शेयर बाजारों में लगातार दूसरे दिन गिरावट, बजाज फाइनेंस 7% टूटा

By Ritika Singh
January 05, 2023, Updated on : Thu Jan 05 2023 12:17:59 GMT+0000
शेयर बाजारों में लगातार दूसरे दिन गिरावट, बजाज फाइनेंस 7% टूटा
BSE Sensex शुरुआती बढ़त को बरकरार नहीं रख पाया और 304.18 अंकों की गिरावट के साथ 60,353.27 पर बंद हुआ.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

घरेलू शेयर बाजारों (Stock Markets) में गुरुवार को लगातार दूसरे दिन गिरावट दर्ज की गयी और बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) 304 अंक से अधिक के नुकसान में रहा. विदेशी कोषों की बाजार से निकासी का सिलसिला जारी रहने के बीच बैंक और वित्तीय शेयरों में बिकवाली से बाजार नीचे आया. तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स शुरुआती बढ़त को बरकरार नहीं रख पाया और 304.18 अंकों की गिरावट के साथ 60,353.27 पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान एक समय यह 607.61 अंक तक नीचे आ गया था.


सेंसेक्स के शेयरों में बजाज फाइनेंस 7.21 प्रतिशत नीचे आया. नुकसान में रहने वाले अन्य शेयरों में बजाज फिनसर्व, ICICI बैंक, इन्फोसिस, टाइटन, पावरग्रिड, एक्सिस बैंक, HDFC बैंक, टेक महिंद्रा, विप्रो और भारती एयरटेल शामिल हैं. बजाज फिनसर्व 5 प्रतिशत गिरा है. दूसरी तरफ ITC, हिंदुस्तान यूनिलीवर, NTPC, महिंद्रा एंड महिंद्रा, नेस्ले इंडिया और लार्सन एंड टुब्रो प्रमुख रूप से लाभ में रहे.

Nifty50

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी (NSE Nifty) 50.80 अंकों की गिरावट के साथ 17,992.15 पर बंद हुआ. निफ्टी के सेक्टोरल इंडेक्स में गिरावट और तेजी का मिलाजुला रुख देखने को मिला. निफ्टी पर सिप्ला, बजाज आॅटो, आईटीसी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, जेएसडब्ल्यू स्टील टॉप गेनर्स रहे. दूसरी ओर बजाज फाइनेंस, बजाज फिनसर्व, आईसीआईसीआई बैंक, इन्फोसिस और टाइटन टॉप लूजर्स रहे.

बजाज फाइनेंस क्यों टूटा

पूरे दिन की ट्रेडिंग के दौरान कंपनी का शेयर 8.2 प्रतिशत तक लुढ़क गया था. लेकिन बाद में यह सुधरकर 7.2 प्रतिशत की गिरावट पर सिमट गया. इसके पीछे दिसंबर तिमाही में कंपनी की ऋण वृद्धि में नरमी वजह रही. नई लोन बुकिंग में ग्रोथ सालाना आधार पर 5 प्रतिशत रही है, जो पहले के आंकड़ों के मुकाबले धीमी है. बजाज फाइनेंस के तीसरी तिमाही परिणामों से सामने आया कि दिसंबर 2022 तिमाही के दौरान एसेट्स अंडर मैनेजमेंट (AUM) पिछली तिमाही के मुकाबले केवल 5.7 प्रतिशत बढ़कर 2.3 लाख करोड़ रुपये रहा. सितंबर तिमाही में यह ग्रोथ जून तिमाही की तुलना में 7 प्रतिशत की थी. एक साल पहले की समान तिमाही में AUM 1.8 लाख करोड़ रुपये के आसपास था. इस तरह सालाना आधार पर ग्रोथ 27 प्रतिशत की रही, जो एक साल पहले की दिसंबर तिमाही में सालाना आधार पर 31 प्रतिशत थी. पूरे दिन की ट्रेडिंग के दौरान कंपनी का शेयर 8.2 प्रतिशत तक लुढ़क गया था.

वैश्विक बाजारों की चाल

एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, जापान का निक्केई, चीन का शंघाई कम्पोजिट और हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहे. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में मिला-जुला रुख रहा. अमेरिकी बाजार बुधवार को बढ़त में रहे थे. अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 2.04 प्रतिशत उछलकर 79.43 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने बुधवार को शुद्ध रूप से 2,620.89 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे.