सप्ताह के पहले दिन सेंसेक्स 638 अंक गिरा, अडानी की कंपनियों के शेयर 8% तक टूटे

By Ritika Singh
October 03, 2022, Updated on : Mon Oct 03 2022 12:51:14 GMT+0000
सप्ताह के पहले दिन सेंसेक्स 638 अंक गिरा, अडानी की कंपनियों के शेयर 8% तक टूटे
पूरे दिन में सेंसेक्स ने 57,454.84 का उच्च स्तर और 56,683.40 का निम्न स्तर छुआ.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

वैश्विक बाजारों में कमजोर रुख और विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली जारी रहने से घरेलू शेयर बाजारों (Stock Markets) में सोमवार को गिरावट रही. तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स (BSE Sensex) 638.11 अंक टूटकर 56,788.81 पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह 743.52 अंक तक नीचे चला गया था. पूरे दिन में सेंसेक्स ने 57,454.84 का उच्च स्तर और 56,683.40 का निम्न स्तर छुआ.


सेंसेक्स के शेयरों में मारुति सुजुकी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, इंडसइंड बैंक, ITC, बजाज फाइनेंस, भारतीय स्टेट बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक प्रमुख रूप से नुकसान में रहे. सबसे ज्यादा 3.16 प्रतिशत मारुति का शेयर गिरा है. इसके बाद हिंदुस्तान यूनिलीवर है, जो 2.77 प्रतिशत टूटा है. बीएसई पर लिस्टेड 30 कंपनियों में से 4 को छोड़ बाकी 26 कंपनियों के शेयर ​लाल निशान में बंद हुए हैं. डॉ. रेड्डीज, NTPC, भारती एयरटेल और विप्रो लाभ में रहे.

Nifty के टॉप गेनर्स व लूजर्स

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी (NSE Nifty) 207 अंकों की गिरावट के साथ 16,887.35 पर बंद हुआ. निफ्टी पर फार्मा, हेल्थकेयर इंडेक्स को छोड़कर अन्य सभी सेक्टोरल इंडेक्स गिरावट में बंद हुए हैं. 3 प्रतिशत से ज्यादा की सबसे बड़ी गिरावट निफ्टी मेटल में देखी गई. निफ्टी पर ओएनजीसी, डॉ. रेड्डीज, सिप्ला, BPCL, कोल इंडिया टॉप गेनर्स और अडानी एंटरटेनमेंट, आयशर मोटर्स, अडानी पोर्ट्स, टाटा कंज्यूमर और मारुति टॉप लूजर्स रहे.

औंधे मुंह गिरे गौतम अडानी की कंपनियों के शेयर

महीने के पहले कारोबारी दिन ही गौतम अडानी (Gautam Adani) को भारी नुकसान हुआ है. शेयर बाजार में लिस्टेड अडानी ग्रुप की सातों कंपनियों के शेयर औंधे मुंह गिरे हैं. बाजार की गिरावट में अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी विल्मर और अडानी पावर के शेयरों में लोअर सर्किट तक लग गया. शाम होते-होते अडानी एंटरप्राइजेज में दोबारा कारोबार शुरू हुआ, लेकिन अडानी विल्मर और अडानी पावर में कारोबार नहीं शुरू हो सका. अडानी के शेयरों में गिरावट की कोई अलग से वजह नहीं है. पूरे बाजार में ही गिरावट है. इसी गिरावट का असर अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों पर देखने को मिल रहा है.


महज एक दिन में अडानी एंटरप्राइजेज का शेयर 298 रुपये यानी 8.64% तक गिर गया. कारोबार बंद होने पर एनएसई पर अडानी एंटरप्राइजेज का शेयर 8.42% की गिरावट के साथ 3164.75 रुपये पर था. वहीं बीएसई पर 8.51% की गिरावट के साथ 3157.15 रुपये पर शेयर बंद हुआ है. वहीं अडानी विल्मर का शेयर 5% यानी 37 रुपये गिरकर एनएसई पर 717.75 रुपये के लेवल पर आ गया. BSE पर शेयर 717.55 रुपये पर आ गया. अडानी पावर का शेयर भी करीब 5% गिरकर एनएसई पर 354.85, BSE पर 355.15 रुपये पर जा पहुंचा. अडानी पोर्ट्स के शेयरों में आज करीब 36 रुपये यानी लगभग 4.42% की गिरावट देखने को मिली. इसके साथ ही अडानी पोर्ट्स का शेयर 784.40 रुपये के लेवल पर आ गया. अडानी ग्रीन एनर्जी के शेयरों में 186 रुपये यानी करीब 8.26% कि गिरावट आई और यह शेयर 2074.05 रुपये के स्तर पर बंद हुआ. अडानी टोटल गैस लिमिटेड का शेयर भी आज 7.16% गिरा. करीब 239 रुपये की गिरावट के साथ यह शेयर 3100.80 रुपये के स्तर पर बंद हुआ. अडानी ट्रांसमिशन का शेयर 5% यानी करीब 166 रुपये गिरकर 3123.65 रुपये के स्तर पर आ गया.

वैश्विक बाजारों की चाल

एशिया के अन्य बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग नुकसान में, जबकि जापान का निक्केई बढ़त में रहा. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में गिरावट का रुख रहा. यूरोप में ऊर्जा की भारी किल्लत को लेकर चेतावनी के बीच तेल के दाम में तीन डॉलर प्रति बैरल से अधिक की वृद्धि के साथ शेयर बाजार में गिरावट आई. अमेरिकी बाजार में शुक्रवार को गिरावट रही. इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 3.90 प्रतिशत उछलकर 88.46 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया. विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शुक्रवार को 1,565.31 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे.

रुपया 49 पैसे टूटकर 81.89 पर

घरेलू शेयर बाजारों में भारी बिकवाली और कच्चे तेल की कीमतों में तेजी के बीच अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया सोमवार को 49 पैसे की गिरावट के साथ 81.89 प्रति डॉलर (अस्थायी) पर बंद हुआ. मजबूत डॉलर सूचकांक और विदेशी निवेशकों की लगातार निकासी का भी स्थानीय मुद्रा पर असर पड़ा. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.65 प्रति डॉलर पर खुला और कारोबार के दौरान 81.98 के निचले स्तर तक गया. अंत में रुपया अपने पिछले बंद भाव के मुकाबले 49 पैसे की गिरावट के साथ 81.89 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. इससे पिछले कारोबारी सत्र में रुपया 81.40 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं के समक्ष डॉलर की मजबूती को आंकने वाला डॉलर सूचकांक 0.30 प्रतिशत चढ़कर 112.45 पर पहुंच गया.