Me Solves की वेबसाइट पर जा सकता है और वहां से डॉक्टर से संपर्क कर सकता है. इतना ही नहीं, Me Solves के यूट्यूब चैनल पर जाकर भी आप डॉक्टर से बात कर सकते हैं. डॉक्टर प्रवीण बताते हैं कि अभी तक वह Mesolves की मदद से 20 हजार से भी अधिक लोगों की मदद कर चुके हैं.

तमाम एग्रिगेटर से अलग कैसे है Me Solves

अगर हम तमाम एग्रिगेटर्स को देखें तो उन्होंने ऑफलाइन की समस्या को ऑनलाइन में शिफ्ट कर दिया. सॉल्यूशन के नाम पर अभी तक कुछ भी बेहतर होता नहीं दिख रहा है. अक्सर ऐसे एग्रिगेटर्स पर भी लोगों को झोलाछाप बाबा ही मिल जाते हैं, जिससे उनका नुकसान होता है. वहीं दूसरी ओर Me Solves के जरिए लोगों को सही समाधान मुहैया कराने की कोशिश की जा रही है.

कैसे काम करता है ये बिजनस मॉडल?

सबसे पहले यूजर को कंपनी की तरफ से उनकी वेबसाइट और यूट्यूब चैनल पर दिए गए नंबर पर फोन करना होता है. इसके बाद ये तय होता है कि व्यक्ति की समस्या को वाकई किसी इलाज की जरूरत है या फिर वह शख्स सिर्फ गलत जानकारी की वजह से परेशान है. अगर इलाज की जरूरत लगती है तो फिर उस शख्स की बात डॉक्टर से कराई जाती है. डॉक्टर से आपको प्रिस्क्रिप्शन मिल जाएगा, जिसकी दवाएं आप चाहे तो MeSolves से ले सकते हैं या फिर चाहे तो बाहर के किसी दूसरे मेडिकल स्टोर से ले सकते हैं. डॉक्टर से बात करने के लिए 250 रुपये की कंसल्टेशन फीस चुकानी होती है. कंपनी इन पैसों को पूरा का पूरा डॉक्टर को ट्रांसफर कर देती है. कंपनी की सारी कमाई अपनी वेबसाइट के जरिए प्रोडक्ट्स बेचकर होती है.

सीक्रेसी का रखा जाता है पूरा ध्यान

इस स्टार्टअप के जरिए अगर आप किसी डॉक्टर से बात करते हैं तो आपकी हर जानकारी पूरी तरह सीक्रेट रहेगी. डॉक्टर प्रवीण बताते हैं कि जिन डॉक्टरों को भी हायर किया जाता है उन्हें सब कुछ अच्छे से समझाया जाता है. उन्हें बताया जाता है कि किसी भी मरीज को जबरदस्ती कोई सामान नहीं बेचना है. ना ही किसी मरीज की कोई भी जानकारी सार्वजनिक की जाती है.

कितनी मिली है फंडिंग?

Me Solves को शुरू करने के पीछे डॉक्टर प्रवीण का मकसद सिर्फ मुनाफा कमाना नहीं था. यही वजह है कि उन्होंने इस स्टार्टअप के लिए अभी तक कोई फंडिंग नहीं ली है. इस स्टार्टअप में जो भी पैसा लगाया गया है वह प्रवीण और संदीप का अपना पैसा है. वह कहते हैं कि अगर फंडिंग ले लेंगे तो निवेशकों के हिसाब से काम करना होगा. ऐसे में कई बार सिर्फ मुनाफा बढ़ाने की बात होने लगेगी, जबकि उनका मकसद लोगों को जागरूक करना भी है. यही वजह है कि वह यूट्यूब के जरिए तमाम वीडियो बनाकर लोगों को सेक्स के प्रति जागरूक करने की कोशिश में लगे हुए हैं. इस स्टार्टअप की जितनी भी कमाई होती है, वह सारा वापस कंपनी को ही आगे बढ़ाने में लगा दिया जाता है.

भविष्य की क्या है प्लानिंग

जब भी कोई स्टार्टअप शुरू होता है तो सबसे पहले उसकी कोशिश यही होती है कि वह जल्दी से जल्दी बड़ा बन जाए. हर स्टार्टअप तेजी से पूरे देश में फैल जाने का सपना देखता है. डॉक्टर प्रवीण भी अपने इस स्टार्टअप को बड़ा तो बनाना चाहते हैं, लेकिन तेजी से भागने की रेस में शामिल नहीं होना चाहते. ऐसे में वह भविष्य के लिए हर कदम पूरी रिसर्च कर के सोच समझ कर और लोगों के हितों का ध्यान रखते हुए उठा रहे हैं. आने वाले दिनों में वह लोगों के लिए कुछ कोर्स डिजाइन करने की सोच रहे हैं, जिनके जरिए वह लोगों को सेक्स एजुकेशन दे सकें. इसका सबसे बड़ा फायदा होगा कि लोग जागरूक होंगे और वह बेवजह झोलाछाप बाबाओं के चक्कर में नहीं फंसेंगे.

चुनौतियां भी कम नहीं हैं

डॉक्टर प्रवीण कहते हैं कि इस राहत में चुनौतियां भी बहुत अधिक हैं. सबसे बड़ा चैलेंज ये है कि लोगों का भरोसा जीतना मुश्किल हो रहा है. पहली बार में तमाम मरीजों को भरोसा करने में दिक्कत होती है. उनका भरोसा जीतने के लिए वह किसी भी मरीज पर किसी भी काम के लिए दबाव नहीं डालते. इस स्टार्टअप की तरफ से डॉक्टर से बात होने के बाद मरीज को पूरी आजादी होती है कि वह दवाओं को जहां चाहे वहां से ले या फिर जो भी टेस्ट कराना है, वह कहीं से भी करा सकता है.